NDTV Khabar

बीसीसीआई की प्रशासकों की समिति सौंपना चाहती है कपिल देव को यह बड़ी जिम्‍मेदारी....

सीओए ने अपनी रिपोर्ट सर्वोच्च अदालत में पेश की है, जिसमें उसने अपनी इस सिफारिश को रखा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बीसीसीआई की प्रशासकों की समिति सौंपना चाहती है कपिल देव को यह बड़ी जिम्‍मेदारी....

कपिलदेव ने कप्‍तानी में ही भारतीय टीम 1983 के वर्ल्‍डकप में चैंपियन बनी थी (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. खिलाड़ियों के संघ के गठन में मदद के लिए नाम का प्रस्‍ताव किया
  2. समिति में कपिल सहित चार लोगों को रखने की सिफारिश की
  3. सीओए ने इस बारे में अपनी रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट में पेश की है
नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) की प्रशासकों की समिति (सीओए) ने लोढा समिति द्वारा खिलाड़ियों का संघ स्थापित करने की सिफारिश को लागू करने के उद्देश्य से संघ के गठन में मदद देने के लिए एक चार सदस्यीय संचालन समिति में कपिल देव, अंशुमान गायकवाड़, भरत रेड्डी और जीके पिल्लई को शामिल करने की सिफारिश की है. सीओए ने अपनी रिपोर्ट सर्वोच्च अदालत में पेश की है, जिसमें उसने अपनी इस सिफारिश को रखा है. अपनी रिपोर्ट में सीओए ने कहा है, "अदालत संचालन समिति के लिए जीके पिल्लई, कपिल देव, अंशुमान गायकवाड़ और भरत रेड्डी के नामों पर विचार करे." सीओए ने अदालत से कहा कि वह रामचंद्र गुहा के इस्तीफे के बाद रिक्त हुए पद पर किसी की नियुक्ति करे.

सीओए ने अपनी रिपोर्ट में कहा है, "प्रशासकों की समिति के एक सदस्य रामचंद्र गुहा ने हाल ही में अपना इस्तीफा सौंपा है. समिति के एक और सदस्य विक्रम लीमये ने अपील दायर करते हुए काम न कर पाने के कारणों का उल्लेख किया है. इसको ध्यान में रखते हुए प्रशासकों की समिति में रिक्त हुई जगह को भरने की जरूरत है."

सर्वोच्च अदालत द्वारा गठित सीओए ने अदालत में कहा कि बीसीसीआई का नया संविधान सितंबर से पहले अस्तित्व में आ जाना चाहिए. इसी दौरान बोर्ड की वार्षिक आम बैठक और बोर्ड के चुनाव होने हैं. सीओए ने कहा, "बीसीसीई के मौजूदा संविधान के अनुसार एजीएम में हर तीन साल के बाद बोर्ड के चुनाव होते हैं. सीओए को बताया गया है कि बीसीसीआई की एजीएम आमतौर हर साल सिंतबर के महीने में होती है और आने वाले सितंबर में बीसीसीआई अधिकारियों के चुनाव भी होने हैं. इन परिस्थितियों में इस बात को सुनिश्चित करने की जरूरत है कि बीसीसीआई का नया संविधान सितंबर से पहले लागू किया जाए ताकि इसी के अनुसार एजीएम और चुनाव कराए जाएं." अदालत में सीओए द्वारा दाखिल रिपोर्ट के मुताबिक, "सीओए अदालत से आग्रह करता है कि (भारतीय संविधान के अनुच्छेद 142 के आधार पर) सीओए के बीसीसीआई के नए सविंधान को बनाने, लोकपाल की नियुक्ति, लोकपाल को आगामी सितंबर में होने वाली एजीएम की फिर से नियुक्ति और खिलाड़ियों के संघ के गठन के लिए फिर से संचालन समिति गठित करने की इजाजत दी जाए."

टिप्पणियां
सीओए ने साथ ही ऑडिट रिपोर्ट की जांच के लिए एक नई समिति गठित करने की भी मांग की है. इसने ने अपनी रिपोर्ट में कहा, "सीओए का मानना है कि शीर्ष अदालत के किसी पूर्व न्यायाधीश की अध्यक्षता में एक उप-नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक तथा जांच संबंधित मामलों में अच्छा अनुभव रखने के वाले किसी शख्स वाली तीन सदस्यीय विशेष समिति का गठन करना चाहिए, जो ऑडिट रिपोर्ट तैयार वाली कंपनी के साथ बैठकर रिपोर्ट की जांच करेगी." सीओए ने कहा, "ऑडिट रिपोर्ट में संबद्ध सदस्यों या राज्य संघों द्वारा की किसी तरह की गड़बड़ियों का संकेत मिलने पर उनके खिलाफ एक फॉरेंसिक ऑडिट का आदेश दिया जाए और गड़बड़ियों के लिए जिम्मेदार पाए गए व्यक्तियों के खिलाफ कार्रवाई शुरू की जाए."

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement