NDTV Khabar

INDvsAUS:ऑस्‍ट्रेलियाई विकेटकीपर मैथ्‍यू वेड से अपनी बहस के बारे में यह बोले रवींद्र जडेजा...

528 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
INDvsAUS:ऑस्‍ट्रेलियाई विकेटकीपर मैथ्‍यू वेड से अपनी बहस के बारे में यह बोले रवींद्र जडेजा...

धर्मशाला टेस्‍ट के तीसरे दिन रवींद्र जडेजा और मैथ्‍यू वेड बहस में उलझ गए थे (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. कोहली ने रहाणे की नेतृत्‍व क्षमता की तारीफ की
  2. रहाणे ने कहा, जीत का श्रेय सारे खिलाड़ि‍यों को जाता है
  3. जडेजा बोले, भारत के बाहर भी ऐसा प्रदर्शन करना चाहता हूं
धर्मशाला टेस्‍ट में विराट कोहली चोट के कारण खेल नहीं पाए लेकिन अजिंक्‍य रहाणे की अगुवाई में टीम इंडिया के खिलाड़ि‍यों ने उन्‍हें सीरीज जीत का यादगार तोहफा दिया. मैच के बाद विराट ने कहा, अविश्‍वसनीय! यह हमारी अब तक की सर्वश्रेष्‍ठ सीरीज जीत हैं. ऑस्‍ट्रेलिया ने हमें जिस तरह से टक्‍कर दी वह काबिलेतारीफ रहा लेकिन हमारे खिलाड़ि‍यों ने जबर्दस्‍त वापसी की. उन्‍होंने संघर्ष क्षमता की मिसाल पेश करते हुए गजब की परिपक्‍वता का परिचय दिया. विराट ने उनकी गैरमौजूदगी में टीम का नेतृत्‍व कर रहे अजिंक्‍य रहाणे की भी जमकर तारीफ की.कोहली ने कहा कि अजिंक्‍य ने टीम का अच्‍छी तरह से नेतृत्‍व किया. अपनी फिटनेस में सुधार के हमने जो प्रयास किए हैं, वे परिणाम देने लगे हैं. खिलाड़ि‍यों ने पूरे सीजन में कमाल का प्रदर्शन किया. इससे पहले कुछ ऐसे सेशन रहे थे जिसमें हमने आसानी से हार मान ली थी लेकिन इस सीरीज में ऐसा नहीं हुआ. तेज गेंदबाजों ने जिस तरह की फिटनेस और विकेट लेने की इच्‍छाशक्ति दिखाई उसकी तारीफ की जानी चाहिए.

धर्मशाला में टीम इंडिया के कार्यवाहक कप्‍तान अजिंक्‍य रहाणे ने कहा कि कप्‍तानी का मैंने लुत्‍फ उठाया. इस जीत का श्रेय सारे खिलाड़ि‍यों को जाता है. हमारे बल्‍लेबाजों, गेंदबाजों, फील्‍डरों सबने अच्‍छा प्रदर्शन किया. टेस्‍ट के पहले दिन हमने लंच के समय यह फैसला किया था कि हमें विपक्षी टीम के रन रोकने होंगे. यदि हमने ऐसा किया और एकाध विकेट लेने में सफल हो गए तो हम खेल में वापसी कर सकते हैं क्‍योंकि ऑस्‍ट्रेलियाई टीम में स्मिथ और वॉर्नर ही रन बना रहे थे. उस सेशन में कुलदीप ने कमाल की बॉलिंग की. हम जानते थे कि कुलदीप नेट में शानदार बॉलिंग कर रहा है और हमारे लिए अनूठा गेंदबाज है. हम सभी को उसकी क्षमता पर विश्‍वास था. ऑस्‍ट्रेलियाई टीम की प्रशंसा की जानी चाहिए. उसने हमें कड़ा मुकाबला दिया.

मैन और सीरीज के सर्वश्रेष्‍ठ खिलाड़ी रहे रवींद्र जडेजा ने कहा, नंबर वन टेस्‍ट बॉलर बनकर अच्‍छा लग रहा है. उन्‍होंने कहा कि जब मैं बैटिंग के लिए गया तो मैंने सोचा कि अपना समय लूंगा, लेकिन तभी विकेट के पीछे से मैथ्‍यू वेड ने छींटाकशी शुरू कर दी. इससे मुझे अतिरिक्‍त प्रेरणा मिली. जडेजा ने कहा कि कप्‍तान और कोच लगातार कहते रहे हैं कि मुझमें लंबे समय तक बल्‍लेबाजी करने की क्षमता है. मैंने खिलाड़ी के रूप में अपने को विकसित किया है. कुछ समय पहले लोग मुझे टेस्‍ट बॉलर के रूप में भी नहीं आंकते थे. उनके लिए यह सीरीज जवाब है. जड्डू ने कहा कि अश्विन और मैंने दोनों छोर से बल्‍लेबाजों पर दबाव बनाए रखा. ऑफ स्पिनर और लेग स्पिनर की विविधता भरी गेंदबाजी ने भी काम किया. उम्‍मीद है कि भारत के बाहर भी ऐसा प्रदर्शन जारी रखूंगा. ऑस्‍ट्रेलिया के कप्‍तान स्‍टीव स्मिथ ने कहा कि यह ऐसी सर्वश्रेष्‍ठ सीरीज में से एक है जिसका मैं हिस्‍सा रहा. सीरीज में बाद के मैचों में शानदार क्रिकेट खेलने के लिए टीम इंडिया को पूरा श्रेय दिया जाना चाहिए.

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement