यदि न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियम्सन इस तरह आउट हो जाते, तो बन जाता अनूठा रिकॉर्ड!

यदि न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियम्सन इस तरह आउट हो जाते, तो बन जाता अनूठा रिकॉर्ड!

केन विलियम्सन ने फिफ्टी बनाई (फाइल फोटो)

खास बातें

  • केन विलियम्सन ने 75 रनों की शानदार पारी खेली
  • उन्होंने टॉम लाथम के साथ 124 रनों की साझेदारी की
  • न्यूजीलैंड की पूरी टीम 262 रन पर ऑलआउट हो गई
नई दिल्ली:

न्यूजीलैंड की टीम कानपुर में खेले जा रहे टेस्ट मैच में भारत के पहली पारी के 318 रनों के जवाब में शानदार खेल दिखा रही है. खासतौर से उसके कप्तान केन विलियम्सन ने तो भारतीय दर्शकों का दिल जीत लिया. उन्होंने जमकर टर्न ले रहे विकेट पर 75 रनों की लाजवाब पारी खेली और टॉम लाथम के साथ शतकीय साझेदारी करते हुए टीम को संभाल लिया. कीवी बल्लेबाजों ने दूसरे दिन शुक्रवार को भारतीय गेंदबाजों को जमकर परेशान किया और वह विकेट को तरसते रहे. हालांकि टीम इंडिया को विलियम्सन का विकेट मिलते-मिलते रह गया, जब वह बड़े ही अजीब तरीके से आउट होते-होते बच गए. यदि वह आउट हो जाते तो एक अनूठा रिकॉर्ड बन जाता.

हुआ यह कि दूसरे दिन के खेल में कीवी पारी के दौरान विलियम्सन 40 रन बनाकर खेल रहे थे. तभी 32वें ओवर में विराट कोहली ने उमेश यादव के ओवर के बाद रविचंद्रन अश्विन को  गेंदबाजी के लिए बुलाया. अश्विन ने गेंद को जबर्दस्त फ्लाइट दी. इस पर विलियम्सन फॉरवर्ड खेले और डिफेंड करने की कोशिश की, लेकिन वह गेंद की पिच तक नहीं पहुंच पाए. गेंद ने जोरदार टर्न लिया और तेजी से उछली. इतनी जोर से कि वह विलियम्सन के हेलमेट के पिछले हिस्से में जा लगी, आमतौर पर स्पिनर की गेंदें इतनी नहीं उछलती हैं, इसलिए विलियम्सन हतप्रभ रह गए. इतने में विलियम्सन के हेलमेट की एक बैकफ्लैप गिर गई. वह तेजी से गेंद देखने के लिए घूमे, तभी दूसरी बैकफ्लैप विकेटों पर जा गिरी. हालांकि वह भाग्यशाली रहे कि विकेट की गिल्लियां नहीं बिखरीं और आउट होने से बच गए. विकेट के लिए तरस रही टीम इंडिया के खिलाड़ी इस बीच तो उछल पड़े, लेकिन विलियम्सन बाल-बाल बच गए. अगर बैकफ्लैप से लगने से गिल्लियां बिखर जातीं, तो वह पैवेलियन लौट जाते.

एक तरह से यह विलियम्सन के लिए जीवनदान साबित हुआ और उन्होंने टॉम लाथम के साथ 124 रन की साझेदारी करके न्यूजीलैंड को बराबरी के मुकाबले में ला खड़ा किया. वह तीसरे दिन आर अश्विन की शानदार गेंद पर बोल्ड हुए.

वहीं लाथम को मिला इस नियम का फायदा
32वें ओवर में विलियम्सन के अनूठे तरीके से बचने के बाद उनके साथी टॉम लाथम को भी 37वें ओवर में अलग ही अंदाज में जीवनदान मिला, जब रवींद्र जडेजा की गेंद पर लोकेश राहुल कैच पकड़कर भी उनको पैवेलियन नहीं लौटा पाए. हुआ यह कि लाथम के शॉट पर गेंद शॉर्ट लेग पर खड़े राहुल के हाथों से होकर उनके ही हेलमेट की ग्रिल में जा लगी और फिर उनके हाथों में समा गई. जोरदार अपील हुई. मामला थर्ड अंपायर को गया और उसने उन्हें नॉटआउट करार दिया. आईसीसी के नियम के अनुसार कैच लेते समय यदि गेंद हाथ में लगकर किसी बाहरी चीज जैसे सुरक्षा के लिए पहने गए हेलमेट आदि से लग जाती है, तो कैच वैध नहीं माना जाता.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com