NDTV Khabar

जिम्‍बाब्‍वे के सिकंदर रजा, द. अफ्रीका के इमरान ताहिर और ऑस्‍ट्रेलिया के उस्‍मान ख्‍वाजा का यह खास कनेक्‍शन...

जिम्‍बाब्‍वे की ओर से खेलने वाले 31 वर्षीय सिकंदर रजा का जन्‍म पाकिस्‍तान के सियालकोट शहर में हुआ था.

2542 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
जिम्‍बाब्‍वे के सिकंदर रजा, द. अफ्रीका के इमरान ताहिर और ऑस्‍ट्रेलिया के उस्‍मान ख्‍वाजा का यह खास कनेक्‍शन...

श्रीलंका के खिलाफ पांचवें वनडे में सिकंदर रजा ने दोहरा प्रदर्शन किया (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. इन तीनों ही क्रिकेटरों का जन्‍म पाकिस्‍तान में हुआ था
  2. रजा ने 5वें वनडे में जिम्‍बाब्‍वे को दिलाई थी श्रीलंका पर जीत
  3. दक्षिण अफ्रीका को कई मैचों में जीत दिला चुके हैं ताहिर
जिम्‍बाब्‍वे की टीम ने अपने से ऊंची रैंकिंग वाली श्रीलंका टीम को वनडे सीरीज में हराकर बड़ा कारनामा किया है. खास बात यह है कि जिम्‍बाब्‍वे ने श्रीलंका टीम को उसके घरेलू मैदान पर ही सीरीज में हराया है. निर्णायक वनडे में जिम्‍बाब्‍वे ने तीन विकेट से जीत दर्ज की. इस जीत में टीम के हरफनमौला सिकंदर रजा का अहम योगदान रहा. सिकंदर ने श्रीलंका की बल्‍लेबाजी के दौरान जहां 21 रन देकर तीन विकेट लिए. उनकी गेंदबाजी की बदौलत जिम्‍बाब्‍वे की टीम, मेजबान श्रीलंका को 50 ओवर में 203 रन के स्‍कोर तक सीमित रखने में सफल हो गई. बाद में रजा ने 27 गेंदों पर एक चौके और दो छक्‍के की मदद से नाबाद 27 रनों की पारी खेलते हुए टीम को जीत दिलाई. अपने इस प्रदर्शन के कारण वे दुनियाभर में चर्चा के केंद्र बन गए. खास बात यह है कि 31 वर्षीय सिकंदर रजा का जन्‍म पाकिस्‍तान के सियालकोट में हुआ था. क्रिकेट में बेहतर अवसरों की तलाश में वे जिम्‍बाब्‍वे शिफ्ट हुए और वहां से क्रिकेट खेलना शुरू किया. सिकंदर राजा के अलावा कुछ अन्‍य खिलाड़ि‍यों ने भी पाकिस्‍तान में पैदा होने के बावजूद अपना क्रिकेट दूसरे देश की ओर से खेला. कुछ ऐसे खिलाड़ी भी हैं जो पाकिस्‍तानी मूल के होने के बावजूद दूसरे देशों की ओर से खेलते हैं. आइए डालते हैं ऐसे कुछ क्रिकेटरों पर नजर...

फिरकी के माहिर इमरान ताहिर
 
imran tahir
इमरान ताहिर को दक्षिण अफ्रीका के प्रमुख गेंदबाजों में शुमार किया जाता है.

पाकिस्‍तान के लाहौर शहर में जन्‍मे 38 साल के इमरान ताहिर की गिनती आज दक्षिण अफ्रीका के प्रमुख गेंदबाजों में की जाती है. दाएं हाथ के इस लेग स्पिनर ने अपनी करिश्‍माई गेंदबाजी से दक्षिण अफ्रीका को कई सफलताएं दिलाई हैं. उनकी फिरकी का सामना करना दुनिया के नामी बल्‍लेबाजों के लिए  भी आसान नहीं होता. ताहिर दक्षिण अफ्रीका में शादी करने के बाद वहीं बस गए. 20 टेस्‍ट, 78 वनडे और 33 टी20 मैचों में वे दक्षिण अफ्रीकी टीम का प्रतिनिधित्‍व कर चुके हैं. टेस्‍ट क्रिकेट में 57, वनडे में 132 और  टी20 में 44 विकेट उनके नाम पर दर्ज है. इंडियन प्रीमियर लीग के इस सीजन में भी ताहिर ने शानदार प्रदर्शन किया था.

आकर्षक बल्‍लेबाज हैं उस्‍मान ख्‍वाजा
 
usman khawaja
ऑस्‍ट्रेलिया की ओर से खेलने वाले उस्‍मान ख्‍वाजा का जन्‍म इस्‍लामाबाद में हुआ था

पाकिस्‍तान में पैदा होने के बावजूद दूसरे देश का प्रतिनिधित्‍व करने वालों में उस्‍मान ख्‍वाजा भी शामिल हैं. 30 साल के ख्‍वाजा 18 दिसंबर 1986 को पाकिस्‍तान के इस्‍लामाबाद शहर में पैदा हुए थे लेकिन ऑस्‍ट्रेलिया की ओर से खेलते हैं. बाएं हाथ से बैटिंग करने वाले ख्‍वाजा ने ऑस्‍ट्रेलिया की ओर से 23 टेस्‍ट, 18 वनडे और 9 टी20 मैच खेले हैं. उन्‍होंने अपनी बल्‍लेबाजी प्रतिभा से हर किसी को प्रभावित किया है. टेस्‍ट मैचों में ख्‍वाजा ने 47.94 के औसत से 1726 रन (पांच शतक, 8 अर्धशतक) बनाए हैं. वनडे मैचों में उन्‍होंने 31.26 के औसत से 469 रन (सर्वोच्‍च 98) बनाए हैं जब‍ि टी20 मैचों में उनके नाम पर 241 रन (औसत 26.77, सर्वोच्‍च 58) दर्ज हैं.

इंग्‍लैंड के लेग ब्रेक बॉलर आदिल राशिद
पाकिस्‍तानी मूल के आदिल राशिद का जन्‍म यॉर्कशायर के ब्रेडफोर्ड में हुआ. वे लेग ब्रेक बॉलर की हैसियत से इंग्‍लैंड टीम के लिए खेलते हैं. राशिद ने इंग्‍लैड के लिए 10 टेस्‍ट, 49 वनडे और 23 टी20 मैच खेले हैं. टेस्‍ट क्रिकेट में उनके नाम 38, वनडे में 70 और टी20 में 16 विकेट दर्ज हैं. आदिल राशिद की तरह इंग्‍लैंड टीम के हरफनमौला मोईन अली भी पाकिस्‍तानी मूल के हैं. उन्‍होंने इंग्‍लैंड के लिए 38 टेस्‍ट, 58 वनडे और 22  टी20 मैच खेले हैं. टेस्‍ट क्रिकेट में मोईन ने 2021 रन बनाने के अलावा 108 विकेट भी लिए हैं. दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले टेस्‍ट में इंग्‍लैंड को जीत दिलाई में मोईन का अहम योगदान रहा था. पिछले वर्ष भारत के खिलाफ इंग्‍लैंड टीम की ओर से टेस्‍ट डेब्‍यू करने वाले जफर अंसारी भी पाकिस्‍तानी मूल के हैं. जफर के पिता लाहौर से आकर इंग्‍लैंड में बसे थे जहां जफर का जन्‍म हुआ. वैसे जफर क्रिकेट में कोई खास छाप नहीं छोड़ पाए और उन्‍हें 25 वर्ष की उम्र में ही संन्‍यास ले लिया.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement