कोच के बजाय सीमित ओवरों के क्रिकेट में सलाहकार की भूमिका निभाना चाहूंगा : युवराज सिंह

भारत के पूर्व बल्लेबाज युवराज सिंह को लगता है कि वह कोचिंग के बजाय सीमित ओवरों के क्रिकेट अपने अनुभव के कारण सलाहकार की भूमिका बेहतर तरीके से निभा सकते हैं.

कोच के बजाय सीमित ओवरों के क्रिकेट में सलाहकार की भूमिका निभाना चाहूंगा : युवराज सिंह

युवराज ने कहा कि वह कमेंट्री की जगह कोचिंग और मेंटरिंग को तरजीह देना चाहेंगे.

नई दिल्ली:

भारत के पूर्व बल्लेबाज युवराज सिंह को लगता है कि वह कोचिंग के बजाय सीमित ओवरों के क्रिकेट अपने अनुभव के कारण सलाहकार की भूमिका बेहतर तरीके से निभा सकते हैं. युवराज ने केविन पीटरसन के साथ इंस्टाग्राम पर बातचीत में कहा कि वह कमेंट्री की जगह कोचिंग और मेंटरिंग को तरजीह देना चाहेंगे. युवराज ने कहा, ‘‘ मैं शायद उसकी (कोचिंग) शुरुआत करूंगा. मैं कॉमेंट्री करने से ज्यादा कोचिंग के लिए उत्सुक हूं.''

गौरतलब है कि भारत को टी20 विश्व कप (2007) और एकदिवसीय विश्व कप (2011) में चैम्पियन बनाने में अहम भूमिका निभाने वाले युवराज सिंह ने कहा कि वह मध्य-क्रम की बल्लेबाजी के मानसिक पहलुओं पर युवाओं से बात कर सकते हैं. 



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com