Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर को मिली नई जिम्मेदारी, DDCA की प्रबंध समिति में बने सरकारी प्रतिनिधि

भारतीय टीम से बाहर चल रहे सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर को दिल्ली और जिला क्रिकेट संघ की प्रबंध समिति में सरकारी प्रतिनिधि बनाया गया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर को मिली नई जिम्मेदारी, DDCA की प्रबंध समिति में बने सरकारी प्रतिनिधि

फाइल फोटो

खास बातें

  1. सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर को मिली नई जिम्मेदारी
  2. गंभीर को DDCA की प्रबंध समिति में बने सरकारी प्रतिनिधि
  3. गंभीर ने भारत के लिए 58 टेस्ट, 147 वनडे और 37 टी20 मैच खेले हैं.
नई दिल्ली:

भारतीय टीम से बाहर चल रहे सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर को दिल्ली और जिला क्रिकेट संघ की प्रबंध समिति में सरकारी प्रतिनिधि बनाया गया है. उन्होंने साफ तौर पर कहा कि वह विवादों से घिरे संघ का पुराना वैभव लौटाने के लिये अपनी ओर से पूरा प्रयास करेंगे. दिल्ली के दिग्गज और मौजूदा क्रिकेटर गंभीर ने खेलमंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ को ट्विटर पर धन्यवाद दिया.

यह भी पढ़ें: महेंद्र सिंह धोनी के समर्थन में उतरा यह भारतीय क्रिकेटर, आलोचकों के लिए कह दी बड़ी बात

टिप्पणियां

उन्होंने लिखा, ‘ फिरोजशाह कोटला पर फील्ड में बदलाव का मौका मिला. अब डीडीसीए में बदलाव का समय है. इसका खोया गौरव लौटाना है. डीडीसीए की प्रबंध समिति में सरकारी प्रतिनिधि बनकर गौरवान्वित हूं. धन्यवाद राज्यवर्धन सिंह राठौर.’ गौतम गंभीर रणजी मैच दिल्ली की तरफ से खेलते हैं, गौतम गंभीर के कप्तानी छोड़ने के बाद तेज गेंदबाज ईशांत शर्मा को दिल्ली टीम का कप्तान बनाया गया है. 


VIDEO: गंभीर ने पाकिस्तान से क्रिकेट का किया विरोध, बोले- भारतीयों का जीवन खेलों से ज्यादा जरूरी
गंभीर घरेलू मैचों में अच्छा प्रदर्शन कर चयनकर्ताओं का ध्यान अपनी ओर खींचना चाहते हैं. शायद यहीं वजह है कि उन्होंने कप्तानी छोड़ दी. भारतीय टीम से बाहर चल रहे गंभीर ने अपना आखिरी टेस्ट मैच पिछले साल न्यूजीलैंड के खिलाफ खेला था. बता दें कि गंभीर ने भारत के लिये 58 टेस्ट, 147 वनडे और 37 टी20 मैच खेले हैं.
(इनपुट भाषा से)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... शरद पवार ने नया शिगूफा छोड़ा, कहा- राम मंदिर के लिए ट्रस्ट बन सकता है तो मस्जिद के लिए क्यों नहीं?

Advertisement