NDTV Khabar

NIDAHAS TROPHY: बांग्‍लादेश के खिलाफ 'मैन ऑफ द मैच' रहे विजय शंकर बोले-कड़ी मेहनत आखिरकार रंग लाई'

निधास ट्रॉफी त्रिकोणीय टी20 सीरीज में बांग्‍लादेश के खिलाफ मैच में हरफनमौला विजय शंकर ने टीम इंडिया के लिए बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए दो विकेट हासिल किए. इस प्रदर्शन के लिए उन्‍हें मैन ऑफ द मैच घोषित किया गया.

253 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
NIDAHAS TROPHY: बांग्‍लादेश के खिलाफ 'मैन ऑफ द मैच' रहे विजय शंकर बोले-कड़ी मेहनत आखिरकार रंग लाई'

विजय शंकर ने बांग्‍लादेश के खिलाफ मैच में दो विकेट हासिल किए (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. इस मैच में विजय शंकर ने लिए थे दो विकेट
  2. हार्दिक ही की तरह हरफनमौला हैं विजय शंकर
  3. कहा, लगातार अपना प्रदर्शन सुधारना चाहता हूं
कोलंबो:
टिप्पणियां
निधास ट्रॉफी त्रिकोणीय टी20 सीरीज में बांग्‍लादेश के खिलाफ मैच में हरफनमौला विजय शंकर ने टीम इंडिया के लिए बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए दो विकेट हासिल किए. इस प्रदर्शन के लिए उन्‍हें मैन ऑफ द मैच घोषित किया गया. मैच के बाद 27 वर्षीय विजय शंकर ने कहा, मैच का सर्वश्रेष्‍ठ खिलाड़ी बनकर अच्‍छा महसूस कर रहा हूं. मुझे इस बात की खुशी हैं कि मेरी कड़ी मेहनत रंग लाई. मेरे लिए यह बस एक शुरुआत है. एक क्रिकेटर के रूप में आपको हमेशा सीखते हुए अपने प्रदर्शन में सुधार करना होगा है. मैं आगे के मैचों में यही करना चाहता हूं. उन्‍होंने कहा कि हमने अच्‍छी लेंग्‍थ की गेंदबाजी की. हम लगातार विकेट लेते रहे जिसके कारण बांग्‍लादेश को 139 के स्‍कोर पर सीमित करने में सफल रहे. निधास ट्रॉफी के लिए विजय शंकर को हार्दिक पंड्या के विकल्‍प के रूप में टीम में स्‍थान दिया गया था. पंड्या की तरह ही विजय शंकर बल्‍लेबाजी और दाएं हाथ से मध्‍यम तेज गेंदबाजी करते हैं. पंड्या को इस सीरीज के लिए आराम दिया गया है. विजय शंकर ने कहा कि भारत की ओर से खेलना बेहद खास है लेकिन मैं हर मैच को पूरी गंभीरता से खेलने की कोशिश करता हूं. मेरा ध्‍यान हर मैच में अपने प्रदर्शन को सुधारने पर केंद्रित होता है. टीम मैनेजमेंट को धन्‍यवाद देते हुए उन्‍होंने कहा कि उन्‍होंने मुझे खुद को अभिव्‍यक्‍त करने की आजादी दी. विजय शंकर ने कहा कि दबाव तो हमेशा होता है लेकिन यदि हम इसका आनंद लेते हैं तभी अच्‍छा प्रदर्शन कर पाने में सफल होते हैं. दूसरी ओर, यदि हम खुद को अनावश्‍यक दबाव में लाते हैं तो मुश्किल में फंस सकते हैं.

वीडियो: पूर्व तेज गेंदबाज आशीष नेहरा से खास बातचीत
पंड्या से तुलना संबंधी प्रश्‍न के जवाब में पर विजय शंकर ने कहा कि मैं ऐसी बातों को सोचकर खुद को दबाव में नहीं लाना चाहता. मैं अपने प्रदर्शन पर ही ध्‍यान केंद्रित करना चाहूंगा. गुरुवार के मैच में विजय शंकर को पहले इंटरनेशनल विकेट के लिए इंतजार करना पड़ा. विजय के पहले ही ओवर में सुरेश रैना और वाशिंगटन सुंदर, बांग्‍लादेश के लिटन दास का कैच नहीं लपक पाए. क्‍या छूटे कैचों के कारण प्रदर्शन प्रभावित हुआ, इस सवाल के जवाब में विजय शंकर ने कहा, इससे बहुत फर्क नहीं पड़ा. कैच छूटना भी खेल का हिस्‍सा हैं. फ्लड लाइट में सफेद बॉल के साथ फील्उिंग आसान नहीं होता.  गौरतलब है कि शंकर घरेलू क्रिकेट के उन छह खिलाड़ि‍यों में शामिल हैं जिन्‍होंने सीजन में 1500 रन बनाने के अलावा 25 विकेट लिए हैं.  (इनपुट: एजेंसी)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement