NDTV Khabar

CT 2017 ENGvsPAK: कुछ इस तरह से हर बार टूटता रहा है इंग्लैंड का चैंपियन बनने का सपना

क्रिकेट की शुरुआत इंग्लैंड में हुई थी लेकिन आज तक न इंग्लैंड एक बार वर्ल्ड कप जीत पाया न मिनी वर्ल्ड कप के नाम से जाने वाले चैंपियंस ट्रॉफी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
CT 2017 ENGvsPAK:  कुछ इस तरह से हर बार टूटता रहा है इंग्लैंड का चैंपियन बनने का सपना

इंग्लैंड के कप्तान इयोन मॉर्गन ने 53 गेंदों में चार चौके लगाते हुए 33 रन बनाए...

खास बातें

  1. आज तक इंग्लैंड एक बार भी वर्ल्ड कप नहीं जीत पाया है
  2. 'मिनी वर्ल्ड कप' के नाम मशहूर चैंपियंस ट्रॉफी भी नहीं जीत पाया
  3. कार्डिफ में खेला गए पहले सेमीफाइनल मैच में पाकिस्तान ने दी शिकस्त
नई दिल्ली:

क्रिकेट की शुरुआत इंग्लैंड में हुई थी लेकिन आज तक न इंग्लैंड एक बार वर्ल्ड कप जीत पाया न मिनी वर्ल्ड कप के नाम से जाने वाले चैंपियंस ट्रॉफी. हालांकि इस की टीम बेहद संतुलित थी और उसे खिताब का प्रबल दावेदार माना जा रहा था. बुधवार को कार्डिफ में खेला गए पहले सेमीफाइनल मैच में इंग्लैंड फाइनल का टिकट काटने में नाकाम रहा. और इस तरह से एक बार फिर से इतिहास रचने से दूर रह गया. टॉस हार कर पहले बल्लेबाजी करते हुए इंग्लैंड की पूरी टीम 49.5 ओवरों में महज 212 रन पर ऑल आउट हो गई. इंग्लैंड के तरफ जो रुट ने सबसे ज्यादा 46 रन बनाये. पाकिस्तान के तरफ से हसन अली सबसे अच्छा गेंदबाज़ी करतेहुए 10 ओवरों में 35 रन देकर तीन विकेट लिए. पाकिस्तान ने 37.1 ओवरों में सिर्फ दो विकेट खोकर जीत हासिल कर ली. अज़हर अली ने सबसे ज्यादा 76 रन बनाये जबकि फखर ज़मान ने 57 रनों की पारी खेली. पाकिस्तान के लिए भी यह जीत ऐतिहासिक है. 
 
चैंपियंस का चैंपियन नहीं बन पाया इंग्लैंड : आज से पहले चैंपियंस ट्रॉफी में इंग्लैंड दो बार फाइनल और एक बार सेमीफ़ाइनल में पहुंचा है लेकिन चैंपियन नहीं बन पाया. 2004 में इंग्लैंड में खेले गए चैंपियंस ट्रॉफी में टीम फाइनल में पहुंची थी लेकिन वेस्टइंडीज ने खिताबी मुकाबले में हरा दिया था. फाइनल मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए इंग्लैंड की पूरी टीम 49.4 ओवरों 217 रन पर ऑल आउट हो गई थी. जबाव में 48.5 ओवरों में आठ विकेट गंवाकर वेस्टइंडीज ने मैच पर कब्जा जमा लिया था. वेस्टइंडीज ने भी पहली बार चैंपियंस ट्रॉफी का ख़िताब जीता था. 2009 में दक्षिण अफ्रीका में खेली गई  चैंपियंस ट्रॉफी में इंग्लैंड सेमीफाइनल में पहुंचा था लेकिन ऑस्ट्रेलिया के हाथों 9 विकेट से हार गया था. 
 
इस मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए इंग्लैंड 257 रन बनाए थे. ऑस्ट्रेलिया ने 41.5 ओवरों में सिर्फ एक विकेट गंवाकर मैच जीत लिया था.  ऑस्ट्रेलिया के तरफ से शेन वॉटसन 136 और तत्कालीन कप्तान रिकी पोंटिंग ने 111 रन बनाये थे. ऐसा ही कुछ 2013 में इंग्लैंड में आयोजित चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल का रहा. यहां भी भाग्य इंग्लैंड से रूठा रहा. 23 जून 2013 को खेले गए फाइनल मुकाबले में इंग्लैंड को पांच रन से शिकस्त मिली थी. बारिश के वजह से मैच 50 से घटाकर 20 ओवर कर दिया गया था. पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत निर्धारित 20 ओवरों में 129 रन बनाए थे. इंग्लैंड 20 ओवरों में सिर्फ 124 रन बना पाया था. 
 
तीन बार वर्ल्ड कप फाइनल में पहुंचा लेकिन चैंपियन नहीं बन पाया : वर्ल्ड कप में भी किस्मत इंग्लैंड का साथ नहीं दिया है. वर्ल्ड कप के फाइनल में इंग्लैंड तीन बार पहुंचा है लेकिन एक बार भी उस पर कब्जा नहीं जमा पाया. पहली बार इंग्लैंड 1979 में वर्ल्ड कप फाइनल में पहुंचा था. 23 जून को लॉर्ड्स के मैदान पर खेले गए फाइनल मैच को वेस्टइंडीज ने 92 रन से जीतकर दूसरी बार विश्व चैंपियन बनने का गौरव हासिल किया था. लॉर्ड्स के मैदान पर खेले गए मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए वेस्टइंडीज ने 286 रन बनाए थे. वेस्टइंडीज तरफ से विवियन रिचर्ड्स 138 रन बनाये थे. इंग्लैंड की पूरी टीम सिर्फ 194 रन पर ऑल आउट हो गई थी. 
 
1987 में भी इंग्लैंड वर्ल्ड कप फाइनल में पहुंचा लेकिन ऑस्ट्रेलिया से फाइनल मुकाबल सात रन से गंवा बैठा था. ईडन गार्डन्स मैदान पर खेले गए इस मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए ऑस्ट्रेलिया ने 253 रन का स्कोर खड़ा किया था. जवाब में इंग्लैंड 246 बना पाया था. आखिरी बार इंग्लैंड 1992 में वर्ल्ड कप फाइनल में पहुंचा. 25 मार्च 1992 को ऑस्ट्रेलिया के मेलबोर्न क्रिकेट ग्राउंड पर पाकिस्तान के खिलाफ खेले गए फाइनल मैच को 22 से हार गया. पाकिस्तान पहले बल्लेबाजी करते हुए 249 रन बनाए थे. इंग्लैंड 227 रन बना पाया था. 
 
1992 के बाद इंग्लैंड कभी वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में भी नहीं पहुंचा : 1975 और 1983 में इंग्लैंड वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल तक पहुंचा था. 18 जून 1975 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सेमीफाइनल मैच में ऑस्ट्रेलिया से चार विकेट से हार गया था. 1983 में भी इंग्लैंड सेमीफाइनल में पहुंचा था लेकिन भारत से हार गया था. इस मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए इंग्लैंड ने 213 रन बनाए थे. 54.4 ओवरों में भारत ने चार विकेट पर खोकर लक्ष्य हासिल कर लिया था. भारत के तरफ से यशपाल शर्मा ने सबसे ज्यादा 61 रन बनाये थे. सबसे बड़ी बात यह है कि 1992 के बाद इंग्लैंड कभी भी वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल तक की सफर तय नहीं कर पाया है. 

टिप्पणियां


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement