NDTV Khabar

चैंपियंस ट्रॉफी : इंग्‍लैंड में कामयाबी के लिए अपनी बल्‍लेबाजी शैली में यह बदलाव कर रहे केदार जाधव...

केदार जाधव इस बात से वाकिफ हैं कि इंग्‍लैंड की सीमिंग कंडीशंस में उन्‍हें अपनी बल्‍लेबाजी स्‍टाइल में कुछ बदलाव करना होगा.

93 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
चैंपियंस ट्रॉफी : इंग्‍लैंड में कामयाबी के लिए अपनी बल्‍लेबाजी शैली में यह बदलाव कर रहे केदार जाधव...

जाधव का मानना है कि इंग्‍लैंड में आप पूरी तरह से आक्रामक होकर बैटिंग नहीं कर सकते (फाइल फोटो)

लंदन: वनडे में टीम इंडिया के मध्‍यक्रम के बल्‍लेबाज केदार जाधव इस बात से वाकिफ हैं कि इंग्‍लैंड की सीमिंग कंडीशंस में उन्‍हें अपनी बल्‍लेबाजी स्‍टाइल में कुछ बदलाव करना होगा. केदार का मानना है कि इंग्‍लैंड के स्विंग गेंदबाजी के मददगार माहौल में आप भारत की तरह पूरी तरह आक्रामक होकर नहीं खेल सकते. ऐसी परिस्थिति में आपको गेंद को उनकी मेरिट के हिसाब से खेलना होगा. अपने पहले आईसीसी टूर्नामेंट में खेलते हुए केदार जाधव का रोमांचित होना स्वाभाविक है लेकिन वे अपनी बल्‍लेबाजी वह अच्छी तरह वाकिफ हैं कि पूरी तरह से आक्रामक रवैया अपनाना इंग्लैंड के हालात में काम नहीं करेगा.

टीम इंडिया ने रविवार को न्‍यूजीलैंड के खिलाफ अपना पहला मैच आसानी से जीत लिया. इस मैच में जाधव को बैटिंग करने का मौका ही नहीं मिल पाया. टीम को कल बांग्लादेश के खिलाफ अपना दूसरा मैच खेलना है. दूसरे प्रैक्टिस मैच से पूर्व जाधव ने कहा, ‘कल मैं देख सकता था कि बल्लेबाजों को प्रत्येक रन के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ रही है और हालात के लगातार बदलने के कारण वे सहज नहीं हो पा रहे थे.’बदलते मौसम के बीच भारतीय बल्लेबाजों ने क्रीज पर महत्वपूर्ण समय बिताया जिससे टीम ने आसान जीत दर्ज की. जाधव ने कहा, ‘विकेट पर घास थी और मौसम के बदलाव से गेंद स्विंग कर रही थी.’ उन्होंने कहा, ‘अगर ऐसा ही रहा (आगामी मैचों में) तो आप आक्रामक रह सकते हैं लेकिन तकनीकी तौर पर आपको टेस्ट मैच या रणजी ट्रॉफी की तरह बल्लेबाजी करनी होगी. अच्छी गेंद को छोड़ दीजिए और मौका मिलने पर प्रत्येक गेंद पर रन बनाइये.’ जाधव ने कहा कि हालात से निपटने के लिए उन्होंने अपने खेल में बदलाव किया है।

उन्होंने कहा, ‘नेट पर मैं जितना संभव हो गेंद को शरीर के करीब खेलने की कोशिश कर रहा हूं.’जाधव ने कहा कि टीम की तैयारी अच्छी है और निजी तौर पर वह अच्छे प्रदर्शन के लिए तैयार हैं. वीजा मुद्दों के कारण टीम से देर से जुड़ने वाले जाधव ने कहा, ‘यह मेरी पहली आईसीसी ट्रॉफी है. इस तरह के टूर्नामेंट में खेलना शानदार अहसास है.’ उन्होंने कहा, ‘अब तक तैयारी संतोषजनक रही है. उम्मीद करता हूं कि मुझे कल अभ्‍यास मैच में बल्लेबाजी का मौका मिलेगा और इसके बाद बर्मिंघम के हालात से सामंजस्य बैठाने के लिए हमारे पास तीन से चार दिन हैं.’ रविवार को पाकिस्तान के खिलाफ भारत के पहले मैच के बारे में पूछने पर जाधव ने कहा, ‘मुझे लगता है कि पेशेवर क्रिकेटर के रूप में हम अपनी भावनाओं को शामिल नहीं करते. हम अपने सभी प्रतिद्वंद्वियों के खिलाफ समान जज्बे के साथ खेलते हैं.’ उन्होंने कहा, ‘माहौल दर्शक तैयार करते हैं. लोगों का मैच के लिए आना अच्छा है लेकिन हम सभी प्रतिद्वंद्वियों का सम्मान करते हैं.’ (एजेंसी से इनपुट)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement