IND vs AUS 3rd Test: चेतेश्वर पुजारा का यह 'रिकॉर्ड विशेष' तो हर हाल में बनना ही था

पुजारा अपनी पारी में 319 गेंदों पर 10 चौकों से 106 रन बनाकर आउट हुए. लेकिन इससे पहले ही 17वां शतक जड़ने के साथ ही पुजारा कारनामा कर चुके थे

IND vs AUS 3rd Test: चेतेश्वर पुजारा का यह 'रिकॉर्ड विशेष' तो हर हाल में बनना ही था

AUS vs IND, 3rd Test: चेतेश्वर पुजारा का 17वां टेस्ट शतक यादगार बन गया.

खास बातें

  • यह धीमापन हितकारी है!
  • करियर का 17वां शतक बन गया सबसे धीमा
  • इसीलिए पुजारा को कहते हैं सेकेंड वॉल!
मेलबर्न:

एडिलेड में शानदार शतक बनाने वाले और भारत की दूसरी 'वॉल' के नाम से मशहूर हो चलते चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) ने मेलबर्न (Melbourne Cricket Ground, Melbourne) में खेले जा रहे तीसरे टेस्ट के दूसरे दिन (मैच रिपोर्ट) में एक बार फिर से दिखाया कि वह क्यों टीम इंडिया के श्रीमान भरोसेमंद हैं.  पुजारा ने टेस्ट के दूसरे दिन अपने करियर का 17वां शतक जड़ा, तो इसके साथ कुछ रिकॉर्ड भी उनके हिस्से में आए. लेकिन एक रिकॉर्ड ऐसा भी आया, जिसके चलते उन्हें करियर में नियमित अंतराल में आलोचना भी झेलनी पड़ती रही है. बहरहाल, पुजारा के इस रिकॉर्ड ने एडिलेड में भी टीम इंडिया का भला किया, तो अब मेलबर्न में भी. ऐसे में इस बात के मायने नहीं कि आलोचक उनकी पारियों को किस नजर से देखते हैं. 

पुजारा अपनी पारी में 319 गेंदों पर 10 चौकों से 106 रन बनाकर आउट हुए. लेकिन इससे पहले ही 17वां शतक जड़ने के साथ ही पुजारा कारनामा कर चुके थे. दरअसल पुजारा ने 280 गेंदों पर अपना 17वां शतक पूरा किया. और इसी के साथ ही यह उनके करियर का अभी तक का सबसे धीमा शतक बन गया. इसी के साथ आपको जानकारी दे दें कि विदेशी जमीं पर पुजारा द्वारा जड़ा गया यह 7वां शतक रहा. इन सात में उन्होंने दो शतक कोलंबो के एसएससी में, तो एक-एक शतक जोहानिसबर्ग, गॉल, साउथंप्टन, एडिलेड और मेलबर्न में जड़ा है. 

यह भी पढ़ें:  Cricket Poll: आपकी नजर में वर्ष 2018 के लिए कौन है पसंदीदा क्रिकेटर?

पुजारा की धीमी बल्लेबाजी के लिए आलोचना होती रही है. टीम मैनेजमेंट ने उनकी धीमे स्ट्राइकरेट का हवाला देते हुए विंडीज के साल 2017 के दौरे में उन्हें टीम से ड्रॉप भी कर दिया था. लेकिन ऑस्ट्रेलियाई जमीं पर यह पुजारा का धीमापन ही है, जिसने पहले एडिलेड में खेले गए पहले टेस्ट में भारत को जीत दिलाई, तो अब मेलबर्न में उन्होंने विराट के साथ एक बेहतरीन साझेदारी करते हुए भारत को पहली पारी में 443 के स्कोर तक पहुंचने में अहम योगदान दिया. बहरहाल पुजारा के 'रिकॉर्ड विशेष' पर लौटते हैं. यह रिकॉर्ड है 1 जनवरी साल 2017 के बाद से टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा गेंद खेलने का. 

Newsbeep

VIDEO: ऑस्ट्रेलिया रवाना होने से पहले भारतीय कप्तान विराट कोहली

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इस अवधि के बाद से चेतेश्वर पुजारा टेस्ट क्रिकेट में चार हजार गेंदों का सामना करने वाले क्रिकेट जगत के इकलौते बल्लेबाज हैं. इस तारीख के बाद से पुजारा ने 40 पारियों में 4633 गेंदों का सामना किया है. मतलब उन्होंने हर पारी में औसतन 116 गेंदें खेली हैं. पुजारा के बाद भारतीय कप्तान विराट कोहली का नंबर आता है. विराट ने 1 जनवरी साल 2017 के बाद से 39 पारियों में 3796 गेंदों का सामना किया है.