पिछले आठ महीने में बेहतर बल्लेबाज बन गया हूं, बोले शिखर धवन

पिछले आठ महीने में बेहतर बल्लेबाज बन गया हूं, बोले शिखर धवन

नई दिल्ली:

विश्व कप के बाद से लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे शिखर धवन का मानना है कि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 2013 में टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण की तुलना में पिछले आठ महीने में वह बेहतर बल्लेबाज बन गया है।

धवन ने कहा, ‘पिछले दो साल में मेरे खेल में काफी बदलाव आया है लेकिन मैं स्वीकार करूंगा कि विश्व कप के बाद से पिछले आठ महीने में मैं बेहतर बल्लेबाज बन गया हूं। मैं विश्व कप में सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाजों (412 रन के साथ पांचवें स्थान पर) में से था।’

उन्होंने कहा, ‘मैं लगातार अच्छे प्रदर्शन पर जोर दे रहा था और पिछले कुछ महीने में ऐसा कर सका हूं। अब मैं 2013 की तुलना में अपने खेल को बेहतर समझता हूं।’ उन्होंने कहा, ‘मुझे लगातार शतक जमाने की खुशी है लेकिन गॉल टेस्ट में फ्रेक्चर के बाद दो टेस्ट नहीं खेल पाने का दुख भी है।’ उन्होंने बांग्लादेश ए के खिलाफ भारत ए के तीन दिवसीय मैच तक फिट होने का यकीन जताया।

धवन ने कहा, ‘मैं तेजी से फिट हो रहा हूं। अभी नेट अभ्‍यास शुरू नहीं किया है लेकिन उम्मीद है कि 27 सितंबर तक फिट हो जाउंगा।’ इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट श्रृंखलाओं में मिली विफलता ने धवन को काफी कुछ सिखाया और विश्व कप से पहले उन्होंने अपने खेल पर काफी मेहनत की।

धवन ने कहा, ‘मेरा मानना है कि विफलता से आप सफलता की तुलना में ज्यादा सीखते हैं। इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया दौरे पर मेरे साथ यही हुआ लेकिन विश्व कप से पहले मैने अपने काम पर काफी मेहनत की। लोग आपके खेल की आलोचना करते हैं लेकिन एक खिलाड़ी ही सबसे बेहतर समझ सकता है कि उसे क्या करना चाहिये। यह बदलाव विश्व कप से शुरू हुआ।’

उन्होंने कहा कि श्रीलंका के खिलाफ गॉल में पहले टेस्ट में काफी दर्द सहते हुए उन्होंने खेला। उन्होंने कहा, ‘मुझे पहले ही दिन फील्डिंग के दौरान फ्रेक्चर हो गया था। मैंने दवा ली और दूसरे दिन बल्लेबाजी की। मुझे काफी दर्द हो रहा था लेकिन उसमें भी खेलना संतोषजनक था।’ धवन ने कहा कि दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ श्रृंखला चुनौतीपूर्ण होगी लेकिन उन्हें यकीन है कि जीत भारत की होगी।

उन्होंने कहा, ‘हमें दक्षिण अफ्रीका को हराना होगा। यदि हम प्रक्रिया पर फोकस करेंगे तो नतीजे खुद ब खुद मिलेंगे।’ उन्होंने इस आलोचना को भी खारिज किया कि भारतीय बल्लेबाज स्पिनरों को बखूबी नहीं खेल पाते हैं।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


यह पूछने पर कि दक्षिण अफ्रीकी स्पिनरों इमरान ताहिर और डेन पीएट को खेलने के लिये क्या वह कुछ होमवर्क करने की सोच रहे हैं, उन्होंने कहा, ‘मेरा मानना है कि यह कहना गलत होगा कि भारतीय स्पिन गेंदबाजी को नहीं खेल पाते हैं। मैं स्वीप शॉट का अभ्‍यास कर रहा हूं जो खेलना मुझे पसंद है।’ उन्होंने यह भी कहा कि उनके, केएल राहुल और मुरली विजय के बीच स्वस्थ प्रतिस्पर्धा है।