हरभजन सिंह मेरे नंबर एक दुश्मन, आज भी आते हैं उनके बुरे सपने : रिकी पोंटिंग

हरभजन सिंह मेरे नंबर एक दुश्मन, आज भी आते हैं उनके बुरे सपने : रिकी पोंटिंग

हरभजन सिंह (फाइल फोटो)

खास बातें

  • ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग ने हरभजन सिंह की जमकर तारीफ की
  • पोंटिंग ने भज्जी को क्रिकेट के मैदान पर अपना सबसे बड़ा दुश्मन बताया
  • पोंटिंग ने विराट की भी तारीफ की और उन्हें कुशल व प्रतिभावन खिलाड़ी बताया
नई दिल्ली:

पूर्व ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट कप्तान रिकी पोंटिंग ने एक समय क्रिकेट के मैदान पर उनके सबसे बड़े दुश्मन रहे भारतीय स्पिनर हरभजन सिंह की जमकर तारीफ की है. उन्होंने बताया कि हरभजन उनके दुश्मन नंबर 1 थे और उन्हें आज भी भज्जी के बारे में बुरे सपने आते हैं. बता दें कि हरभजन सिंह ने किसी भी अन्य गेंदबाज के मुकाबले रिकी पोंटिंग को टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा 10 बार आउट किया है.

पत्रकारों से बात करते हुए पोंटिंग ने कहा, 'जब में भारत के खिलाफ खेलता था तो हरभजन सिंह मेरे कट्टर दुश्मन थे. मुझे आज भी उनके बुरे सपने आते हैं.' ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग को उनके गृहराज्य तस्मानिया ने अपना ब्रांड अम्बेस्डर बनाया है. वे भारत में अपने गृहराज्य के उच्चस्तरीय व्यावसायिक संबधों और शिक्षा से संबंधित कार्यों को बढ़ावा देने के लिए आए हैं.

रिकी पोंटिंग ने भारतीय बल्लेबाज और टेस्ट कप्तान विराट कोहली की भी जमकर तारीफ की और कहा कि वे बहुत ही कुशल और टैलेंटेड खिलाड़ी हैं. जब उनसे मौजूदा दौर के सर्वोत्तम बल्लेबाज के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, 'सच बताऊं तो मुझे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता. मैं तो इन सबको बस खेलते हुए देखना पसंद करता हूं.'

उन्होंने कहा, 'कोहली के पक्ष में उनकी उम्र है. अब तक का उनका एकदिवसीय करियर अविश्वसनीय है. हम यह भी जानते हैं कि उन्होंने पिछले साल क्या किया (चार शतक लगाए). वह अति कुशल और प्रतिभावन खिलाड़ी हैं. सबसे बड़ी बात तो यह है कि उनके पास बेस्ट बनने व हर संभव तरीके अपने देश का नेतृत्व करने के लिए एटिट्यूड भी है.'

पोंटिंग ने कहा, 'स्मिथ और विलियमसन भी कोहली की तरह ही उसी नाव पर सवार हैं. इनमें से जो भी मानसिक रूप से मजबूत होगा, वह सर्वश्रेष्ठ होगा.'

Newsbeep

उन्होंने मौजूदा भारतीय कोच अनिल कुंबले के बारे में भी अच्छी बातें कहीं. उन्होंने कहा, 'वे क्रिकेट के दिग्गजों में से एक हैं. उन्होंने खिलाड़ी और कप्तान दोनों रूपों में बड़ी सफलताएं हासिल की हैं. मुझे उनके साथ मुंबई इंडियंस के लिए काम करने का मौका मिला. उन्हें क्रिकेट के खेल की बहुत अच्छी समझ है.' हालांकि उन्होंने कोच के तौर पर कुंबले के भविष्य पर किसी तरह की टिप्पणी करने से इनकार कर दिया.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


- साथ में एजेंसी इनपुट