पाकिस्तानी मूल के क्रिकेटर मोइन अली, आदिल राशिद की सुरक्षा को लेकर हमें कोई चिंता नहीं : ईसीबी

पाकिस्तानी मूल के क्रिकेटर मोइन अली, आदिल राशिद की सुरक्षा को लेकर हमें कोई चिंता नहीं : ईसीबी

मोइन अली और आदिल राशिद (फाइल फोटो)

खास बातें

  • इंग्लैंड टीम 5 टेस्ट की सीरीज के लिए भारत पहुंची है
  • दौरे में वह टीम इंडिया से 3 वनडे और 3 टी-20 भी खेलेगी
  • सीरीज का पहला टेस्ट मैच 9 नवंबर से राजकोट में होगा
लंदन:

इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) ने गुरुवार को कहा भारत के आगामी दौरे पर पाकिस्तानी मूल के अपने खिलाड़ियों मोइन अली और आदिल राशिद की सुरक्षा को लेकर उन्हें कोई चिंता नहीं है. गौरतलब है कि भारत और पाकिस्तान के बीच इस समय राजनीतिक तनाव की स्थिति चल रही है. भारत दौरे पर इंग्लैंड पांच मैचों की लंबी टेस्ट सीरीज खेलेगा, जिसका पहला मैच राजकोट में नौ नवंबर से शुरू होगा.

ईसीबी के सुरक्षा सलाहकार रेग डिकासन ने कहा कि मोइन और राशिद ने भारत के खिलाफ सीरीज से बाहर रहने की कोई इच्छा जाहिर नहीं की है. हालांकि दोनों देशों के बीच चल रहे तनाव को देखते हुए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) द्वारा अपने इलीट पैनल के पाकिस्तानी अंपायर अलीम डार को सुरक्षा कारणों से सीरीज से हटाने की खबरें भी आईं.

हालांकि, आईसीसी के प्रवक्ता ने खबरों से इनकार करते हुए कहा कि डार को भारत बनाम इंग्लैंड टेस्ट सीरीज के लिए नियुक्त ही नहीं किया गया था, बल्कि उन्हें पहले से ही ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के बीच होने वाली टेस्ट सीरीज की जिम्मेदारी सौंपी गई थी.

वेबसाइट 'ईएसपीएनक्रिकइंफो' ने डिकासन के हवाले से कहा, "नहीं, हमें इस तरह की कोई चिंता नहीं है, लेकिन हां हमें डार से जुड़े मामले की जानकारी है. मुझे पता है कि ऐसी खबरें आई थीं कि डार भारत नहीं जा रहे, लेकिन आईसीसी के अनुसार डार को दूसरी जिम्मेदारी सौंपी गई थी."

उन्होंने बताया, "लेकिन शिवसेना को डार को लेकर कुछ आपत्ति थी और इसे लकर वे भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के कार्यालय भी गए थे. मतलब, हमें पूरे मामले की जानकारी है, लेकिन वास्तव में यह कोई मुद्दा नहीं है. मैंने अलीम और आदिल से बात की थी, लेकिन उन्होंने किसी तरह की आपत्ति नहीं जताई थी."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

डिकासन ने भारत में खिलाड़ियों के लिए उपलब्ध कराई गई सुरक्षा व्यवस्था को भी संतोषजनक बताया. उन्होंने कहा, "यहां भी हमें बांग्लादेश जैसी ही सुरक्षा मिलेगी, लेकिन इसका स्तर बेहतर होगा. बांग्लादेश में सुरक्षा व्यवस्था प्रत्यक्ष दिखाई दे रही थी, लेकिन भारत में ऐसा नहीं होगा. बांग्लादेश में हमें देश के शीर्ष व्यक्तियों के लिए आरक्षित मार्गो से ले जाया गया, लेकिन शायद भारत में ऐसा न हो, लेकिन हमें पर्याप्त सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी."

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)