NDTV Khabar

बेहतर प्रदर्शन पर बोले विराट कोहली- कई रिकॉर्ड निशाने पर, फिट रहा तो 10 साल और खेलूंगा

कोहली ने कहा कि मेरे अंदर प्रदर्शन की भूख कभी खत्म नहीं होती, मैं अंतिम समय तक प्रदर्शन करना चाहता हूं.

102 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
बेहतर प्रदर्शन पर बोले विराट कोहली- कई रिकॉर्ड निशाने पर, फिट रहा तो 10 साल और खेलूंगा

कोहली ने युवाओं को घर से बाहर निकलकर खेलने की सलाह दी...

नई दिल्ली: पिछले कुछ समय से लगातार शानदार प्रदर्शन करने वाले भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने कहा कि अगर वे फिट रहे तो 10 साल तक खेल सकते हैं. कोहली ने पिछले कुछ समय में कई रिकॉर्ड अपने नाम किए और कई अन्य रिकॉर्ड उनके निशाने पर हैं. अपनी बेहतरीन फिटनेस के लिए भी मशहूर कोहली ने श्रीलंका के खिलाफ हाल में संपन्न वनडे सीरीज के दौरान दो शतक जड़कर ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग के 30 शतक की बराबरी करके महान भारतीय बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर (49 शतक) के बाद सर्वाधिक शतक की सूची में दूसरे स्थान पर पहुंचे. कोहली ने हाल ही में 15,000 रन पूरे किए है. श्रीलंका दौरे पर विराट ने 10 पारियों में 573 रन बनाए. श्रीलंका में विराट छाए रहे. 

इस साल छह शतक और सात अर्धशतक की मदद से 1639 अंतरराष्ट्रीय रन बनाने वाले कोहली ने यहां आरपीएसजी इंडियन स्पोट्र्स ऑनर्स पुरस्कार के लॉन्च के दौरान कहा, "लगातार प्रदर्शन में सुधार में कुछ भी छिपी हुई चीज नहीं है. काफी सारे लोगों को तो यह पता भी नहीं है कि हम रोजाना कितनी मेहनत करते हैं. मैंने कभी नहीं देखा कि थकान होने के बावजूद 70 प्रतिशत ट्रेनिंग करने के बाद कोई खिलाड़ी बीच में ही कह दे कि बस अब मेरा काम पूरा हो गया. हम काम पूरा करने के लिए पूरा जोर लगाते हैं."

यह भी पढ़ें : INDvsSL T20: टीम इंडिया की ऐतिहासिक जीत में विराट कोहली ने बनाए यह विश्‍वरिकॉर्ड

उन्होंने कहा, "मैं भी यही करने का प्रयास करता हूं. मेरे अंदर प्रदर्शन की भूख कभी खत्म नहीं होती. मैं अंतिम समय तक प्रदर्शन करना चाहता हूं. मेरे अंदर आठ साल या अगर मैं कड़ी ट्रेनिंग करता हूं तो 10 साल का खेल बचा है. मैं रोज नई शुरुआत करता हूं और छोटी चीजें भी मेरे लिए काफी मायने रखती हैं."

VIDEO : विराट कोहली ने इंटरनेशनल क्रिकेट में पूरे किए 15 हज़ार रन


कोहली ने इस दौरान युवाओं को घर से बाहर निकलकर खेलने की सलाह दी. उन्होंने कहा, "हमारे समय में गैजेट्स नहीं होते थे. आजकल तो लोग आईफोन और आईपैड पर व्यस्त हैं. हमारे समय में अगर किसी के पास अच्छा वीडियो गेम होता था तो हम उसके घर जाकर उसे खेलने की योजनाएं बनाते थे. मैंने अपना बचपन सड़क और मैदान पर अलग-अलग खेल खेलते हुए बिताया है और मैं युवाओं से अपील करूंगा कि वे भी बाहर जाकर खेलें और किसी न किसी खेल से जुड़ने का प्रयास करें." उन्होंने कहा, "ऐसे में हमारे पास खिलाड़ियों का पूल बढ़ेगा जिससे मदद मिलेगी."
(इनपुट भाषा से भी)

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement