बेस्ट ऑलराउंडर अवार्ड, पर अब एक भी टीम में जगह नहीं, 'यह है वजह'

बेस्ट ऑलराउंडर अवार्ड, पर अब  एक भी टीम में जगह नहीं, 'यह है वजह'

परवेज रसूल की फाइल फोटो

खास बातें

  • साल 2016-17 के लिए लाला अमरनाथ ट्रॉफी
  • पिछले दो साल से आईपीएल से बाहर हैं परवेज
  • इंग्लैंड दौरे के लिए नहीं मिली टीम में जगह
नई दिल्ली:

कुछ समय पहले की ही बात है, जब राष्ट्रीय क्रिकेट में एक ताजा हवा का झोंका नकारात्मक खबरों के लिए चर्चा में हने वाले कश्मीर से आया. और यह झोंका थे ऑलराउंडर परवेज रसूल. परवेज को बीसीसीआई के सालाना अवार्ड के तहत साल 2016-17 में घरेलू क्रिकेट मतलब रणजी ट्रॉफी में बेहतरीन प्रदर्शन के लिए सर्वश्रेष्ठ ऑलराउंडर चुना गया. इस ऑफ स्पिनर को लाला अमरनाथ ट्रॉफी प्रदान की गई. लेकिन इसके बावजूद यह ताजा हवा का झोंका एकदम से ही परिदृश्य से गायब सा हो गया है. साल 2014 में भारत के लिए वनडे करियर और पिछले साल टी-20 की पारी शुरुआत करने वाले परवेज रसूल इंग्लैंड दौरे पर जाने वाली भारतीय ए टीम का भी हिस्सा नहीं हैं. 

साल 2016-17 में परवेज रसूल ने जम्मू-कश्मीर के लिए 9 रणजी ट्रॉफी मुकाबलों में 39.31 के औसत से 629 रन बनाए. इसके अलावा इस सेशन में ऑफ स्पिनर रसूल ने अपने राज्य के लिए सबसे ज्यादा 38 विकेट चटकाए. इस प्रदर्शन का परवेज को इनाम बुधवार को उन्हें बीसीसीआई की तरफ से लाला अमरनाथ ट्रॉफी के रूप में मिला. लेकिन यह बहुत ही चौंकाने वाली बात है कि परवेज के इस प्रभावी रिकॉर्ड के बावजूद वह आईपीएल में किसी टीम के गणित में फिट नहीं हो सके. 

यह भी पढ़ें:  जम्मू-कश्मीर के क्रिकेटर परवेज रसूल ने एमएस धोनी से किया यह खास अनुरोध, मना नहीं कर पाए माही और फिर...


वहीं, परवेज ने अपना आईपीएल करियर का आगाज करते हुए साल 2013 में हैदराबद के लिए 2 मैच खेले, तो वह आईपीएल में आखिरी बार साल 2016 में खेले. इस साल वह चार मैच खेले, लेकिन वह न तो ज्यादा बल्ले से असर छोड़ सके. और न ही गेंद से. बैटिंग में उनका औसत 10.00 का रहा,  14 ओवर में वह सिर्फ 1 ही विकेट चटका सके. और अगले घरेलू सेशन (रणजी ट्रॉफी) में भी उनका प्रदर्शन वैसा नहीं रहा, जिस साल के लिए उन्हें बेस्ट ऑलराउंडर का अवार्ड दिया गा है. 

VIDEO: जब जम्मू-कश्मीर ने रणजी ट्रॉफी में 2014 में मुंबई को हराया, तो रसूल ने एनडीटीवी से बात की थी.इस साल समाप्त हुए सत्र में परवेज ने 6 मैचों में 29.72 के औसत से 327 रन बनाए, तो  6 मैचों में उनके हिस्से में 28 विकेट आए. साल 2016-17 के मुकाबले दोनों ही विभागों में उनका प्रदर्शन में थोड़ी गिरावट है. लेकिन यह चौंकाता ही है क्या परवेज रसूल अब भारत ए टीम के लायक भी नहीं हैं ?

 


 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com