India vs Australia U19 Final: ...पर मैन ऑफ द टूर्नामेंट बन गए शुबमन गिल

टीम इंडिया के उपकप्तान शुबमन गिल के बल्ले ने टूर्नामेंट में जमकर रन बरसाए और आखिर में उन्होंने वह हासिल कर ही लिया, जिस पर करोड़ों भारतीय क्रिकेटप्रेमियों की नजरें लगी हुई थीं.

India vs Australia U19 Final: ...पर मैन ऑफ द टूर्नामेंट बन गए शुबमन गिल

शुबमन गिल

खास बातें

  • शुबमन गिल बने मैन ऑफ द टूर्नामेंट
  • सबसे ज्यादा रन बनाने वाले दूसरे बल्लेबाज रहे
  • शुबमन का 124.00 का औसत टूर्नामेंट में सर्वश्रेष्ठ
नई दिल्ली:

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अंडर-19 विश्व कप में फाइनल मुकाबले में करोड़ों भारतीय क्रिकेटप्रेमियों की नजरें जूनियर टीम के विराट कोहली कहे जा रहे शुबमन गिल पर टिकी हुई हैं. शुबमन भारत के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं. पंजाब का यह उभरता हुआ बल्लेबाज भले ही एक बार को टूर्नामेंट का बड़ा चैलेंज नहीं भेद सका.
 


लेकिन शुबमन ने अपने अति शानदार औसत से सभी को पानी पिलाते हुए मैन ऑफ द टूर्नामेंट का पुरस्कार अपनी झोली में डाल लिया. शुबमन ने 6 मैचों की 5 पारियों में 1 शतक और 2 अर्धशतक से 124.00 के औसत से 372 रन बनाए और वह टूर्नामेंट के दूसरे सबसे कामयाब गेंदबाज रहे. 
 
आपको बता दें कि शुबमन गिल ने फाइनल से पहले तक खेले पांच मैचों मे 341 रन बनाए हैं. लेकिन  जब बात टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा रन बनाने की आती है, तो वह तीसरे नंबर पर हैं. उनसे ज्यादा  विंडीज के ए एथांजे (6 मैचों में 418) और दक्षिण अफ्रीका के आर  वॉन टोंडर (6 मैचों में 348) ने बनाए. 

यह भी पढ़ें : India vs Australia U19 Final LIVE: कमेंटेटर के 'इस ताने' का जवाब दे पाएंगे पृथ्वी शॉ? करोड़ों भारतीय क्रिकेटप्रेमी कर रहे इंतजार

Newsbeep

वहीं जहां शुबमन ने एक शतक बनाया है, तो एथांजे और टोंडर ने दोनों ने ही टूर्नामेंट में दो-दो शतक अपने नाम किए. साफ है कि मैन ऑफ द टूर्नामेंट बनने के लिए शुबमन का इन दोनों बल्लेबाजों के साथ बहुत ही कड़ा मुकाबला था, लेकिन एक नहीं बल्कि दो ऐसी खास बातें रहीं, जिसने शुबमन गिल को मैन ऑफ द टूर्नामेंट बना दिया. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO : जूनियर टीम के कप्तान पृथ्वी शॉ.

तीनों ही बल्लेबाजों में शुबमन का औसत सबसे ज्यादा रहा. शुबमन का औसत 124.00 का रहा, तो वहीं एथांजे का औसत 104.50 और टोंडर का औसत 69.60 का है. औसत का कहीं ज्यादा होना और विजेता टीम का सदस्य होना शुबमन गिल को मैन ऑफ द टूर्नामेंट बना गया.