NDTV Khabar

इंग्लैंड के कप्तान एलेस्टेयर कुक ने तोड़ा सचिन का रिकॉर्ड

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
इंग्लैंड के कप्तान एलेस्टेयर कुक ने तोड़ा सचिन का रिकॉर्ड

खास बातें

  1. एलेस्टेयर कुक ने भारत के खिलाफ अपनी शतकीय पारी के दौरान इंग्लैंड की तरफ से सर्वाधिक शतक लगाने का हैमंड का तथा सबसे कम उम्र में 7000 रन पूरे करने का सचिन तेंदुलकर का रिकॉर्ड तोड़ा।
कोलकाता:

एलेस्टेयर कुक ने भारत के खिलाफ अपनी शतकीय पारी के दौरान इंग्लैंड की तरफ से सर्वाधिक शतक लगाने का हैमंड का तथा सबसे कम उम्र में 7000 रन पूरे करने का सचिन तेंदुलकर का रिकॉर्ड तोड़ा। कुक ने अपना 23वां शतक जड़ा और इस तरह से इंग्लैंड की तरफ से टेस्ट क्रिकेट में सर्वाधिक शतक जड़ने वाले बल्लेबाज बने। उन्होंने हैमंड का 73 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ा।

वैसे, हैमंड के अलावा कोलिन काउड्रे, ज्योफ्री बायकाट और केविन पीटरसन के नाम पर भी 22.22 शतक दर्ज हैं। कुक ने तीसरे टेस्ट मैच के दूसरे दिन चाय के विश्राम के बाद ऑफ स्पिनर आर अश्विन की गेंद पर पैडल स्वीप से तीन रन लेकर अपना शतक पूरा किया। यह उनका इस शृंखला का तीसरा और कुल 23वां शतक है जो इंग्लैंड के लिए नया रिकॉर्ड है। अब तक यह रिकॉर्ड हैमंड, काउड्रे, बायकाट, कुक और पीटरसन के नाम पर था। इनमें से हैमंड ने सबसे पहले अगस्त 1939 में अपने देश की तरफ से सर्वाधिक सैकड़े जड़ने का रिकॉर्ड बनाया था। तब से यह रिकॉर्ड उन्हीं के नाम पर दर्ज था। बाद में अन्य खिलाड़ियों ने उनकी बराबरी की, लेकिन कुक पहले बल्लेबाज रहे, जिन्होंने उनका रिकॉर्ड तोड़ा।

अपना 86वां मैच खेल रहे कुक ने अपनी इस पारी के दौरान 88वां रन बनाते ही टेस्ट क्रिकेट में 7000 रन भी पूरे किए। कुक अभी केवल 27 साल 347 दिन के हैं और इस तरह से उन्होंने सबसे कम उम्र में 7000 रन पूरे करने का तेंदुलकर का रिकॉर्ड तोड़ दिया। टेस्ट क्रिकेट में सर्वाधिक रन बनाने वाले तेंदुलकर जब इस मुकाम पर पहुंचे थे तब उनकी उम्र 28 साल 193 दिन थी।


वह इस मुकाम पर पहुंचने वाले दसवें इंग्लिश बल्लेबाज हैं। उनसे पहले इंग्लैंड की तरफ से ग्राहम गूच, एलेक स्टीवर्ट, डेविड गावर, बायकाट, माइक एथरटन, कोलिन काउड्रे, पीटरसन, हैमंड और एंड्रयू स्ट्रॉस यह उपलब्धि हासिल कर चुके हैं। बाएं हाथ के बल्लेबाज कुक ने कप्तान के तौर पर लगातार पांचवें टेस्ट मैच में शतक जमाया। यह कारनामा करने वाले वह दुनिया के पहले बल्लेबाज हैं। भारत के सुनील गावस्कर ने कप्तान के रूप में अपने पहले चार मैच में शतक लगाए थे, लेकिन वह बीच में एक मैच में शतक नहीं बना पाये थे जबकि एक मैच में उन्होंने दो शतक जड़े थे। इस तरह से कप्तान के रूप में पहले चार मैच में चार शतक लगाने का रिकॉर्ड अब तक कुक और गावस्कर के नाम पर था।

कुक का यह शृंखला में लगातार तीसरा शतक है। इस तरह से वह एवर्टन वीक्स, गैरी सोबर्स, केन बैरिंगटन और अपने वर्तमान कोच एंडी फ्लावर की श्रेणी में शामिल हो गए हैं, जिन्होंने भारत में लगातार तीन मैच में शतक जमाए।

वैसे, इंग्लैण्ड की ओर से इससे पहले सिर्फ केन बेरिंगटन ने लगातार चार मैचों में शतक ठोकने का कारनामा किया है, और वह भी दो-दो बार। पहली बार उन्होंने वर्ष 1961 में लाहौर में पाकिस्तान के खिलाफ शतक ठोका, और उसके बाद लगातार तीन टेस्ट मैचों में भारत के खिलाफ क्रमशः मुंबई, कानपुर और दिल्ली में शतक लगाए। बेरिंगटन ने दूसरी बार यही कारनामा वर्ष 1967-68 में किया, जब लॉर्ड्स, नॉटिंघम और ओवल के मैदानों में उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ शतक लगाए, और 1968 में पोर्ट ऑफ स्पेन में खेले अपने पहले मैच में वेस्ट इंडीज़ के खिलाफ भी शतक ठोका।

इसके अलावा सर जैक हॉब्स, और वॉली हैमन्ड ने भी लगातार तीन शतक ठोकने का कारनामा दो-दो बार किया है। उल्लेखनीय है कि हॉब्स ने दोनों बार यह कारनामा ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ किया। पहली बार वर्ष 1911-12 में और फिर वर्ष 1924-25 में उन्होंने लगातार तीन मैचों में तीन शतक लगाए। हैमन्ड ने पहली बार वर्ष 1928-29 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ, और दूसरी बार वर्ष 1933 में ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैण्ड के खिलाफ लगातार तीन टेस्ट मैचों में तीन-तीन शतक लगाए।

टिप्पणियां

दिलचस्प तथ्य यह है कि एक बार यह करतब कर दिखाने वाले इंग्लैण्ड के बल्लेबाजों में भी केन बेरिंगटन शामिल हैं, जिन्होंने वर्ष 1963 में ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैण्ड के खिलाफ लगातार तीन टेस्ट मैचों में तीन शतक ठोके। एक बार यह कारनामा करने वाले अन्य इंग्लिश बल्लेबाजों की सूची में हरबर्ट सटक्लिफ, डेनिस कॉम्पटन, जेफरी बॉयकॉट, एलेन लैम्ब, क्रिस ब्रॉड, ग्राहम गूच, इयान बेल, एंड्रयू स्ट्रॉस, और रवि बोपारा शामिल हैं।

वैसे सबसे ज़्यादा लगातार मैचों में शतक ठोकने का रिकॉर्ड ऑस्ट्रेलिया के सर डॉन ब्रैडमैन के नाम है, जिन्होंने वर्ष 1937-38 में इंग्लैण्ड के खिलाफ लगातार छह मैचों में शतक लगाए थे। डॉन ब्रैडमैन ने इसके अलावा लगातार चार मैचों में शतक ठोकने का कारनामा भी दो बार किया। उधर, लगातार पांच मैचों में यह कारनामा करने वाले खिलाड़ियों में दक्षिण अफ्रीका के जैक कालिस, पाकिस्तान के मोहम्मद यूसुफ और भारत के गौतम गंभीर शामिल हैं। लगातार चार टेस्ट मैचों में शतक लगाने वाले खिलाड़ियों में भी भारत की ओर से सुनील गावस्कर, राहुल द्रविड़, और सचिन तेंदुलकर शामिल हैं, जबकि लगातार तीन मैचों में शतक लगाने वालों की सूची में भारत की ओर से विजय हजारे, पोली उमरीगर, सुनील गावस्कर, वीरेंद्र सहवाग, और मोहम्मद अज़हरुद्दीन का नाम दर्ज है, जिनमें से अज़हरुद्दीन ने यह कारनामा दो बार किया।



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement