NDTV Khabar

आशीष नेहरा: 18 साल के कैरियर में 12 सर्जरी लेकिन फिर भी हार नहीं मानी

दिल्ली के फ़िरोज़शाह कोटला मैदान पर आशीष नेहरा ने बुधवार को अपने क्रिकेट कैरियर का आखिरी अंतराष्ट्रीय मैच खेला.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
आशीष नेहरा: 18 साल के कैरियर में 12 सर्जरी लेकिन फिर भी हार नहीं मानी

आशीष नेहरा ने अपना पहला इंटरनेशनल मैच वर्ष 1999 में खेला था

खास बातें

  1. कल के मैच में अपने नाम पर बने बॉलिंग एंड से गेंदबाजी करते दिखे
  2. अटापट्टू को आशीष नेहरा ने बनाया था पहला टेस्‍ट शिकार
  3. लगातार चोटों के कारण बुरी तरह प्रभावित रहा करियर

दिल्ली के फ़िरोज़शाह कोटला मैदान पर आशीष नेहरा ने बुधवार को अपने क्रिकेट कैरियर का आखिरी अंतराष्ट्रीय मैच खेला. इस मैदान में नेहरा ने प्रथम श्रेणी क्रिकेट के जरिये अपना क्रिकेट कैरियर शुरू किया था. 1999 में अपना अंतराष्ट्रीय कैरियर शुरू करने वाले नेहरा 18 साल तक क्रिकेट खेलने में सफल रहे. 38 साल की उम्र तक क्रिकेट खेलना कोई आसान बात नहीं. हालांकि नेहरा से ज्यादा उम्र के खिलाड़ी क्रिकेट खेल रहे हैं लेकिन 12 बार सर्जरी के बाद बार-बार टीम में वापसी करना नेहरा के क्रिकेट के प्रति समर्पण को दिखाता है. इन 18 सालों में सिर्फ 17 टेस्ट,120 वनडे और 27 टी 20  मैच खेल पाए. इंजरी के वजह से नेहरा को ज्यादातर समय क्रिकेट से दूर रहना पड़ा. आखिरी मैच में नेहरा के नाम एक नया रिकॉर्ड भी कायम हो गया. जेम्स एंडरसन के बाद नेहरा दूसरे ऐसे खिलाड़ी बन गए हैं जो अपने नाम पर बने “प्लेइंग एन्ड” से गेंदबाज़ी करते हुए नज़र आए. बुधवार को दिल्ली डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन (डीडीसीए) ने एक दिन के लिए नेहरा के नाम पर एक प्लेइंग एन्ड बनाया.

यह भी पढ़ें: मैच में आशीष नेहरा ने किया कुछ ऐसा, विराट कोहली हंस-हंसकर हुए लोटपोट


मोहम्मद अज़हरुद्दीन के कप्तानी में क्रिकेट खेलना शुरू किया
वर्ष 1999 में आशीष नेहरा का भारतीय टीम में चयन हुआ. 24 फरवरी 1999 को नेहरा ने अपना पहला मैच मोहम्मद अज़हरुद्दीन के कप्तानी में श्रीलंका के खिलाफ कोलंबो के मैदान पर खेला. इस मैच में नेहरा 28 ओवर गेंदबाज़ी करते हुए सिर्फ एक विकेट लेने में कामयाब हुए थे. श्रीलंका के मर्वन अटापट्टू नेहरा का अंतराष्ट्रीय क्रिकेट का पहला शिकार बने थे. इस मैच के बाद नेहरा को दो साल तक क्रिकेट से दूर रहना पड़ा. फिर 2001 में सौरव गांगुली के कप्तानी में नेहरा का टीम में चयन हुआ. ज़िम्बाब्वे के खिलाफ इस सीरीज में नेहरा ने दो मैच खेलते हुए 11 विकेट लिए थे. नेहरा का टेस्ट करियर ज्यादा दिन तक नहीं चल पाया.  उन्‍होंने अपना आखिरी टेस्ट मैच 13 अप्रैल 2004 को सौरव गांगुली के कप्तानी में पाकिस्तान के खिलाफ खेला था. इस के बाद नेहरा का टेस्ट टीम में कभी चयन नहीं हुआ. नेहरा टेस्ट मैच के एक पारी में कभी भी पांच विकेट लेने में सफल नहीं हो पाए.

यह भी पढ़ें:आखिरी मैच से पहले धोनी और कोहली ने नेहरा को भेंट की 'खास ट्रॉफी'   

घरेलू मैदान पर टेस्‍ट में लिया सिर्फ एक विकेट
टेस्ट मैच में आशीष नेहरा को भारत में खेलने का ज्यादा मौका नहीं मिला. 1999 से लेकर 2004 के बीच नेहरा ने 17 टेस्ट मैच खेले और इसमें से 16 मैच विदेशी मैदान पर खेले जबकि सिर्फ एक मैच वे घरेलू मैदान पर खेले. अगर घरेलू मैदान की बात की जाए तो 23 अक्टूबर 2002 को कोलकाता के ईडन गार्डंस मैदान पर नेहरा अपना पहला मैच खेला. घरेलू मैदान पर नेहरा का टेस्ट करियर का यह पहला और आखिरी टेस्ट मैच था. वेस्टइंडीज के खिलाफ खेले गए इस मैच में नेहरा ने 23 ओवर गेंदबाज़ी करते हुए सिर्फ एक विकेट लिया यानी घरेलू मैदान पर नेहरा टेस्ट क्रिकेट में सिर्फ एक विकेट लेने में कामयाब हुए. टेस्ट क्रिकेट में नेहरा कुल मिलाकर 44 विकेट लेने में सफल रहे जिस में 43 विकेट विदेशी मैदान पर लिए.

वनडे में कई कप्तानों के नेतृत्व में खेले
सौरव गांगुली के कप्तानी में नेहरा ने अपना वनडे करियर शुरू किया. 24 जून 2001 को ज़िम्बाब्वे के खिलाफ नेहरा ने अपना पहला वनडे मैच खेला.इस मैच में नेहरा ने 10 ओवर गेंदबाज़ी करते हुए 33 रन देकर दो विकेट लिए थे. नेहरा ने सौरव गांगुली के कप्तानी में सबसे ज्यादा वनडे मैच खेलने में सफल हुए. राहुल द्रविड़ के कप्तानी में भी नेहरा ने कुछ वनडे खेले. 2005 से लेकर 2009 के बीच बार बार इंजुरी और सर्जरी के वजह से नेहरा को करीब चार साल तक क्रिकेट से दूर रहना पड़ा. 26 जून 2009 को महेंद्र सिंह धोनी के कप्तानी में नेहरा की चार साल के बाद वनडे में वापसी हुई. 21 और 24 दिसंबर 2009 को वीरेंद्र सहवाग की कप्तानी में भी नेहरा ने दो मैच खेले. 28  नवंबर और 10 दिसंबर 2010 के बीच गौतम गंभीर के कप्तानी में आशीष नेहरा ने पांच वनडे मैच मैच खेले. 2001 से लेकर 2011 के बीच नेहरा 120 वनडे मैच खेले और 157 विकेट लेने में कामयाब हुए.

टिप्पणियां

वर्ल्डकप में भारत के तरफ से गेंदबाज़ में बेहतरीन प्रर्दशन
आशीष नेहरा वर्ल्डकप के किसी मैच में भारत के तरफ से गेंदबाजी में बेहतरीन प्रदर्शन करने के मामले में पहले स्थान पर हैं. 26 फरवरी 2003 को इंग्लैंड के खिलाफ शानदार गेंदबाज़ी करते हुए नेहरा ने 10 ओवर में 23 रन देकर 6 विकेट लिए थे.  यह नेहरा के वनडे करियर का बेहतरीन प्रदर्शन है. वनडे मैचों में भारत के तरफ से सबसे शानदार प्रदर्शन करने के मामले में स्टुअर्ट बिन्नी पहले स्थान पर हैं जबकि अनिल कुंबले दूसरे स्थान पर.  17 जनवरी 2014 को बांग्लादेश के खिलाफ बिन्नी ने सिर्फ 4.4 ओवर गेंदबाजी करते हुए सिर्फ चार रन देकर 6 विकेट लिए थे जबकि 27 नवंबर 1993 में वेस्टइंडीज के खिलाफ अनिल कुंबले ने 6.1 ओवर गेंदबाज़ी करते हुए 12 रन देकर छह विकेट लिए थे.

वीडियो: गावस्‍कर ने इस अंदाज में की विराट कोहली की तारीफ
नेहरा के बारे में विराट कोहली ने यह कहा
अगर T20 की बात की जाए तो 9 दिसंबर 2009 को महेंद्र सिंह धोनी के कप्तानी में आशीष नेहरा ने टी 20 मैच खेलना शुरू किया. 2009 से लेकर 2016 के बीच नेहरा ने धोनी के कप्तानी में 23 टी 20 मैच खेले. धोनी के कप्तानी छोड़ने के बाद विराट कोहली के कप्तानी में नेहरा ने चार मैच खेले. बुधवार को कोहली के कप्तानी में ही नेहरा ने अपना आखिरी मैच खेला. बुधवार के मैच के बाद कप्तान विराट कोहली ने नेहरा का तारीफ करते हुए कहा कि एक तेज गेंदबाज़ को 19 साल तक क्रिकेट खेलना आसान बात नहीं. कोहली ने कहा कि उन्हें पता है कि नेहरा कितने मेहनती और पेशेवर हैं. कोहली ने कहा कि 2003 में जब नेहरा इंटरनेशनल क्रिकेट में आये थे तब कोहली सिर्फ 13 साल के थे.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement