NDTV Khabar

भरत अरुण टीम इंडिया के बॉलिंग कोच बने, वर्ल्‍डकप 2019 तक संभालेंगे जिम्‍मेदारी

भरत अरुण 2019 के वर्ल्‍डकप तक टीम इंडिया के बॉलिंग कोच की जिम्‍मेदारी संभालेंगे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भरत अरुण टीम इंडिया के बॉलिंग कोच बने, वर्ल्‍डकप 2019 तक संभालेंगे जिम्‍मेदारी

भरत अरुण गेंदबाजी कोच के रूप में टीम इंडिया को सेवाएं देंगे (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. 80 के दशक में दो टेस्‍ट और चार वनडे खेल चुके हैं
  2. श्रीलंका के खिलाफ किया था अपने करियर का आगाज
  3. श्रीधर गेंदबाजी कोच और संजय बांगर सहायक कोच होंगे
नवनियुक्त मुख्य कोच रवि शास्त्री की मांग को स्वीकार करते हुए भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने पूर्व तेज गेंदबाज भरत अरुण को भारतीय क्रिकेट टीम का गेंदबाजी कोच नियुक्त किया है, इससे इस पद को लेकर पिछले कई दिनों से चल रहा नाटकीय घटनाक्रम भी समाप्त हो गया. शास्त्री वर्ष 2014 से 2016 तक जब भारतीय टीम के  निदेशक थे तब भी अरुण गेंदबाजी कोच थे. उन्होंने जल्द ही शुरू होने वाले अपने दूसरे कार्यकाल के दौरान भी अरुण को ही यह जिम्मेदारी सौंपने के लिये कहा था. अरुण को दो साल के अनुबंध पर नियुक्त करने का फैसला शास्त्री की प्रशासकों की समिति (सीओए) तथा कार्यवाहक अध्यक्ष सीके खन्ना और सचिव अमिताभ चौधरी सहित बीसीसीआई अधिकारियों से मुलाकात के बाद किया गया. विजयवाड़ा के भरत अरुण 80 के दशक में भारत के लिए दो टेस्‍ट और चार वनडे मैच खेल चुके हैं. उन्‍होंने दिसंबर 1986 में श्रीलंका के खिलाफ कानपुर में टेस्‍ट डेब्‍यू किया था. इसी वर्ष उन्‍होंने श्रीलंका के खिलाफ अपने वनडे करियर का आगाज किया था. टेस्‍ट क्रिकेट में 4 और वनडे में एक विकेट उनके नाम पर दर्ज हैं. इंटरनेशनल क्रिकेट में भरत अरुण ने भले ही कम मैच खेले हैं लेकिन प्रथम श्रेणी क्रिकेट में खेलने का पर्याप्‍त अनुभव उनके पास है. 48 मैचों में 32.44 के औसत से 110 विकेट उनके नाम पर दर्ज हैं.

वीडियो: रवि शास्‍त्री पिछले सप्‍ताह बने थे टीम इंडिया के कोच




चौधरी के संवाददाता सम्मेलन में नियुक्ति की घोषणा करने के बाद शास्त्री ने कहा, ‘मेरी अपनी मुख्य टीम को लेकर सोच स्पष्ट थी और आपने अभी उसके बारे में सुना.’ इसके अलावा बीसीसीआई ने वनडे वर्ल्‍डकप 2019 तक संजय बांगर को सहायक कोच और आर श्रीधर को फील्डिंग कोच नियुक्त करने का भी फैसला किया. उनकी नियुक्ति का मतलब है कि बीसीसीआई ने पूरी तरह से यू टर्न लिया है। उसने पहले जहीर खान को गेंदबाजी सलाहकार नियुक्त किया था और बाद में स्पष्टीकरण दिया था कि यह केवल विदेशी दौरों के लिए है. राहुल द्रविड़ की बल्लेबाजी सलाहकार पद पर स्थिति को लेकर भी कुछ स्पष्टता नहीं है.

जहीर और द्रविड़ के बारे में पूछे गये सवाल पर शास्त्री का जवाब था, ‘यह सब उनकी उपलब्धता पर निर्भर करता है. यह एक व्यक्ति पर निर्भर करता है कि वह कितने दिन टीम को देना चाहता है लेकिन उनकी राय अमूल्य होगी और उनका स्वागत है.’ रवि शास्त्री अपनी नियुक्ति की घोषणा के समय लंदन में थे. उन्होंने इस महत्वपूर्ण पद पर उनका चयन करने के लिए क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) का आभार व्यक्त किया जिसमें सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण शामिल हैं. उन्होंने कहा, ‘मैं सीएसी का आभार व्यक्त करना चाहूंगा क्योकि भारतीय टीम का कोच बनना बड़ा सम्मान है. मैं सीएसी का इसलिए भी आभार व्यक्त करता हूं कि उसने मुझे इस पद के लायक समझा.’(भाषा से इनपुट)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement