NDTV Khabar

साल 2017 में क्रिकेट की दुनिया के कई सितारे ब्रैडमैन की तरह चमके...

पर्थ में कप्तान स्टीवन स्मिथ ने अपने 60वें टेस्ट मैच में दूसरी बार डबल सेंचुरी ठोकी. पिछली बार भी उनका दोहरा शतक इंग्लैंड के ही खिलाफ आया था.

124 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
साल 2017 में क्रिकेट की दुनिया के कई सितारे ब्रैडमैन की तरह चमके...

स्टीवन स्मिथ की फाइल तस्वीर

नई दिल्ली: साल 2017 में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में कई 'धमाके' हुए. कुछ सितारे ऐसे चमके कि कई मायनों में सर डॉन ब्रैडमैन की बराबरी करते नजर आए, लेकिन कुछ सितारों ने हमेशा की तरह विवादों का दामन थामे रखा. पूरे साल भारतीय क्रिकेट फैन्स भी दुनिया भर की अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट की सुर्खियों में अपने सितारों को सराहते रहे. पर्थ में कप्तान स्टीवन स्मिथ ने अपने 60वें टेस्ट मैच में दूसरी बार डबल सेंचुरी ठोकी. पिछली बार भी उनका दोहरा शतक इंग्लैंड के ही खिलाफ आया था. 2015 में करीब ढाई साल पहले लॉर्ड्स पर स्मिथ ने इंग्लैंड के ही खिलाफ 215 रनों की पारी खेली थी. बतौर कप्तान स्मिथ की टीम ने चार दशकों से अपनी घरेलू पिचों पर जीत हासिल कर अपनी टीम का दबदबा कायम रखा. स्मिथ की कप्तानी में ऑस्ट्रेलिया ने 29 में से 16 टेस्ट जीत लिए. वैसे टेस्ट में ऑस्ट्रेलियाई जीत का रिकॉर्ड पूर्व कप्तान रिकी पॉन्टिंग के नाम है, जिन्होंने 77 में से 48 टेस्ट मैचों में जीत हासिल की. अपनी पहली एशेज सीरीज में जीत हासिल कर स्मिथ ने ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट इतिहास में अपनी धमक दर्ज करा दी.

यह भी पढ़ें : 2017 का बड़ा सवाल: विराट, स्मिथ या रोहित, बेस्ट कौन?

पर्थ टेस्ट के बाद कप्तान स्मिथ ने बयान दिया, 'कप्तानी करते हुए ऐशेज में जीत हासिल करना कमाल का अनुभव है. हम इस लम्हे का लंबे समय से इंतजार कर रहे थे. हमने काफी मेहनत की. हमने कमाल का खेल दिखाया.' इसी दौरान एडिलेड में पहले डे-नाइट टेस्ट का आयोजन किया गया. डे-नाइट टेस्ट में दोनों ही टीमों में शॉन मार्श के अलावा ज्यादातर बल्लेबाज गेंदबाजों के साये में ही रहे. एडिलेड टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया ने 120 रनों से जीत हासिल की और शॉन मार्श मैन ऑफ द मैच के खिताब से नवाजे गए. एशेज सीरीज से पहले कमाल के ऑलराउंडर्स बेन स्टोक्स को नाइट क्लब के बाहर मारपीट की वजह से बाहर रहना पड़ा. इंग्लैंड टीम को उनकी कमी सीरीज में खूब खली. बेन स्टोक्स वीडियो संदेश के जरिये ही अपनी टीम का साथ दे पाए. T-20 में 800 से ज्यादा छक्कों का रिकॉर्ड बनाकर क्रिस गेल, ज्यादातर विंडीज टीम से बाहर रहते हुए भी चमकते रहे. टी-20 में उनके नाम अबतक 819 छक्के हो गए हैं जबकि अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में उनके नाम 454 छक्के हैं. अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में वैसे गेल, शाहिद आफ़रीदी के 476 छक्कों के रिकॉर्ड से फ़िलहाल पीछे ही हैं. छक्का लगाने के लिहाज़ से ये साल रोहित शर्मा के नाम रहा. वनडे और टी-20 में दोहरे शतक और शतकों से धमाल करने वाले रोहित ने रोहित ने इस साल अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में कुल 65 छक्के लगाए और एबी डीविलियर्स के 63 छक्कों के रिकॉर्ड से आगे निकल गए.

