NDTV Khabar

IND vs WI 3rd ODI: रवींद्र जडेजा बोले, दुन‍िया के सामने नहीं खुद के सामने क्षमता साब‍ित करनी थी...

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
IND vs WI 3rd ODI: रवींद्र जडेजा बोले, दुन‍िया के सामने नहीं खुद के सामने क्षमता साब‍ित करनी थी...

IND vs WI 3rd ODI: Ravindra Jadeja ने तीसरे वनडे मैच में नाबाद 39 रनों की पारी खेली

खास बातें

  1. कहा, द‍िखाना था क‍ि वनडे क्र‍िकेट खेल सकता हूं
  2. कटक में हमारे ल‍िए आख‍िरी गेंद तक खेलना अहम था
  3. जडेजा को लेकर व‍िवाद‍ित कमेंट कर चुके हैं मांजरेकर
कटक:

India vs West Indies, 3rd ODI: व‍िराट कोहली की टीम इंड‍िया ने वेस्‍टइंडीज के ख‍िलाफ तीन वनडे मैचों की सीरीज 2-1 के अंतर से जीत ली है. कप्‍तान व‍िराट कोहली, रोह‍ित शर्मा और केएल राहुल के अर्धशतक के बावजूद मुश्‍क‍िल वक्‍त में नाबाद 39 रन की पारी खेलने वाले रवींद्र जडेजा (Ravindra Jadeja) मैच में दर्शकों का द‍िल जीतने में सफल रहे. उन्‍होंने पुछल्‍ले बल्‍लेबाज शारदुल ठाकुर के साथ म‍िलकर भारतीय टीम (Team India) को जीत तक पहुंचाया. मैच के बाद रवींद्र जडेजा ने कहा कि उन्हें दुनिया को नहीं बल्कि खुद को साबित करना है कि वह वनडे क्रिकेट खेल सकते हैं. गौरतलब है क‍ि जडेजा सीमित ओवरों की टीम का नियमित हिस्सा नहीं थे लेकिन इंग्लैंड में वनडे वर्ल्‍डकप से पहले योजना का हिस्सा बने. भारत के पूर्व क्रिकेटर और कमेंटेटर संजय मांजरेकर ने उन्हें ‘टुकड़ों-टुकड़ों में खेलने वाला खिलाड़ी' कहा था लेकिन न्यूजीलैंड के खिलाफ वर्ल्‍डकप सेमीफाइनल में उन्होंने 59 गेंदों में 77 रन बनाकर टीम को जीत के करीब पहुंचा दिया था.

IND vs WI 3rd ODI: 'सर' जडेजा की बैट‍िंग से खुश हुए सौरव गांगुली, क‍िया यह ट्वीट..


जडेजा (Ravindra Jadeja) ने कहा,‘मुझे खुद को साबित करना था कि मैं अभी भी सीमित ओवरों का क्रिकेट खेल सकता हूं. मुझे दुनिया में किसी को कुछ साबित नहीं करना था.'रव‍िवार की अपनी पारी के बारे में उन्होंने कहा,‘यह काफी बेहद अहम थी क्योंकि यह निर्णायक मैच था. विकेट बल्लेबाजी के लिये अच्‍छा था, हमें बस गेंद को भांपकर खेलना था.'उन्होंने कहा,‘मैंने इस साल ज्यादा वनडे क्रिकेट नहीं खेला. लेकिन जब भी मौका मिला गेंदबाजी, बल्लेबाजी और फील्डिंग में अपना सर्वश्रेष्ठ देने की कोशिश की.'

टिप्पणियां

छह गेंद में नाबाद 17 रन बनाने वाले शारदुल ठाकुर के बारे में उन्होंने कहा,‘आखिरी गेंद तक खेलना अहम था. हमें पता था कि हम ही जीतेंगे.' जडेजा ने माना कि टीम को फील्डिंग पर और मेहनत करने की जरूरत है. उन्होंने कहा,‘पूरी सीरीज में कई कैच छूटे. हमारी फील्डिंग के स्तर को देखते हुए ऐसा नहीं होना चाहिये था. दूधिया रोशनी में ओस के कारण ऐसा हो जाता है. कैच छूटने का खामियाजा भुगतना पड़ता है । अगली सीरीज में इस पहलू पर ध्यान देना होगा.'

वीडियो: 15 साल की लड़की ने तोड़ा तेंदुलकर का रिकॉर्ड



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... राजगढ़ के थप्पड़ कांड को लेकर हाई कोर्ट ने राज्य सरकार और कलेक्टर से जवाब मांगा

Advertisement