NDTV Khabar

INDvsAUS: स्पिनर अक्षर पटेल ने आखिरी वनडे में अपनी कामयाबी के पीछे बताया यह राज..

ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ रविवार को खेले गए वनडे सीरीज के आखिरी मैच में स्पिनर अक्षर पटेल ने ऑस्‍ट्रेलिया बल्‍लेबाजी को ध्‍वस्‍त करने में अहम भूमिका निभाई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
INDvsAUS: स्पिनर अक्षर पटेल ने आखिरी वनडे में अपनी कामयाबी के पीछे बताया यह राज..

अक्षर पटेल ने नागपुर वनडे मैच में तीन विकेट हासिल किए थे (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. गेंदों की गति में बदलाव करते हुए हासिल की सफलता
  2. मैच में अक्षर ने वॉर्नर, हैंड्सकोंब और हेड को आउट किया
  3. कहा, वॉर्नर और एरोन फिंच स्पिन को अच्‍छी तरह खेलते हैं
नागपुर: ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ रविवार को खेले गए वनडे सीरीज के आखिरी मैच में स्पिन गेंदबाज अक्षर पटेल ने ऑस्‍ट्रेलिया बल्‍लेबाजी को ध्‍वस्‍त करने में अहम भूमिका निभाई. अक्षर ने अपनी गेंदों की गति में बदलाव करते हुए ऑस्‍ट्रेलियाई बल्‍लेबाजों को बैकफुट पर रखा और मैच में तीन विकेट हासिल किए. मैच के बाद अक्षर पटेल ने कहा कि उनके गेंदों की गति में बदलाव के कारण विपक्षी बल्‍लेबाज परेशान हुए. गुजरात के इस स्पिन गेंदबाज ने डेविड वार्नर (53), पीटर हैंड्सकॉम्ब (13) और ट्रेविस हेड (42) के विकेट लेते हुए पहले बल्लेबाजी करने उतरी ऑस्ट्रेलिया को 50 ओवरों में नौ विकेट पर 242 रनों पर ही सीमित करने में महत्‍वपूर्ण योगदान दिया.

यह भी पढ़ें : अक्षर पटेल वनडे रैंकिंग में अपने करियर के सर्वश्रेष्ठ पायदान पर पहुंचे

टिप्पणियां
 पुरस्कार वितरण समारोह में पटेल ने कहा, "अच्छी बात यह थी कि यह मैदान बेंगलुरू के मैदान से बड़ा था. मैंने विकेट लेने के लिए अपनी गेंदों की गति में बदलाव किया." उन्‍होंने कहा कि ऑस्ट्रेलियाई टीम का मध्य क्रम स्पिन को अच्छे से नहीं खेल पाता. उन्होंने कहा, "ऑस्ट्रेलियाई टीम स्पिन के खिलाफ कमजोर है. डेविड वार्नर और एरॉन फिंच आउट हो जाएं तो उनके मध्य क्रम के खिलाफ गेंदबाजी करना आसान है।. वार्नर और फिंच के पास IPL का अनुभव है."

वीडियो: टीम इंडिया की सीरीज जीत में रोहित शर्मा चमके
इस सीरीज में चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव ने भी बेहतरीन प्रदर्शन किया. उन्होंने कहा, "हम हमेशा विकेट लेने की कोशिश में रहते हैं. हर स्पिन गेंदबाज मध्य के ओवरों में विकेट लेना चाहता है."22 साल के कुलदीप ने इस सीरीज में चार मैचों में कुल सात विकेट लिए जिसमें एक हैट्रिक भी शामिल थी. वनडे में हैट्रिक लेने वाले वे टीम इंडिया के तीसरे गेंदबाज हैं. उनसे पहले चेतन शर्मा और कपिल देव ने यह बड़ी उपलब्धि हासिल की थी. कुलदीप ने कहा, "मेरे लिए यह मुश्किल सीरीज थी. पहले मैच से पहले मैंने अच्छी तैयारी की थी. इन बल्लेबाजों के खिलाफ गेंदबाजी करना आसान नहीं था." उन्होंने कहा, "टेस्ट में पदार्पण के बाद मेरे लिए चीजें बदल गई हैं और मुझे कई मौके मिल रहे हैं. विजेता टीम का हिस्सा होना अच्छी बात है."


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement