NDTV Khabar

INDvsSL: चाइनामैन बॉलर कुलदीप यादव ने बताया, यह है उनकी गेंदबाजी की खासियत

टीम इंडिया के चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव वनडे टीम में जगह बनाने के लिए स्पिन गेंदबाजों के बीच प्रतिस्पर्धा से चिंतित नहीं हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
INDvsSL: चाइनामैन बॉलर कुलदीप यादव ने बताया, यह है उनकी गेंदबाजी की खासियत

कुलदीप यादव को सीरीज के पहले तीन वनडे में खेलने का मौका नहीं मिला था (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. कहा, मैं रन रोकने के बजाय विकेट लेने की कोशिश करता हूं
  2. आखिरकार टीम को विकेट लेने से ही मिलती है मदद
  3. धोनी के साथ ड्रेसिंग रूम शेयर करना सपना सच होने जैसा
कोलंबो: टीम इंडिया के चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव वनडे टीम में जगह बनाने के लिए स्पिन गेंदबाजों के बीच प्रतिस्पर्धा से चिंतित नहीं हैं. कुलदीप ने कहा कि उन्हें जब मौका मिलेगा वह तब अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन देंगे. कुलदीप ने श्रीलंका के खिलाफ होने वाले तीसरे मैच से दो दिन पहले आर. प्रेमदासा स्टेडियम में संवाददाता सम्मेलन में कहा, "विकल्पों का होना भारतीय टीम के लिए जरूरी है. मैं इसे सकारात्मक तरीके से लेता हूं. मुझे जब भी मौका मिलेगा मैं अपना सर्वश्रेष्ठ दूंगा." इस मौके पर कुलदीप ने अपनी गेंदबाजी की खासियत भी बताई. उन्‍होंने कहा कि मैं हमेशा विकेट लेने की कोशिश करता हूं. मेरी कोशिश अपनी गेंदबाजी से रन रोकने के बजाय विकेट लेने की ही होती है. आखिरकार इससे ही टीम को मदद मिलती है.

यह भी पढ़ें : विश्व कप की भारतीय टीम में शामिल होगा यह स्पिनर, बल्लेबाजों के उड़ाएगा होश

भारतीय टीम ने पांच मैचों की वनडे सीरीज में 3-0 की अजेय बढ़त ले ली है. टीम में इस समय अक्षर पटेल, युजवेंद्र चहल स्पिन आक्रमण की जिम्मेदारी संभाल रखी है, जबकि देश को दो शीर्ष स्पिन गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन और रवींद्र जडेजा को इस सीरीज के लिए आराम दिया गया है. कुलदीप से जब टेस्ट से वनडे में आने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, "लाल गेंद से सफेद गेंद में काफी कुछ बदल जाता है. बल्लेबाज वनडे में ज्यादा आक्रामक होते हैं. टेस्ट में आपको विकेट के लिए काफी मेहनत करनी पड़ती है. वनडे अलग होते हैं क्योंकि आपके पास सीमित समय होता है." उन्होंने कहा, "मैं रन रोकने की कोशिश नहीं करता, मैं हमेशा विकेट लेने के लिए जाता हूं. इससे टीम को भी मदद मिलती है."

यह भी पढ़ें : कुलदीप और रवींद्र की घातक गेंदबाजी, श्रीलंका बोर्ड अध्‍यक्ष XI 187 पर ढेर

कुलदीप का मानना है कि गेंदबाजों को विकेट लेने की आदत होनी चाहिए रन रोकने की नहीं. बकौल कुलदीप, "मैं सरल तरीके से सोचता हूं. विकेट लेना गेंदबाज की आदत होनी चाहिए. अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो आप साधारण गेंदबाज हैं." कुलदीप ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ धर्मशाला में खेले गए टेस्ट मैच से अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया था. इसके बाद वह वेस्टइंडीज दौरे पर भी टीम के साथ गए थे. उन्‍होंने  कहा, "श्रीलंकाई विकेटों की अपेक्षा वेस्टइंडीज के विकेट ज्यादा धीमे थे. श्रीलंका में विकेट भारत के विकेटों की तरह हैं, इससे बल्लेबाजी आसान हो जाती है. वेस्टइंडीज में स्पिनरों के लिए टर्न नहीं थी. श्रीलंका के विकेट बल्लेबाजी करने के लिए बेहतर हैं."

टिप्पणियां
वीडियो : भारत की सीरीज जीत में चमके रोहित और बुमराह


कुलदीप का कहना है कि भारत के विश्व विजेता कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के साथ ड्रेसिंग रूम साझा करना उनके सपने का सच होना है. उन्होंने कहा कि धौनी विकेट के पीछे से सबसे अच्छे जज हैं. उन्होंने कहा, "धोनी के साथ ड्रेसिंग रूम साझा करने को लेकर मेरे पास शब्द नहीं हैं. पिछले छह महीनों से मैं माही भाई (धौनी) के साथ हूं. मैंने उनसे काफी कुछ सीखा है. वह विकेट के पीछे से आपको सबसे अच्छी तरह समझ सकते हैं. मैं खुश किस्मत हूं कि मैं उनके 300वें वनडे मैच में उनके साथ रहूंगा." (इनपुट: आईएएनएस)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement