Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

वर्ल्डकप 2019 में टीम इंडिया की हार के बाद बैटिंग कोच संजय बांगर पर गिर सकती है गाज, यह है वजह..

वर्ल्डकप 2019 में टीम इंडिया की हार के बाद बैटिंग कोच संजय बांगर पर गिर सकती है गाज, यह है वजह..

Sanjay Bangar: BCCI अधिकारियों ने बैटिंग कोच संजय बांगर की कार्यशैली पर उठाए सवाल

खास बातें

  • टीम की हार के साथ ही खिलाड़ियों और कोचिंग स्टाफ पर उठने लगे हैं सवाल
  • टीम इंडिया के कोचिंग स्टाफ का 45 दिनों के लिए बढ़ाया गया था अनुबंध
  • बैटिंग कोच संजय बांगर से खुश नहीं है BCCI के अधिकारी
लंदन:

IND vs NZ: मैनचेस्टर के ओल्‍ड ट्रैफर्ड मैदान पर वर्ल्डकप 2019 (World Cup 2019) के पहले सेमीफाइनल में भारतीय क्रिकेट टीम (India Cricket team) को न्यूजीलैंड के हाथों 18 रनों से हार का सामना करना पड़ा. इस हार के साथ ही भारतीय टीम का वर्ल्डकप का अभियान भी समाप्त हो गया. टीम की हार के बाद भारतीय फैंस ने टीम और उसके मैनेजमेंट पर सवाल उठाने शुरू कर दिए. टूर्नामेंट के दौरान ही टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री (Ravi Shastri) और उनके स्टाफ का अनुबंध समाप्त होने के बाद भी 45 दिन बढ़ा दिया गया था. इसके बावजूद टीम को हार का सामना करना पड़ा. हालांकि सूत्रों से पता चला है कि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) में मौजूद कुछ समूह ने सहायक कोच संजय बांगर (Sanjay Bangar) की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाए हैं. उनका मानना है कि संजय को ओर बेहतर काम करना चाहिए था. 

World Cup: इंग्लैंड से हार के बाद भी ऑस्ट्रेलियाई कप्तान एरॉन फिंच को अपनी टीम पर 'इस बात' का है गर्व

आम तौर पर माना जा रहा है कि गेंदबाजी कोच भरत अरुण की अगुवाई में टीम के गेंदबाजों ने असाधारण प्रदर्शन किया, जबकि आर. श्रीधर के नेतृत्व में टीम की फील्डिंग में भी काफी सुधार हुआ है. लेकिन बल्लेबाजी के बारे में भी ऐसा नहीं कहा जा सकता. एक तथ्य यह भी है कि टूर्नामेंट में भारतीय टीम के ऊपरी क्रम के आउट होने के बाद मध्य क्रम टीम को संभालने में नाकाम रहा. BCCI के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इस बारे में कहा कि मध्यक्रम में लगातार बदलाव करना कुछ ऐसा था जिसने भारतीय टीम को न केवल वर्ल्डकप में, बल्कि पिछली कुछ सीरीज में भी नुकसान पहुंचाया है. अधिकारी ने कहा कि और बांगर के लिए इस समस्या का समाधान नहीं खोजना एक ऐसी चीज है जो टीम की कोचिंग पर खराब असर डालती है. 

कुछ ऐसे आईसीसी के बड़े टूर्नामेंटों में चोकर्स साबित हो रही टीम इंडिया

अधिकारी ने कहा, 'यह एक निरंतर संघर्ष था. जबकि हम सभी खिलाड़ियों के समर्थक हैं और उनके पास इस बुरे दिन को छोड़कर एक अच्छा टूर्नामेंट था.' उन्होंने कहा, 'सहयोगी स्टाफ की प्रक्रियाओं और निर्णय लेने से पहले निश्चित रूप से पूरी तरह से जांच की जाएगी कि उनके भविष्य के बारे में कोई निर्णय लिया जा रहा है या नहीं. इसके अलावा यह बहुत असाधारण बात थी जब बांगर ने भारतीय मीडिया के सामने कहा कि प्रत्येक खिलाड़ी चयन के लिए उपलब्ध है और फिट है. हालांकि बाद में हरफनमौला विजय शंकर को चोट के कारण टूर्नामेंट से बाहर होना पड़ा था.'  

AUS vs ENG: ऑस्ट्रेलिया को 8 विकेट से रौंदकर फाइनल में पहुंचा इंग्लैंड

हालांकि वर्ल्डकप के दौरान प्रशासक समिति (COA) ने टीम के कोचिंग स्टाफ को 45 और दिन दिए हैं. इसके बावजूद BCCI द्वारा अगली नियुक्ति किए जाने से पहले कुछ सदस्यों से कुछ गंभीर सवाल पूछे जा सकते हैं.

VIDEO:  वर्ल्ड कप 2019 के पहले सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से 18 रनों से हारकर बाहर हुआ भारत