IND vs SA: फाफ डु प्‍लेसिस बोले, 'हमने वापसी की कोशिश की लेकिन भारत के स्पिनरों ने ऐसा नहीं होने दिया'

IND vs SA: फाफ डु प्‍लेसिस बोले, 'हमने वापसी की कोशिश की लेकिन भारत के स्पिनरों ने ऐसा नहीं होने दिया'

Faf du Plessis ने माना, टीम इंडिया की गेंदबाजी के आगे दक्षिण अफ्रीकी टीम टिक नहीं सकी

साउथम्पटन:

दक्षिण अफ्रीका की टीम का वर्ल्‍डकप 2019 (World Cup 2019) में अब तक का प्रदर्शन निराशाजनक रहा है. विराट कोहली ने बुधवार को फाफ डु प्‍लेसिस (Faf du Plessis) की दक्षिण अफ्रीका टीम (South Africa Team)को छह विकेट से हरा (मैच की रिपोर्ट यहां देखें ) दिया. यह दक्षिण अफ्रीका की इस वर्ल्‍डकप में लगातार तीसरी हार है. इस हार के साथ दक्षिण अफ्रीका की सेमीफाइनल में प्रवेश की राह और ज्‍यादा मुश्किल हो गई है. मैच के बाद दक्षिण अफ्रीका के कप्‍तान फाफ डु प्‍लेसिस (Faf du Plessis)ने माना कि भारतीय टीम (Indian Team)की गेंदबाजी के आगे उनके बल्‍लेबाज टिक नहीं सके. उन्‍होंने कहा कि हमने वापसी की कोशिश की लेकिन भारत के स्पिनरों ने बीच के ओवरों में काम बिगाड़ दिया. भारत के खिलाफ मैच में मिली इस हार के पहले दक्षिण अफ्रीका को शुरुआती मैच में इंग्लैंड ने हराया था तो वहीं दूसरे मैच में बांग्लादेश ने पटका था.

शोएब अख्‍तर ने की MS धोनी की प्रशंसा, कहा-कंप्‍यूटर से भी तेज हैं 'माही'

भारत के खिलाफ मैच में पहले बल्लेबाजी करने वाली दक्षिण अफ्रीका 50 ओवरों में नौ विकेट के नुकसान पर 227 रनों से आगे नहीं जा सकी. मैच के बाद डु प्लेसिस (Faf du Plessis)ने कहा, "उनकी (भारत की) गेंदबाजी शानदार है. उनके पास अच्छे तेज गेंदबाज और स्पिनर हैं. हमने वापसी की कोशिश अच्छी की थी लेकिन फिर स्पिनरों ने हमारी कोशिश को नाकाम कर दिया." उन्‍होंने कहा कि हमने ऐसी बैटिंग की जिसे स्‍वीकार नहीं किया जा सकता. रोहित शर्मा (Rohit Sharma) की शतकीय पारी पर डु प्लेसिस ने कहा, "रोहित को किस्मत का साथ भी मिला लेकिन उन्होंने वो किया जो हम नहीं कर पाए. उन्‍होंने शतक जमाया और हमें मैच जिताया. यह पिच शानदार थी. हमारे सभी तेज गेंदबाजी विकल्प खत्म हो गए थे इसलिए हमने दो स्पिनर को खिलाने का फैसला किया."

शतक बनाने के बाद भी रोहित शर्मा बोले, 'मैं अपना स्‍वाभाविक खेल नहीं खेल सका'

पहले बल्लेबाजी चुनने के फैसले पर डु प्लेसिस (Faf du Plessis)ने कहा, "अगर हमारे पास डेल स्टेन और लुंगी एनगिडी होते तो कहानी कुछ अलग होती. कगिसो रबाडा चैम्पियन हैं, मैंने उनकी गेंदों को ज्यादा इधर-उधर जाते नहीं देखा, लेकिन क्रिकेट इसी तरह होती है. जब आप अपनी सर्वश्रेष्ठ टीम के साथ नहीं खेलते हो तो यह 50-50 की चीजें आपके पक्ष में नहीं जाती हैं. हमारी कोशिश लगातार लड़ने की होगी लेकिन हम हमेशा गलती कर बैठते हैं. आज किसी न किसी को अंत तक बल्लेबाजी करनी थी लेकिन कोई नहीं कर सका. ज्यादा 30-40 रनों की पारियों से काम नहीं चलेगा" (इनपुट: एजेंसी)

वीडियो: रोहित शर्मा के शतक से भारत की वर्ल्‍डकप में पहली जीत>

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com