भारतीय क्रिकेट के इन 6 महान रिकॉर्डों का टूटना मुश्किल ही नहीं, बल्कि नामुमकिन है!

ऐसे रिकॉर्ड, जिनमें इतना ज्यादा वजन है कि ये बहुत ही ज्यादा भारी-भरकम दिखाई पड़ते हैं! और बल्लेबाजों को देखते ही अपने ऊपर बोझ नजर आता है. कोई रिकॉर्ड सचिन तेंदुलकर ने बनाया, तो कोई राहुल द्रविड़ ने बनाया. चलिए आप नजर दौड़ा लीजिए कुछ ऐसे ही रिकॉर्डों पर. 

भारतीय क्रिकेट के इन 6 महान रिकॉर्डों का टूटना मुश्किल ही नहीं, बल्कि नामुमकिन है!

सचिन तेंदुलकर के कई रिकॉर्ड बहुत ही भारी-भरकम हैं

खास बातें

  • ये रिकॉर्ड नहीं, एवरेस्ट हैं!
  • कौन तोड़ेगा इन रिकॉर्डों को?
  • बापू नादकर्णी की शानदार गेंदबाजी है यह!
नई दिल्ली:

कुछ रिकॉर्ड ऐसे होते हैं, जब आप नजर उठाकर उनकी तरफ देखते हैं, तो एक बार विस्मित रह जाते हैं. आप हैरान होते हैं कि आखिर ये रिकॉर्ड कैसे बन गए और आखिर ये रिकॉर्ड कभी टूट भी पाएंगे.  ऐसे ही कुछ रिकॉर्ड भारतीय क्रिकेट में ऐसे हैं, जिन पर करोड़ों भारतीय क्रिकेटप्रेमी हमेशा गौरवान्वित होते रहेंगे. ऐसे रिकॉर्ड, जिनमें इतना ज्यादा वजन है कि ये बहुत ही ज्यादा भारी-भरकम दिखाई पड़ते हैं! और बल्लेबाजों को देखते ही अपने ऊपर बोझ नजर आता है. कोई रिकॉर्ड सचिन तेंदुलकर ने बनाया, तो कोई राहुल द्रविड़ ने बनाया. चलिए आप नजर दौड़ा लीजिए कुछ ऐसे ही रिकॉर्डों पर. 


1. सचिन के गजब रिकॉर्ड!

सचिन के नाम पर कई रिकॉर्ड हैं. और इनमें हैं 200 टेस्ट, 463 वनडे और 1 टी20 को मिलाकर सचिन ने 664 रन से भी ज्यादा अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं. वहीं, सचिन के 34,357 रन हैं. उनके बाद कुमार संगकारा के नंबर हैं और दोनों के बीच छह हजार से ज्यादा रन का अंतर है. वहीं, सचिन के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट सौ शतक हैं. दूसरे नंबर पर रिकी पॉन्टिंग (71) हैं. 

2. नरेंद्र हिरवानी का करिश्मा!
करियर के पहले ही टेस्ट में ऐसा प्रदर्शन मानो किसी सपने से भी ऊपर की बात है! पहले ही टेस्ट में हिरवानी ने विंडीज के खिलाफ साल 1988 में चेन्नई में 136 रन देकर 16 विकेट चटकाए. और पहले ही टेस्ट में ऐसे अदभुत प्रदर्शन का रिकॉर्ड अभी भी बरकार है

3. राहुल द्रविड़ फील्डिंग में भी दीवार!

फील्डिंग में राहुल द्रविड़ स्लिप में किसी जादूगर से कम नहीं थे! द्रविड़ ने एक से बढ़कर एक कैच पकड़े और किसी गैर विकेटकीपर को छोड़कर टेस्ट इतिहास में सबसे ज्यादा कैच पकड़ने वाले फील्डर बने. ये कैच द्रविड़ ने अलग-अलग पोजीशन पर पकड़े, लेकिन उनकी पहचान स्लिप के बेहतरीन फील्डर के रूप में रही. द्रविड़ ने 164 टेस्ट में  210 कैच पकड़े. 

4.  रोहित वन गए वनडे किंग!
साल 2013 में रोहित शर्मा श्रीलंक के खिलाफ वनडे इतिहास का सर्वश्रेष्ठ व्यक्तिगत स्कोर बनाने वाले बल्लेबाज बने. रोहित ने 173 गेंदों पर 42 बाउंड्रियों के साथ 264 रन बनाए. और  वनडे में इस स्कोर को पछाड़ना किसी भी बल्लेबाज के लिए बड़ी चुनौती है. फिलहाल यह रिकॉर्ड भी भारत के लिए गौरव बना हुआ है. 


5. ब्रेडमैन के क्लब में सहवाग!
वीरू ने अपने करियर में दो तिहरे शतक बनाए और तीसरा तिहरा शतक वह सिर्फ 9 रन से चूक गए थे. पूरी दुनिया में उनके अलावा सर डॉन, ब्रायन लारा और क्रिस गेल ने इस काम को अंजाम दिया है. मतलब भारत की मुहर संयुक्त रूप से इस रिकॉर्ड पर लगी हुई है.


6. बापू का यह रिकॉर्ड बड़ी चुनौती

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

लेफ्टआर्म स्पिनर रमेशचंद्र गंगाराम बापू नादकर्णी का यह किफायती गेंदबाजी का रिकॉर्ड कौन तोड़ेगा, यह सिर्फ भगवान ही जानता है. बापू ने साल 1964 में बापू ने 32 ओवर की गेंदबाजी में सिर्फ 5 रन खर्च किए. इसमें भी उनकी खासियत लगातार 21 ओवर मेडेन गेंदबाजी रहा और यह रिकॉर्ड अभी भी बरकार है. 

VIDEO: कुछ दिन पहले विराट ने करियर को लेकर बड़ी बात कही थी.