यह भी पढ़ें : AUS VS ENG: अब सर डॉन ब्रेडमैन के 'इन रिकॉर्डों' पर स्टीव स्मिथ ने दी दस्तक!

क्रिकेट रेटिंग प्वाइंट्स में स्टीवन स्मिथ (945 अंक, औसत 62.32) सर डॉन ब्रैडमैन के क़रीब (945 अंक, 99.94 औसत) पहुंचते दिखे. तो लगातार 9 टेस्ट सीरीज़ जीतने वाली भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली लगातार चार सीरीज में चार दोहरे शतक लगाकर ब्रैडमैन और राहुल द्रविड़ से आगे निकल गए. विराट ने 6 दोहरे शतक लगाकर खुद को डबल सेंचुरियन की लिस्ट में छठे नंबर पर पहुंचा दिया है. ब्रैडमैन 12 दोहरे शतकों के साथ इस लिस्ट में भी टॉप पर हैं. इन सबसे अलग रोहित लिमिटेड ओवर्स क्रिकेट के किंग बने रहे. वनडे क्रिकेट में सिर्फ उनके नाम तीन दोहरे शतक हैं और टी-20 क्रिकेट में दो शानदार शतक.

यह भी पढ़ें : टेस्ट क्रिकेट का लेखाजोखा : साल भर टेस्ट में रहे 'सर्वश्रेष्ठ'

पाकिस्तान क्रिकेट ने संक्रमण के दौर में अपने दो सुपरस्टार पूर्व कप्तानों को मैदान से बाहर जाते देखा. 42 साल के पूर्व कप्तान मिस्बाह उल हक़ और पूर्व कप्तान यूनिस ख़ान के जाने बाद टीम की अगुआई की जिम्मेदारी सरफराज अहमद के कंधों पर आ गई. मिस्बाह ने 75 टेस्ट, 162 वनडे और 39 टी-20 के बाद अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहा तो यूनुस खान ने 118 टेस्ट, 265 वनडे और 25 अंतर्राष्ट्रीय टी-20 के बाद. इसी साल जून में अफगानिस्तान और आयरलैंड को ICC के फुल मेंबर का दर्जा मिला और ये टेस्ट खेलने वाली 11वीं और 12वीं टीमें बन गईं. आयरलैंड की टीम मई 2018 में पाकिस्तान के खिलाफ घरेलू जमीन पर अपना पहला टेस्ट मैच खेलेगी. अफगानिस्तान की टीम का भारत का खिलाफ टेस्ट मैच खेलना तय हुआ है. इन मैचों में हो सकता है बड़े रिकॉर्ड बनें. लेकिन बड़ी बात ये है कि क्रिकेट के कर्ता-धर्ता टेस्ट क्रिकेट के जरिये इन देशों में क्रिकेट बड़ी सेंध लगाने की भी उम्मीद कर रहे हैं.

VIDEO : पुजारा ने कहा, धोनी और कोहली में कॉमन है जीत की भूख
2017 में ही श्रीलंकाई टीम ने मेजबान पाकिस्तान को संयुक्त अरब अमीरात में 2 टेस्ट मैच की सीरीज में 2-0 से हराकर पूरी दुनिया को हैरान कर दिया. श्रीलंका ने पाकिस्तान को हराया तो ज़िंबाब्वे ने 15 साल में पहली बार श्रीलंका को हराकर उनकी ज़मीन पर पहली सीरीज जीत ली. जून में इंग्लैंड में हुई चैंपियंस ट्रॉफी से विंडीज टीम पहली बार बाहर रही. चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब फाइनल में पाकिस्तान से हार की वजह से भारत के हाथों से फिसल गया. इसकी टीस भारतीय फैन्स को लंबे समय तक जरूर रहेगी, लेकिन इस जीत से पाकिस्तान क्रिकेट के पटरी पर लौटने की उम्मीद जरूर बढ़ी. पाकिस्तान में लाहौर के गद्दाफ़ी स्टेडियम में मेजबान और वर्ल्ड X1 के बीच 3 अंतर्राष्ट्रीय T20 मैचों का कामयाब आयोजन करवाया. इसने क्रिकेट की दुनिया में लाहौर में 2009 में श्रीलंकाई टीम पर हुए हमलों का खौफ थोड़ा ही सही कम जरूर किया.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement