NDTV Khabar

IND VS SA: चोट नहीं, 'इस वजह' से ऋद्धिमान साहा दक्षिण अफ्रीका से वापस लौटे

भारतीय विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा पहले टेस्ट के बाद से ही चोटिल चल रहे हैं. दक्षिण अफ्रीका में उनका इलाज चल रहा था, लेकिन अब बीसीसीआई ने खास कारण से वापस भारत बुला लिया है.

178 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
IND VS SA: चोट नहीं, 'इस वजह' से ऋद्धिमान साहा दक्षिण अफ्रीका से वापस लौटे

ऋद्धिमान साहा का फाइल फोटो

खास बातें

  1. बीसीसीआई के निर्देश पर पत्नी सहित भारत लौटे साहा
  2. नेशनल क्रिकेट अकादमी के लिए रवाना होंगे भारतीय टेस्ट स्टंपर
  3. एनसीए में रिहैबिलेशन प्रक्रिया से गुजरेंगे साहा
नई दिल्ली: दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सेंचुरियन में खत्म हुए दूसरे टेस्ट में ही साफ हो गया था कि जोहांसबर्ग में 24 जनवरी से शुरू होने वाले तीसरे टेस्ट में नहीं ही खेल पाएंगे. लेकिन उनके लौटने का हाल-फिलहाल कोई कार्यक्रम नहीं था क्योंकि मेडिकल टीम लगातार उनकी चोट पर नजर रखे हुए थे, लेकिन अब भारतीय टेस्ट टीम के नियमित विकेटकीपर साहा बीसीसीआई के निर्देश के बाद पत्नी सहित शुक्रवार को वापस भारत लौट आए हैं. 


दूसरे टेस्ट के दौरान जब सेलेक्टरों ने विकेटकीपर दिनेश कार्तिक को बुलावा भेजा, तो यह तभी साफ हो गया था कि तीसरे टेस्ट में पार्थिव पटेल विकेट के पीछे की जिम्मेदारी नहीं ही संभालेंगे. बावजूद इसके ऋद्धिमान साहा दक्षिण अफ्रीका में ही बने हुए थे क्योंकि साहा की चोट और इसकी प्रगति का लगातार ध्यान रखे जा रहा था. लेकिन बीसीसीआआई ने उन्हें लौटने का निर्देश दिया, तो वह अब भारत वापस आ गए हैं. 

यह भी पढ़ें : 'यह हरकत' भारी न पड़ जाए 'विवादों के अंबाती रायुडू' को, बीसीसीआई ने मांगा 7 दिन के भीतर जवाब

पहले टेस्ट में निचले क्रम में बल्ले से योगदान न दे पाने के कारण साहा की की आलोचना हुई थी. हालांकि इस आलचोना को पूर्व क्रिकेटरों और पंडितों ने सिरे से खारिज करते हुए कहा था कि सिर्फ एक मैच के आधार पर ऋद्धिमान साहा को नहीं घेरा जा सकता. और बात भी सही थी और यह सही साबित भी हुई. सेंचुरियन में विकेट के पीछे साहा की साफ कमी महसूस हुई क्योंकि पार्थिव ने कई कैच टपकाए.

VIDEO : कुछ दिन पहले मुंबई में विराट कोहली के रिसेप्शन का लुत्फ उठाइए. 

बहरहाल ऋद्धिमान साहा को बीसीसीआई को इसलिए वापस बुलाया है कि जिससे यह विकेटकीपर बेंगलुरु स्थित राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) में रिहैबिलेशन (पुनर्वास कार्यक्रम) से गुजर सकें और उनका और बेहतरी के साथ इलाज हो सके.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement