IND vs ENG 1st TEST: पटौदी, अज़हरुद्दीन और गांगुली के बाद विराट कोहली ने किया यह कमाल

IND vs ENG 1st TEST:  पटौदी, अज़हरुद्दीन और गांगुली के बाद विराट कोहली ने किया यह कमाल

India tour of England, 2018: शतकीय पारी खेलने के बाद विराट कोहली

खास बातें

  • साल 2014 में 10 पारियों में विराट के थे सिर्फ 134 रन
  • 16 साल बाद किसी भारतीय कप्तान का इंग्लैंड में शतक
  • अब सीरीज में इंग्लैंड की खैर नहीं!
बर्मिंघम:

साल 2014 में विराट कोहली ने जब इंग्लैंड का दौरा किया था तब उनकी बल्लेबाजी को लेकर कई सवाल उठाए जा रहे थे.  तब कोहली उस सीरीज में पांच टेस्ट खेलते हुए 10 पारियों में सिर्फ 13.4 के औसत से 134 रन ही बना सके थे.  समझ नहीं आ रहा था की न्यूज़ीलैंड और ऑस्ट्रेलिया के जैसे तेज पिच पर अच्छे खेलने वाले कोहली इंग्लैंड में कैसे फ़्लॉप हो रहे थे. लेकिन इस दौरे में ऐसा लगता है इस बार कोहली इंग्लैंड में कुछ खास करके आने वाले हैं. इंग्लैंड के खिलाफ चल रहे पहले टेस्ट में कोहली ने शानदार शतक से भारत को मुसीबत से बाहर निकालते हुए मजबूत स्थिति में ला खड़ा किया. कोहली ने 149 रन का शानदार पारी खेली. उन्होंने पारी में 22 चौके और एक छक्के लगाया. टीम इंडिया अपने पहली पारी में 274 रन बनाए, जिसमें में से करीब 55 प्रतिशत रन अकेले कोहली ने बनाए. कोहली के शतक से जुड़ी कई बातें यादगार रहीं.

16 सालों के बाद किसी भारतीय कप्तान लगाया  शतक: इंग्लैंड के मैदान पर शतक के साथ-साथ कोहली ने भारतीय कप्तान के रूप में 16 साल बाद शतक जड़ने में कामयाब रहे.  साल 2002 में कप्तान के रूप में सौरव गांगुली ने आखिरी बार इंग्लैंड के मैदान पर शतक लगाया था. इस मैच में सौरव गांगुली ने 128 रन बनाए थे. सचिन तेंदुलकर और राहुल द्रविड़ भी इस मैच में शतक जड़े थे. भारत ने मैच को एक पारी और 46 रन जीता था. साल 2002 के बाद कई खिलाड़ियों ने इंग्लैंड के मैदान पर शतक जरूर जड़े लेकिन कोई भी  भारतीय शतक मारने में कामयाब नहीं हो सका था. साल 2007 में अनिल कुंबले ने शतक लगाया था, तो वहीं  2011 राहुल द्रविड़ और 2014 में अजिंक्ये रहाणे और मुरली विजय ने शतक लगाने कामयाब हुए थे.

यह भी पढ़ें: IND vs ENG 1st TEST, 3rd Day: विराट कोहली की 'यह हरकत' नही भायी मैच रेफरी जेफ क्रो को, ड्रेसिंग रूम में मिलने पहुंचे​

 सिर्फ चार भारतीय कप्तान ही जड़ सके हैं शतक : इंग्लैंड के खिलाफ 86 सालों की टेस्ट क्रिकेट इतिहास में सिर्फ चार भारतीय कप्तान इंग्लैंड के मैदान पर शतक मारने में कामयाब हुए हैं. साल 1967 में नवाब पटौदी ने लीड्स पर 148 रन की पारी खेली थी. पटौदी ने अपने पारी में 15 चौके और एक छक्क लगाया था. भारत इस मैच को 46 रन से हार गया था. इंग्लैंड के मैदान में कप्तान के रूप में टेस्ट मैचों में सबसे ज्यादा शतक मरने मामले मोहम्मद अजरुद्दीन सूची में पहले स्थान पर है.

साल 1990 में मोहम्मद अजहरुद्दीन ने इंग्लैंड के मैदान पर कप्तान के रूप में दो शतक मारने में कामयाब हुए थे. 26 जुलाई 1990 को लॉर्ड्स के मैदान अज़रुद्दीन 121 रन का पारी खेली, लेकिन भारत मैच 247 रन से हार गया था. 9 अगस्त 1990 को अजहरुद्दीन ने मैनचेस्टर में 179 रन बनाए थे.  कप्तान के रूप में इंग्लैंड के मैदान पर टेस्ट मैचों में भारतीय के रूप में यह सबसे ज्यादा व्यक्तिगत स्कोर है. इंग्लैंड के खिलाफ यह मैच भारत ड्रॉ करवाने में कामयाब हुआ था. साल 2002 में सौरल गांगुली ने शतक जड़ा, तो अब कोहली ने इंग्लैंड की धरती पर सेंचुरी ठोंकी है.

राहुल द्रविड़ ने जड़े सबसे ज्यादा शतक : इंग्लैंड के मैदान पर टेस्ट मैचों में भारत की तरफ से 40 शतक लगे हैं  और सबसे ज्यादा शतक लगाने के मामले राहुल द्रविड़ पहले स्थान पर है. राहुल द्रविड़ ने कुल मिलाकर छह शतक लगाए हैं , जब की सचिन तेंदुलकर और दिलीप वेंगसरकर 4-4 और सौरव गांगुली ने तीन शतक लगाने में कामयाब हुए है. इंग्लैंड के मैदान पर सबसे ज्यादा व्यक्तिगत स्कोर के मामले में सुनील गावस्कर सबसे आगे हैं. अगस्त 1979 को  ओवल के मैदान ने 221 रन की पारी खेला थी. साल 2002 में राहुल द्रविड़ ने इस मैदान 217 रन बनाए थे. गावस्कर और द्रविड़ को छोड़कर कोई भी भारतीय बल्लेबाज दोहरा शतक मारने में कामयाब नहीं हुए हैं. 

VIDEO: सुनिए की पहले टेस्ट में पेसर और स्पिनरों को लेकर एनडीटीवी के विशेषज्ञ क्या कह रहे हैं.

कुल मिलाकर विराट कोहली ने पांच टेस्ट मैचों की इस सीरीज का शानदार आगाज किया है, लेकिन रिकॉर्डमशीन कहे जाने वाले कोहली की राह में अभी भी कई रिकॉर्ड हैं. और देखने वाली बात यह होगी कि वह सीरीज खत्म होते-होते किन रिकॉर्डों पर पानी फेरते हैं. और कौन-कौन से रिकॉर्ड उनके खाते में जमा  होते हैं.

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com