NDTV Khabar

भारतीय महिला टीम की स्पिन बॉलिंग और निचले क्रम की बैटिंग में सुधार की जरूरत: मिताली राज

टेस्ट व वनडे में भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्‍तान मिताली राज ने स्पिन गेंदबाजी और निचले क्रम की बैटिंग में सुधार की जरूरत बताई है. भारतीय टीम इस साल नवम्बर में महिलाओं के टी-20 वर्ल्‍डकप टूर्नामेंट में हिस्सा लेगी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भारतीय महिला टीम की स्पिन बॉलिंग और निचले क्रम की बैटिंग में सुधार की जरूरत: मिताली राज

मिताली राज की कप्‍तानी में भारतीय टीम, महिला वर्ल्‍डकप में उपविजेता रही थी (फाइल फोटो)

सेंचुरियन: टेस्ट व वनडे में भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्‍तान मिताली राज ने स्पिन गेंदबाजी और निचले क्रम की बैटिंग में सुधार की जरूरत बताई है. भारतीय टीम इस साल नवम्बर में महिलाओं के टी-20 वर्ल्‍डकप टूर्नामेंट में हिस्सा लेगी. इस टूर्नामेंट के पिछले तीन संस्करणों में भारतीय टीम पहले दौर में ही बाहर हो गई थी जबकि 2009 और 2010 में टीम ने सेमीफाइनल तक का सफर तय किया था. हालांकि, वर्तमान में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टी-20 सीरीज खेल रही भारतीय टीम अच्छा प्रदर्शन कर रही है. उसने पांच टी-20 मैचों की सीरीज में 2-1 से बढ़त हासिल कर रखी है. बुधवार को सीरीज का चौथा मैच बारिश के कारण रद्द हो गया.

यह भी पढ़ें: महिला क्रिकेट टीम की कप्तान मिताली को तेलंगाना सरकार की ओर से बंपर इनाम
 
भारतीय महिला टीम की शीर्ष क्रम की बल्लेबाजी अच्छी फॉर्म में है, लेकिन निचले क्रम की बल्लेबाजी कमजोर कड़ी साबित हो रही है. इसका फायदा दक्षिण अफ्रीका ने तीसरे टी-20 मैच में उठाया था. इस पर मिताली ने कहा, "मैं निश्चित तौर पर टीम को इस प्रारूप (T20) में अच्छा प्रदर्शन करते देखना चाहती हूं. देखा जाए, तो टी-20 प्रारूप में भारतीय टीम ने अच्छा प्रदर्शन नहीं किया है, फिर चाहे ये वर्ल्‍डकप हो या द्विपक्षीय सीरीज. इसलिए, इस साल हम इसमें अच्छा प्रदर्शन करने की कोशिश कर रहे हैं."

वीडियो: मिताली बोलीं, डैड के दबाव में खेलना शुरू किया था क्रिकेट
मिताली ने कहा, "निश्चित तौर पर वनडे की तुलना में टी-20 एक अलग प्रारूप है. भारतीय टीम को इसमें बेहतर प्रदर्शन के लिए काफी मेहनत की जरूरत है. पिछले दो मैचों में हमने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अच्छा प्रदर्शन किया. हालांकि, वर्ल्‍डकप की तैयारी के लिए अब भी काफी मेहनत करने की जरूरत है." मिताली ने कहा कि वर्ल्‍ड टी-20 के मैच जिन स्थलों में खेले जाते हैं, वहां काफी धीमी पिचें होती हैं और ऐसे में टीम के लिए स्पिन गेंदबाज अहम भूमिका निभा सकती हैं. स्पिन गेंदबाजी पर काफी मेहनत करने की जरूरत है.  (इनपुट: एजेंसी)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement