NDTV Khabar

IND vs WI 2nd ODI: विराट कोहली का यह रिकॉर्ड है अपने आप में बम, 47 साल में पहली बार हुआ बड़ा धमाका

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
IND vs WI 2nd ODI: विराट कोहली का यह रिकॉर्ड है अपने आप में बम, 47 साल में पहली बार हुआ बड़ा धमाका

IND vs WI 2nd ODI: विराट कोहली को रिकॉर्डमैन कहा जाए, तो गलत नहीं होगा

खास बातें

  1. यह रिकॉर्ड नहीं आग का गोला है!
  2. विराट ने जड़ा 37वां शतक
  3. अब संयुक्त नहीं, अकेले बादशाह हैं कोहली इस विराट रिकॉर्ड के
नई दिल्ली:

दीवाली अभी दूर है, लेकिन भारतीय कप्तान विराट कोहली ने अभी से ही बम और पटाखे छोड़ने शुरू कर दिए हैं. और उन्होंने अपने इस आतिशबाजी से जमकर झुलसाया है विंडीज गेंदबाजों को. पहले गुवहाटी में खेले गए पहले वनडे में 140 रन बनाए, तो विशाखापट्टनम में लगातार दूसरे वनडे (मैच रिपोर्ट) में शतक जड़ा और बिना आउट हुए 157 ठोक डाले विंडीज ने भले ही दूसरा डे-नाइड मुकाबला टाई कराने में कामयाबी हासिल कर ली हो, लेकिन विराट की बमबारी से पूरी दुनिया में हाहाकार मचा हुआ है. 

जिस गति से विराट ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में दूसरे वनडे में दस हजार रन पूरे किए, क्रिकेट जगत अब उन्हें मॉडर्न ब्रेडमैन कहने लगा है. विराट ने अपने इस कारनामे के लिए सिर्फ 205 पारियां लीं, जबकि सचिन ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में दस हजार रन पूरा करने के लिए 259 पारियां ली थीं. यह आंकड़ा कोहली की रनों की भूख बताने के लिए काफी है.

यह भी पढ़ें: IND vs WI: शतक लगाने वाले शिमरोन हेटमायर बोले, 'फॉर्म में लौटने के लिए ब्रायन लारा से प्रेरणा ली'


टिप्पणियां

लेकिन इस सबसे अलग कोहली ने अपनी नाबाद 157 रनों की पारी से उस कानामे को अंजाम दे डाला, जो वनडे क्रिकेट के इतिहास इतिहास में आज तक कोई नहीं कर सका. बता दें कि पहला अंतरराष्ट्रीय वनडे मुकाबला करीब 47 साल पहले 5 जनवरी 1971 को ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड  पर खेला गया था. बहरहाल, हम बात कर रहे हैं किसी एक साल के भीतर सबसे कम पारियों में एक हजार रन पूरे करने की. हालांकि, बुधवार से पहले तक भी इस रिकॉर्ड विराट कोहली का नाम ही चस्पा था. लेकिन यह हाशिम अमला के साथ संयुक्त रूप से था. दोनों के ही नाम 15 पारियों में वनडे में एक हजार बनाने का रिकॉर्ड था. 

VIDEO: भारत ने दूसरे टेस्ट में विंडीज को हराकर सीरीज 2-0 से जीती

जहां हाशिम अमला ने साल 2010 में यह कारनामा किया था, तो विराट ने साल 2012 में 15 पारियों में एक हजार रन पूरे किए थे. लेकिन विंडीज के खिलाफ तो विराट कोहली ने वह कर दिखाया, जिसके बारे में सोचते ही बाकी बल्लेबाजों को पसीना छूट जाएगा. विराट ने महज 11 ही पारियों में साल 2018 में एक हजार बना डाले. फॉर्म को देखकर तो यही लग रहा है कि कोहली ही अपने इस रिकॉर्ड को तोड़ सकते हैं. बहरहाल, यह रिकॉर्ड अगले कई सालों के लिए दुनिया भर के बल्लेबाजों के लिए चैलेंज बनने जा रहा है.
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement