दक्षिण अफ्रीकी टीम आने से पहले ही हो गई है 'नर्वस'?

दक्षिण अफ्रीकी टीम आने से पहले ही हो गई है 'नर्वस'?

दक्षिण अफ्रीका के टेस्ट कैप्टन ग्रीम स्मिथ और डु प्लेसिस (फाइल फोटो : AFP)

ऑस्ट्रेलियाई टीम अगर भारतीय दौरे पर होती, तो संभवतः अब तक बढ़-चढ़कर दावे करना शुरू कर देती, लेकिन दक्षिण अफ्रीकी टीम महीने भर बाद शुरू होने वाली 72 दिनों की लंबी सीरीज से पहले फिक्रमंद नजर आ रही है। तभी तो दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान ग्रीम स्मिथ ने खुलकर कहा है कि दक्षिण अफ्रीका के भारतीय दौरे को लेकर वो 'नर्वस' हैं और मानते हैं कि प्रोटियाज के सामने चुनौती आसान नहीं है।

दो अक्टूबर से शुरू होने वाली गांधी-मंडेला क्रिकेट सीरीज से पहले ही पूर्व कप्तान ग्रीम स्मिथ ने जो इशारा किया है, उससे भारतीय टीम उत्साहित हो सकती है। हालांकि स्मिथ की बातों का एक मतलब यह भी है कि दक्षिण अफ्रीकी टीम भारतीय टीम को हल्का नहीं आंक रही और इस दौरे के लिए अलग तैयारी के साथ आएगी।

शायद यही वजह है कि दक्षिण अफ्रीका ने अपनी टीम में लीक से हटकर तीन स्पिनरों को जगह दी है। लेग स्पिनर इमरान ताहिर (16 टेस्ट-43 विकेट), ऑफ़ स्पिनर डेन पिट (1 टेस्ट-8 विकेट और 52 फर्स्ट क्लास मैचों में 183 विकेट) और ऑफ स्पिनर साइमन हार्मर (3 टेस्ट-10 विकेट, 66 फर्स्ट क्लास- 242 विकेट) भारतीय पिचों का फायदा उठाकर अपनी टीम के हीरो साबित हो सकते हैं।

लेकिन इन तीनों स्पिनर के पास कुल मिलाकर 25 टेस्ट का अनुभव भी नहीं है। ऐसे में आर अश्विन (28 टेस्ट- 145 विकेट), लेग स्पिनर अमित मिश्रा (16 टेस्ट- 58 विकेट) और हरभजन सिंह (103 टेस्ट- 417 विकेट) का पलड़ा यकीनन भारी नजर आता है। ये गेंदबाज यकीनन प्रोटियाज बल्लेबाजों के लिए बड़ी चुनौती साबित हो सकते हैं।

तभी तो अगले महीने शुरू होने वाले 72 दिनों के भारत-दक्षिण अफ्रीकी दौरे को लेकर ग्रीम स्मिथ ने कहा है कि वो 'नर्वस' हैं और यह भी कहा कि यह दौरा आसान नहीं रहने वाला।

स्मिथ ने बयान दिया है, "मैं नर्वस हूं। दक्षिण अफ्रीका के सामने भारत और बाद में इंग्लैंड की मुश्किल चुनौती है। यह वक्त हमारी टीम की दिशा तय कर सकता है।"

स्मिथ का मानना है कि दुनिया की नंबर एक टीम के लिए भारत में होने वाले चार टेस्ट मैचों की सीरीज आसान नहीं होगी। उनका मानना है कि इस दौरान टीम को काफी सफर करना पड़ेगा और हालात आसान नहीं रहने वाले। इसके अलावा उन्होंने जोर दिया है कि भारत में स्पिनर्स ट्रैक पर खेलना मेहमान टीम के लिए बड़ी चुनौती साबित हो सकती है।

दक्षिण अफ्रीका को हाल में उभरती बांग्लादेश की टीम के साथ 2 टेस्ट मैचों की सीरीज ड्रॉ खेलनी पड़ी। ऐसे ही 2008 और 2010 में भारत के खिलाफ भी दो टेस्ट मैचों की सीरीज ड्रॉ रही थी। दक्षिण अफ्रीका के पक्ष में बड़ी बात यह है कि 2007 के बाद से विदेश में किसी टेस्ट सीरीज में उन्हें हार का सामना नहीं करना पड़ा है।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

2007 से लेकर अब तक दक्षिण अफ़्रीका ने विदेशी पिच पर 13 टेस्ट सीरीज खेली है,  जिसमें 10 में जीत हासिल की और 3 सीरीज ड्रॉ रहीं। ऐसे में दक्षिण अफ्रीकी टीम एक शानदार रिकॉर्ड के साथ टीम इंडिया के सामने चुनौती पेश करेगी।

लेकिन क्या आपको 2001 में ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम का विजय रथ याद आता है, जब वर्ल्ड चैंपियन टीम 15 टेस्ट जीतने के बाद भारत में रिकॉर्ड बनाने की तमन्ना लिए आई थी और फिर जो हुआ वह भारतीय क्रिकेट का सुनहरा इतिहास बन गया? बस अफ्रीका को यहीं सावधान रहना होगा।