भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच 30 साल पहले टाई हुए टेस्ट मैच के खिलाड़ियों का चेन्नई में सम्मान

भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच 30 साल पहले टाई हुए टेस्ट मैच के खिलाड़ियों का चेन्नई में सम्मान

टीएनसीए ने किया खिलाड़ियों को सम्मानित

खास बातें

  • यह ऐतिहासिक टेस्ट मैच 18-22 सितंबर 1986 को चेन्नई में खेला गया था
  • मैच में डीन जॉन्स ने तबीयत खराब होने के बावजूद दोहरा शतक जड़ा था
  • भारत की पहली पारी में कपिल देव ने भी 119 रनों की पारी खेली थी
नई दिल्ली:

साल 1986 में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चेन्नई में एक रोमांचक टेस्ट मैच खेला गया था. लेकिन अंतत: यह टाई पर खत्म हुआ. तमिलनाडु क्रिकेट एसोसिएशन (टीएनसीए) ने 30 साल पहले हुए इस ऐतिहासिक टेस्ट मैच में खेल चुके चार दिग्गज खिलाड़ियों को रविवार को विशेष रूप से सम्मानित किया.

उस ऐतिहासिक टेस्ट मैच की 30वीं वर्षगांठ के मौके पर एम.ए. चिदंबरम स्टेडियम में तमिलनाडु प्रीमियर लीग 2016 के फाइनल के दौरान दो पारियों के बीच पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान एलन बॉर्डर, डीन जॉन्स, पूर्व भारतीय कप्तान रवि शास्त्री और के. श्रीकांत को सम्मानित किया गया.

के. श्रीकांत ने इस मौके पर कहा, 'टाई हुए उस टेस्ट मैच में खेले सभी खिलाड़ियों की ओर से मैं एन. श्रीनिवासन और टीएनसीए के सभी सदस्यों और यहां इकट्ठा सभी लोगों का शुक्रिया अदा करता हूं. क्रिकेट इतिहास में सर्वकालिक महान खिलाड़ियों में से एक एलन बॉर्डर यहां खड़े हैं. डीन जॉन्स उस दिन लगातार उल्टियां कर रहे थे, फिर भी उन्होंने दोहरा शतक लगाया. क्या जबरदस्त मैच था वह! इतिहास का हिस्सा बनना अच्छा लगता है और कल्पना कीजिए कि टेस्ट मैच टाई पर खत्म हुआ.'

इस बीच बॉर्डर ने भी उस मैच से जुड़े कुछ क्षणों को याद किया. पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान ने कहा, 'मैं मानता हूं कि मैंने सोचा भी नहीं था कि भारत एक दिन में 348 रनों का पीछा कर सकता है. इसलिए मैच के पांचवे दिन सुबह जब मैं उठा तो मेरे लिए निर्णय लेना आसान था. मैंने सोचा हम बिल्कुल सुरक्षित हैं और हम भारत के 10 विकेट गिराकर मैच जीत लेंगे.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

उन्होंने आगे कहा, 'लेकिन सुनील गावस्कर कुछ और ही सोचकर आए थे और उन्होंने क्रीज पर उतरते ही गेंद को मैदान पर हर तरफ मारना शुरू कर दिया. उन्होंने बहुत ही अच्छे 90 रन बनाए और जिमी (मोहिंदर) अमरनाथ के साथ तेज साझेदारी की. जिमी के आउट होने के बाद भी वे अपने काम में जुटे रहे. अचानक खेल ने आकार लेना शुरू कर दिया. हम एक शानदार मैच का हिस्सा रहे.'

वह ऐतिहासिक मैच 18 से 22 सितंबर के बीच साल 1986 में चेन्नई में खेला गया था. एलन बॉर्डर इस मैच में ऑस्ट्रेलिया के कप्तान थे और उन्होंने पहली पारी में शतक जड़ा था. इसी मैच में डीन जॉन्स के दोहरे शतक को भी कोई कैसे भूल सकता है. पहली पारी में कपिल देव ने भी 119 रनों की पारी खेली थी. दूसरी पारी में रनों का पीछा करते हुए जब भारत का आखिरी विकेट गिरा उस समय रवि शास्त्री दूसरे छोर पर 40 गेंदों में 48 रन बनाकर खड़े थे.