NDTV Khabar

ये 4 वीडियो बताते हैं आखिर क्यों भारत-पाकिस्तान के मैच को कहा जाता है 'हाईवोल्टेज' मुकाबला

1996 विश्वकप के वे पल आज भी सबको याद हैं, जब वेकेंटेश प्रसाद ने आमिर सोहैल को क्लीन बोल्ड कर दिया था. उसके बाद मैदान में जो प्रतिक्रिया हुई थी, वह देखने लायक थी.

249 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
ये 4 वीडियो बताते हैं आखिर क्यों भारत-पाकिस्तान के मैच को कहा जाता है 'हाईवोल्टेज' मुकाबला

4 जून को है भारत और पाकिस्तान का मैच (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. चैंपियंस ट्रॉफी : 4 जून को है भारत-पाकिस्तान का मैच
  2. दोनों देशों के बीच होने वाला है 'हाईवोल्टेज' मैच
  3. कई बार खिलाड़ियो के बीच हो चुकी है आपस में भिड़ंत
नई दिल्ली: चैंपियंस ट्रॉफी 1 जून, यानी आज शुरू हो रही है, लेकिन सबकी निगाहें 4 जून को होने वाले भारत-पाकिस्तान के 'हाईवोल्टेज' मुकाबले पर हैं. दोनों देशों के संबंधों में तनाव का असर अक्सर खेल के मैदान में भी देखने को मिलता है फिर चाहे हॉकी हो या क्रिकेट. क्रिकेट को लेकर भारत और पाकिस्तान में जुनून है. दोनों देशों के दर्शक अपनी-अपनी टीमों को एक-दूसरे से हारते नहीं देखना चाहते, वहीं खिलाड़ी भी जीतने के लिए जान लगा देते हैं. 1996 विश्वकप के वे पल आज भी सबको याद हैं, जब वेकेंटेश प्रसाद ने आमिर सोहैल को क्लीन बोल्ड कर दिया था. उसके बाद मैदान में जो प्रतिक्रिया हुई थी, वह देखने लायक थी. उससे पहले किरण मोरे और जावेद मियांदाद भी एक मैच में भिड़ गए थे. ऐसे ही चार मौके हम आपके सामने लेकर आए हैं, जो भारत-पाकिस्तान के हाईवोल्टेज मुकाबलों के गवाह हैं.

1992 के विश्वकप में मोरे और मियांदाद की लड़ाई 
1992 का विश्वकप अपने चरम पर था. जावेद मियांदाद उस समय दुनिया के बेहतरीन बल्लेबाजों में शुमार थे. मैच जीतने के लिए उनका विकेट काफी अहम था. उस समय भारत के विकेटकीपर किरण मोरे थे, जो विकेटों के पीछे काफी आक्रामक होते थे. इस मैच में भी मोरे बार-बार एलबीडब्ल्यू या कॉट बिहाइंड की अपील कर रहे थे. इस बात से मियांदाद का ध्यान भंग हो रहा था. इसकी शिकायत उन्होंने अंपायर से कर दी. इसके बाद भी मोरे ने एक बार फिर अपील कर दी. इस बार साफ था कि बॉल कहीं से भी बल्ले को छूती हुई नहीं गई थी, लेकिन मोरे ने गिल्लियां बिखेर दी थीं. इससे मियांदाद चिढ़ गए और मोरे की नकल उतारते हुए क्रीज पर उछलने लगे.



1996 का विश्वकप और आमिर सोहैल का विकेट
भारत की ओर तेज गेंदबाजी कर रहे वेंकटेश प्रसाद सहित सभी गेंदबाजों की पिटाई पाकिस्तान के ओपनर आमिर सोहैल और सईद अनवर कर रहे थे. भारत की ओर से दिए 288 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए पाकिस्तान के सलामी बल्लेबाजों ने 10 ओवर में 88 रन बना डाले और ऐसा लग रहा था कि पाकिस्तान इस मैच को आसानी से जीत लेगा. लेकिन 15वें ओवर में मैच का पासा पलट गया. दरअसल हुआ यह कि वेंकटेश प्रसाद की एक गेंद पर आमिर सोहैल ने चौका मारा और बैट से इशारा करते हुए कहा कि अगला शॉट फिर इसी जगह मारूंगा. सोहैल की यह बात पाकिस्तान के लिए काल बन गई और वेंकटेश ने अगली गेंद पर ही सोहैल को क्लीन बोल्ड कर दिया. उसके बाद मैदान में क्या हुआ, यह आप वीडियो में देख सकते हैं.



जब गौतम गंभीर को आया गुस्सा
बल्लेबाज गौतम गंभीर तो पाकिस्तान के खिलाड़ियों से दो बार भिड़ चुके हैं. 2010 में एशिया कप में पाकिस्तान के विकेटकीपर कामरान अकमल बैटिंग कर रहे गौतम गंभीर के खिलाफ बार-बार अपील कर रहे थे. इससे गंभीर का पारा हाई हो गया. तब महेंद्र सिंह धोनी ने जाकर दोनों को शांत कराया. इससे पहले 2007 में गौतम गंभीर रन लेने के दौरान शाहिद आफरीदी से भिड़ चुके थे. दोनों के बीच गाली-गलौज तक हो गई, जिससे जुर्माना भी लगाया गया था.



भज्जी भिड़ गए शोएब से
2010 में खेले गए मैच में आखिरी ओवर चल रहे थे. टीम इंडिया को जीत के लिए 7 गेदों पर 7 रन बनाने थे. शोएब अख्तर गेंदबाजी के दौरान भज्जी को उकसा रहे थे. इससे हरभजन का गुस्सा 7वें आसमान पर पहुंच गया और आखिरी ओवर में मोहम्मद आमिर की गेंद पर छक्का मारकर भारत को जीत दिला दी और शोएब को चिढ़ाते हुए उनकी ओर बल्ला लहराया.




Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement