ईरानी कप के हीरो क्रिकेटर ऋद्धिमान साहा को इस विस्फोटक बल्लेबाज ने दी थी उठाकर मारने की सलाह

ईरानी कप के हीरो क्रिकेटर ऋद्धिमान साहा को इस विस्फोटक बल्लेबाज ने दी थी उठाकर मारने की सलाह

साहा ने ईरानी कप में 203 रनों की नाबाद पारी खेल शेष भारत को जीत दिलाई..

खास बातें

  • साहा ने ईरानी कप में दोहरा शतक लगाकर शेष भारत को जीत दिलाई
  • ईरानी कप में दोहरा शतक लगाने वाले वे पहले विकेटकीपर बल्लेबाज हैं
  • साहा ने कप्तान चेतेश्वर पुजारा के साथ 316 रनों की साझेदारी की थी
नई दिल्ली:

भारतीय टेस्ट टीम के विकेटकीपर-बल्लेबाज ऋद्धिमान साहा ने ईरानी कप में दोहरा शतक लगाकर शेष भारत को जीत दिलाने में प्रमुख भूमिका अदा की है. ईरानी कप में दोहरा शतक लगाने वाले वे पहले विकेटकीपर बल्लेबाज हैं. उन्होंने मंगलवार को रणजी ट्रॉफी विजेता गुजरात के खिलाफ ईरानी कप में 203 रनों की नाबाद पारी खेल शेष भारत को जीत दिलाई. साहा ने कप्तान चेतेश्वर पुजारा (नाबाद 116) के साथ पांचवें विकेट के लिए 316 रनों की साझेदारी कर टीम को जीत दिलाई. मैच के बाद उन्होंने खुलासा किया कि भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने लॉफ्टेड शॉट खेलने की सलाह दी थी.

एक वेबसाइट ने साहा के हवाले से लिखा है, "मैंने अपनी पारी में जितने शॉट्स खेले उसमें से अधिकतर लॉफ्टेड शॉट्स थे. सहवाग ने मुझसे कहा था कि अगर में अपनी पारी की शुरुआत में कुछ बाउंड्री लॉफ्टेड शॉट्स से लगा दूंगा तो मुझ पर से दवाब कम होगा और गेंदबाज को भी परेशानी होगी." साहा ने कहा, "इसलिए मैं अपनी पारी में गेंदबाजों पर लॉफ्टेड शॉट्स मारने के बारे में सोच रहा था."

साहा चोट से वापसी करने के बाद ईरानी कप में खेल रहे थे. इंग्लैंड के खिलाफ खेली गई श्रृंखला में उन्होंने चोट के कारण कुछ मैच नहीं खेले थे. पार्थिव ने उनका स्थान लिया था और बल्ले से अच्छा प्रदर्शन किया था. लेकिन साहा ने इस दौरान राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) में कड़ी मेहनत की और शानदार बल्लेबाजी के साथ अपनी फिटनेस पर भी खरे उतरे. भारतीय टीम के कोच अनिल कुंबले ने उन्हें पिछली रात संदेश भेजा था कि उन्हें मैच पूरा करना है.

Newsbeep

साहा ने कहा, "कुंबले ने मुझे पिछली रात संदेश भेजा था और कहा था कि काम अभी पूरा नहीं हुआ है. उन्होंने मुझसे मैच समाप्त करने को कहा था. ऐसा करने से मैं खुश हूं." साहा का यह प्रथम श्रेणी क्रिकेट में पहला दोहरा शतक है. उन्होंने कहा, "मैंने इसके बारे में सोचा भी नहीं था. पुजारा मेरे पास आए और मुझे यह बात बताई. मेरे दिमाग में यह विचार तब आया जब मैं 180 रनों पर था. पुजारा के दूसरे छोर पर होने से मुझे आसानी हुई."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com