NDTV Khabar

भारतीय महिला टीम की तेज गेंदबाज झूलन गोस्वामी के पास नहीं है रोमांस के लिए समय

आईसीसी महिला विश्व कप के फाइनल में पहुंचने वाली भारतीय टीम की तेज गेंदबाज झूलन गोस्वामी इस समय किसी रोमांटिक साझेदारी में शामिल होने की जल्दबाजी में नहीं हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भारतीय महिला टीम की तेज गेंदबाज झूलन गोस्वामी के पास नहीं है रोमांस के लिए समय

झूलन के कहा कि मैं एक समय में एक काम करना पसंद करती हूं...

कोलकाता: आईसीसी महिला विश्व कप के फाइनल में पहुंचने वाली भारतीय टीम की तेज गेंदबाज झूलन गोस्वामी इस समय किसी रोमांटिक साझेदारी में शामिल होने की जल्दबाजी में नहीं हैं. उनका मानना है कि इंसान को एक समय एक चीज पर ही ध्यान देना चाहिए और इस समय उनका ध्यान क्रिकेट पर है.

झूलन (34) ने शनिवार को एक समाचार चैनल से बातचीत में कहा, "मैं खेल पर ध्यान केंद्रित कर रही हूं. मैं इसके साथ इतनी व्यस्त हूं कि किसी और चीज के लिए समय नहीं दे सकती. अगर मैं किसी रिश्ते के लिए समय नहीं दे सकती तो मैं इससे न्याय भी नहीं कर पाऊंगी. मैं एक समय में एक काम करना पसंद करती हूं." उन्होंने कहा, "मैंने अपने दोस्तों को देखा है जिन्हें एक समय में दो चीजों को संतुलित करने के लिए संघर्ष करना पड़ा था. इसके लिए (रोमांटिक संबंध के लिए) बहुत समय है."

ये भी पढ़ें
आईपीएल की चकाचौंध में दबकर रह गई 'नादिया एक्‍सप्रेस' झूलन गोस्‍वामी की यह बहुत बड़ी उपलब्धि...

झूलन से जब पूछा गया कि वह क्रिकेट के बाद मिलने वाले खाली समय में क्या करती हैं? इसके जवाब में उन्होंने कहा, "मुझे फिल्मों और संगीत का शौक है. विश्व कप में सेमीफाइनल और फाइनल से पहले मैंने अपने दिमाग को बाकी चाजों से अलग करने के लिए कुछ क्लासिक बंगाली फिल्में देखीं थी." भारत को 23 जुलाई को लॉर्ड्स मैदान पर खेले गए महिला विश्व कप के फाइनल मैच मैं मेजबान इंग्लैंड को हाथों नौ रनों से हार का सामना करना पड़ा था. उन्होंने महिला क्रिकेट खिलाड़ियों के लिए बुनियादी सुविधाओं तक पहुंच की बात पर जोर दिया.

पढ़ें : महिला वर्ल्‍डकप : अच्छे प्रदर्शन का तेज गेंदबाज झूलन गोस्‍वामी को मिला यह 'तोहफा'

VIDEO : भारतीय महिला टीम से खास बातचीत



उन्होंने कहा, "बंगाल क्रिकेट संघ ने जिला क्रिकेट शुरू कर अच्छा काम किया है, लेकिन मुझे लगता है कि कोलकाता में क्लब क्रिकेट की स्थिति को देखना महत्वपूर्ण है. उनके पास अच्छे बुनियादी ढांचे हैं और उन्हें महिलाओं की पहुंच में लाना चाहिए."

 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement