NDTV Khabar

बेंगलुरु टेस्‍ट : केएल राहुल को भरोसा, अश्विन और जडेजा के सहारे अब भी कर सकते हैं वापसी

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बेंगलुरु टेस्‍ट : केएल राहुल को भरोसा, अश्विन और जडेजा के सहारे अब भी कर सकते हैं वापसी

भारतीय टीम के सलामी बल्‍लेबाज केएल राहुल

खास बातें

  1. केएल राहुल ने पारी में ऑस्‍ट्रेलियाई गेंदबाज नैथन लियोन की तारीफ की
  2. दोनों ही मैचों में भारतीय बल्लेबाज़ अब तक अच्छी पार्टनरशिप नहीं कर पाए हैं
  3. अभिनव मुकुंद और करुण नायर का सस्ते में आउट होना टीम पर भारी पड़ गया
नई दिल्‍ली:

कर्नाटक के लोकेश राहुल अब तक मायूस कर रही भारत-ऑस्ट्रेलियाई टेस्ट सीरीज़ में इकलौते कामयाब भारतीय बल्लेबाज़ साबित हुए हैं. पुणे और बेंगलुरु दोनों ही टेस्ट में भारत की एक पारी में क़रीब आधे रन (पुणे में 64/105, बेंगलुरु में 90/189) केएल राहुल के बल्ले से ही आए. राहुल अपने 15वें टेस्ट में अपना पांचवां शतक बनाने से चूक गए. राहुल मैच के बाद प्रेस कॉन्फ़्रेंस में मायूस तो दिखे लेकिन उन्होंने कहा कि टीम इंडिया मैच में अब भी वापसी कर सकती है. राहल ने कहा, 'बेंगलुरु की पिच में दरारें खुल रही हैं. इस पिच पर बल्लेबाज़ी आगे और मुश्किल होगी. आर अश्विन और रवीन्द्र जडेजा इन हालात का यकीनन फ़ायदा उठा सकते हैं.' राहुल को बेंगलुरु में अपने शतक को पूरा नहीं कर पाने का मलाल भी है.

उन्होंने कहा कि वो जमकर खेल रहे थे. लेकिन ये उनकी ज़िम्मेदारी थी कि टीम के लिए ज़्यादा से ज़्यादा रन जोड़ सकें. जब आख़िर में एक-दो बल्लेबाज़ बचे तो उन्होंने तेज़ी से रन जोड़ने शुरू किये और उन्हें शतक से पहले अपना विकेट गंवाना पड़ा. उन्होंने पारी में नैथन लियोन की गेंदबाज़ी की भी तारीफ़ की. उन्होंने कहा, 'नई गेंद शुरुआत में बल्ले पर ठीक से आ रही थी. लेकिन विकेट में नमी होने की वजह से स्पिनर्स ने खूब फ़ायदा उठाया. गेंद पुरानी हुई तो नेथन ने ऑफ़ स्टंप के बाहर हालात का फ़ायदा उठाते हुए खूब विकेट झटके. वो कंसिस्टेंट रहे और उन्हें इसका फ़ायदा मिला.'


टिप्पणियां

दोनों ही मैचों में भारतीय बल्लेबाज़ अब तक अच्छी पार्टनरशिप नहीं कर पाए हैं. कप्तान विराट कोहली पुणे के बाद इसका ज़िक्र कर चुके हैं. राहुल ने भी इसे लेकर फ़िक्र जताई. टीम इंडिया की नई दीवार माने जाने वाले राहुल ने कहा, 'ये ज़रूरी है कि हम अच्छी पार्टनरशिप कर पाएं. ये पुणे में नहीं हो पाया और यहां भी नहीं हो पाया.' राहुल कहते हैं कि इन सबके बावजूद खिलाड़ी ज़िम्मेदारी लेने को तैयार हैं, ये टीम के लिए सकारात्मक बात है.

उनके मुताबिक अभिनव मुकुंद और करुण नायर का सस्ते में आउट होना टीम पर भारी पड़ गया. वो कहते हैं, 'अभिनव अभी आए हैं. उनसे उम्मीद थी. करुण नायर अच्छा खेल रहे थे. ये बल्लेबाज़ नहीं चल पाए. ये मेरी और दूसरे बल्लेबाज़ों की ज़िम्मेदारी है कि हम पारी को बेहतर करें. अच्छी बात ये है कि हम ज़िम्मेदारी उठाने को तैयार हैं.' वो मानते हैं कि बल्लेबाज़ पार्टनरशिप बनाएं और गेंदबाज़ इस पिच का फ़ायदा उठा सकें तो बेंगलुरु टेस्ट अब भी भारत के हाथों से फ़िसला नहीं है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement