NDTV Khabar

क्रिकेटर हर्शल गिब्स का खुलासा, 'नशे' की हालत में खेली थी 175 रन की पारी, हासिल किया था 435 का लक्ष्य

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
क्रिकेटर हर्शल गिब्स का खुलासा, 'नशे' की हालत में खेली थी 175 रन की पारी, हासिल किया था 435 का लक्ष्य

हर्शल गिब्स तूफानी बल्लेबाजी के लिए जाने जाते थे (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. दक्षिण अफ्रीका ने 49.5 ओवर में 438 रन बना लिए थे
  2. ऑस्ट्रेलिया ने रखा था 434 रनों को विशाल लक्ष्य
  3. रिकी पॉन्टिंग ने बनाए थे शानदार 164 रन
नई दिल्ली: वनडे क्रिकेट इतिहास में सबसे बड़े लक्ष्य का पीछा करने का वर्ल्ड रिकॉर्ड दक्षिण अफ्रीका के नाम है. ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के बीच पांच वनडे मैचों की सीरीज के चार मैचों में दोनों ही टीमों ने दो-दो जीत दर्ज की थी. ऐसे में अंतिम और पांचवां मैच एक तरह से फाइनल की तरह था, क्योंकि इससे सीरीज विजेता का फैसला होना था. जोहानिसबर्ग में खेले गए इस मैच में जब ऑस्ट्रेलिया ने दक्षिण अफ्रीका के सामने जीत के लिए 435 रनों का लक्ष्य रखा, तो हर कोई यही मानकर चल रहा था कि अब कंगारू टीम सीरीज पर कब्जा जमा लेगी, लेकिन क्रिकेट तो अनिश्चितताओं का खेल माना जाता है और कहा जाता है कि जब तक अंतिम गेंद न फेंक दी जाए, तो कुछ भी हो सकता है. इस मैच में कुछ ऐसा ही हुआ जब दक्षिण अफ्रीका ने एक गेंद बाकी रहते मैच जीतकर इतिहास रच दिया. इसमें उसके ओपनर हर्शल गिब्स के तूफानी शतक और ग्रीम स्मिथ के 90 रनों का अहम रोल रहा था. अब गिब्स ने इस मैच में अपनी पारी को लेकर एक अहम खुलासा किया है. उनके अनुसार वह उस समय 'हैंगओवर' में थे...

हर्शल गिब्स ने नशे में होने का खुलासा अपनी किताब 'टु द पॉइंट : द नो होल्ड्स बार्ड ऑटोबायोग्राफी (To the Point: The No-holds-barred Autobiography)' में किया है. वैसे यह देखा गया है कि आमतौर पर स्टार अपनी किताब को पॉपुलर बनाने के लिए भी इस तरह की बातें करते हैं, फिर भी है तो यह चौंकाने वाली खबर. वैसे गिब्श की इस पारी और उनके नशे में होने के बारे में ऑस्‍ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर माइक हसी ने भी अपनी किताब में जिक्र किया था. उन्‍होंने लिखा था कि जब सोने जा रहे थे, तो उन्होंने अपने होटल के कमरे से बाहर देखा कि गिब्‍स अभी भी वहां (बार में) हैं. हसी ने यह लिखा था कि गिब्‍स जब सुबह नाश्‍ते के लिए आए थे तब भी वो नशे में दिख रहे थे. मतलब गिब्श की बात में सच्चाई तो है.

टिप्पणियां
गिब्श ने किताब में लिखा है कि जिस समय उन्होंने यह पारी खेली थी, वो नशे में थे. वास्तव में उन्होंने मैच से एक रात पहले बहुत ज्यादा शराब पी थी और मैच के समय भी वह हैंगओवर में थे. 12 मार्च 2006 को खेले गए इस मैच में ऑस्ट्रेलिया न पहले बल्लेबाजी करते हुए 434 रनों का पहाड़ जैसा लक्ष्य रखा था. कंगारू टीम से कप्तान रिकी पॉन्टिंग ने 164 रनों की धमाकेदार पारी खेली थी, जिसमें 13 चौके और नौ छक्के उड़ाए थे, लेकिन असली खेल तो अभी बाकी था.
प्रोटियाज टीम ने विशाल लक्ष्य के दबाव में नहीं आते हुए आक्रामक शुरुआत की. तीन रन पर पहला विकेट खोन के बाद ओपनर ग्रीम स्मिथ और हर्शल गिब्स ने ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों की जमकर धुनाई शुरू कर दी. दोनों ने दूसरे विकेट के लिए 187 रन जोड़े, तभी स्मिथ 90 रन पर आउट हो गए, लेकिन गिब्श ने धुनाई जारी रखी और टीम को जीत के मुहाने तक पहुंचा दिया.

इस जीत के हीरो रहे हर्शल गिब्स ने 111 गेंदों में 175 रन ठोके थे, 21 चौके और 7 छक्‍के लगाए थे. गिब्श चौथे विकेट के रूप में 299 के स्कोर पर आउट हुए थे. मार्क बाउचर ने नाबाद 50 रन बनाते हुए टीम को जीत दिला दी थी. मैच आखिरी ओवर तक खिंचा और दक्षिण अफ्रीका ने एक गेंद बाकी रहते एक विकेट से जीत दर्ज कर ली. यह मैच आज तक क्रिकेट फैन्स के दिल में बसा हुआ है. ऑस्ट्रेलिया की ओर से एडम गिलक्रिस्ट (55), साइमन कैटिच (79), रिकी पोंटिंग (164) और माइक हस्सी (81) ने शानदार पारी खेली थी.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement