INDvsAUS Test : स्मिथ के छूटे कई कैच, फिफ्टी लगाकर ऑस्ट्रेलिया को किया मजबूत, इंडिया पर बनाई 298 रन की बढ़त

INDvsAUS Test : स्मिथ के छूटे कई कैच, फिफ्टी लगाकर ऑस्ट्रेलिया को किया मजबूत, इंडिया पर बनाई 298 रन की बढ़त

विराट कोहली और मिचेल स्टार्क पर नजरें थीं, जिसमें स्टार्क ने बाजी मार ली (फाइल फोटो)

पुणे:

जब विश्व की दो टॉप टीमें भिड़ती हैं, तो मुकाबला रोमांचक होने की पूरी संभावना रहती है. भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 4 मैचों की टेस्ट सीरीज के तहत पुणे में खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच में अब तक कुछ ऐसा ही देखने को मिला है. पहले दिन जहां टीम इंडिया के गेंदबाजों ने दबदबा बनाया था, वहीं दूसरे दिन ऑस्ट्रेलिया ने पलटवार करते हुए टीम इंडिया को 105 रन पर ही समेट दिया. ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में 260 रन बनाए थे. इस प्रकार पहली पारी के आधार पर उसे टीम इंडिया पर 155 रनों की बढ़त हासिल हो गई. दूसरी पारी में बल्लेबाजी करने उतरी ऑस्ट्रेलियाई टीम ने दिन का खेल खत्म होने तक 4 विकेट पर 143 रन बना लिए. स्टीव स्मिथ (59) और मिचेल मार्श (21) नाबाद लौटे. कंगारू टीम को कुल 298 रन की बढ़त हासिल हो गई है और उसका पलड़ा भारी नजर आने लगा है. आर अश्विन ने डेविड वॉर्नर (10 रन), शॉन मार्श को (0) और पीटर हैंड्सकॉम्ब (19) को आउट करके तीन सफलताएं दिलाईं, जबकि जयंत यादव को एक विकेट मिला. अश्विन ने एक रिकॉर्ड के मामले में महान कपिल देव और अनिल कुंबले को पीछे छोड़ दिया है.

स्मिथ के कई कैच टपकाए...
टीम इंडिया ने बल्लेबाजी तो खराब की ही, उसकी फील्डिंग भी घटिया रही, जिससे स्मिथ को कई जीवनदान (23, 29 और 37 रन पर) मिले. उनके दो कैच सब्स्टीट्यूट फील्डर अभिनव मुकुंद ने छोड़े, तो एक कैच मुरली विजय ने टपकाया. स्मिथ के अलावा मैच रेनशॉ को भी जीवनदान मिला. उन्होंने स्मिथ के साथ 52 रन की साझेदारी करके ऑस्ट्रेलिया को मजबूत बढ़त दिलाने में बड़ी भूमिका निभाई.

भारत के 8 बल्लेबाज दहाई तक नहीं पहुंचे
टीम इंडिया की बल्लेबाजी के स्तर का आप अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं, कि उसके 8 बल्लेबाज दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू सके. लोकेश राहुल ने सबसे अधिक 64 रन बनाए, तो अजिंक्य रहाणे ने 13 और मुरली विजय ने 10 रन बनाए. कप्तान कोहली से बड़ी उम्मीद थी, लेकिन वह खाता भी नहीं खोल सके और मिचेल स्टार्क का शिकार बन गए.

अश्विन ने कपिल, कुंबले को पीछे छोड़ा, स्टेन से हैं पीछे
ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने दूसरे दिन लंच से पहले पहली पारी में मिचेल स्टार्क को आउट करने के साथ ही भारत के महान ऑलराउंडर कपिल देव का एक रिकॉर्ड तोड़ दिया. उन्होंने होम सीजन में 64 विकेट हासिल करके कपिल देव के किसी होम सीजन में सबसे अधिक 63 विकेटों के रिकॉर्ड को पीछे छोड़ दिया. दूसरी पारी में उन्होंने टीम इंडिया के ही स्पिनर अनिल कुंबले के 11 मैचों में 64 विकेट (2004-05) के रिकॉर्ड को भी पीछे छोड़ा. वर्ल्ड लेवल पर वह दक्षिण अफ्रीका के डेल स्टेन से पीछे हैं, जो 12 मैचों में 78 विकेट (2007-08 के सीजन में) के साथ पहले नंबर पर हैं, जबकि अश्विन के नाम अब 10 मैचों में कुल 67 विकेट हो गए हैं. अश्विन भारतीय धरती पर 200 विकेट पूरे करने के भी करीब हैं. इसके लिए उन्हें सिर्फ 7 विकेट चाहिए. ऐसे करते ही वह अनिल कुंबले (350), हरभजन सिंह (265) और कपिल देव (219) के बाद ये उपलब्धि हासिल करने वाले चौथे भारतीय गेंदबाज बन जाएंगे.

ऑस्ट्रेलिया की दूसरी पारी का विकेट पतन- 1/10 (डेविड वॉर्नर- 10), 2/23 (शॉन मार्श- 0), 3/61(हैंड्सकॉम्ब- 19), 4/113 (मैट रेनशॉ- 31)

चायकाल के बाद कप्तान स्‍टीव स्मिथ और पीटर हैंड्सकॉम्ब ने ऑस्ट्रेलिया की दूसरी पारी को 2 विकेट पर 46 रन से आगे बढ़ाया. दोनों ने 38 रन की साझेदारी करके टीम को मजबूती देने की कोशिश की, लेकिन शानदार फॉर्म में चल रहे टीम इंडिया के ऑफ स्पिनर आर अश्विन ने पारी की तीसरा विकेट झटकते हुए इंडिया की वापसी की कुछ उम्मीद जगा दी. उन्होंने हैंड्सकॉम्ब को 19 रन पर मुरली विजय के हाथों लेग गली पर कैच करा दिया. इसके बाद टीम इंडिया ने कुछ कैच भी गिरा दिए. मैट रेनशॉ को 25 रन पर जीवनदान मिला. उन्होंने रिवर्स स्वीप लगाया और गेंद स्लिप पर खड़े अजिंक्य रहाणे की ओर गई, लेकिन वह पकड़ नहीं पाए. स्मिथ ने 93 गेंदों में फिफ्टी लगाई. इसके बाद रेनशॉ एकाग्रता खो बैठे और जयंत यादव की गेंद पर बड़ा शॉट लगाने की कोशिश कर बैठे, उन्हें ईशांत शर्मा ने लॉन्ग ऑफ पर लपका. दूसरी पारी में बल्लेबाजी करने उतरी ऑस्ट्रेलियाई टीम ने दिन का खेल खत्म होने तक 4 विकेट पर 143 रन बना लिए. स्टीव स्मिथ (59) और मिचेल मार्श (21) नाबाद लौटे. कंगारू टीम को कुल 298 रन की बढ़त हासिल हो गई.

चायकाल से पहले :छा गए युवा स्पिनर ओकीफी, ताश के पत्तों की तरह गिरी टीम इंडिया
टीम इंडिया पहली पारी में ऑस्ट्रेलिया के 260 रनों के जवाब में मिचेल स्टार्क के झटकों से उबरी भी नहीं थी कि स्पिनर स्टीव ओकीफी ने 6 जोरदार झटके देते हुए भारतीय बल्लेबाजी को तहसनहस कर दिया. स्टार्क ने 2 विकेट, तो वहीं नैथन लियोन और जॉश हेजलवुड ने एक-एक विकेट लिया. टीम इंडिया को सबसे बड़ा झटका लंच से पहले मिचेल स्टार्क ने दिया, जब विराट कोहली ऑफ स्टंप से बाहर की गेंद को छेड़ बैठे और गेंद बल्ले का किनारा लेती हुई स्लिप पर खड़े पीटर हैंड्सकॉम्ब के हाथों में समा गई. इस प्रकार विराट VS स्टार्क का पहला मुकाबला मिचेल स्टार्क ने जीत लिया. लोकेश राहुल के 64 रन के निजी स्कोर पर आउट होते ही भारतीय बल्लेबाजी भरबरा गई और तू चल मैं आया वाली स्थिति बन गई. देखते ही देखते पूरी टीम 105 रन पर ड्रेसिंग रूम लौट गई. चायकाल के समय ऑस्‍ट्रेलिया की दूसरी पारी का स्‍कोर 46/2 रहा.

 
steve okeefe india vs australia pune test
ऑस्ट्रेलिया के युवा स्पिनर स्टीव ओकीफी ने इंडिया के बल्लेबाजों को अपनी फिरकी से हैरान कर दिया (फोटो : AFP)


टीम इंडिया का विकेट पतन : 1/26 (मुरली विजय- 10), 2/44 (चेतेश्वर पुजारा- 6), 3/44 (विराट कोहली- 0), 4/94 (लोकेश राहुल - 64), 5/95 (अजिंक्य रहाणे- 13), 6/95 (ऋद्धिमान साहा- 0), 7/95 (आर अश्विन- 1), 8/98 (जयंत यादव- 2), 9/101 (रवींद्र जडेजा- 2), 10/105 (उमेश यादव- 4)

टीम इंडिया ने लंच से पहले 44 रन तक 3 विकेट खो दिए थे. लंच के बाद लोकेश राहुल और अजिंक्य रहाणे से बड़ी पारियों की उम्मीद थी, लेकिन 94 रन के स्कोर पर ही लोकेश राहुल (64) स्टीव ओकीफी ने आउट कर दिया. टीम के स्कोर में एक रन ही और जुड़ा था कि तीन बल्लेबाज (अजिंक्य रहाणे- 13, ऋद्धिमान साहा- 0 और आर अश्विन- 0) 95 रन पर ही लौट गए. इसके बाद 98 रन पर जयंत यादव (2) और रवींद्र जडेजा (2) भी लौट गए. टीम इंडिया को सबसे अधिक नुकसान स्पिनर स्टीव ओकीफी ने पहुंचाया. उन्होंने 6 विकेट लेकर भारतीय बल्लेबाजी की कमर तोड़ दी.

लंच से पहले : इंडिया को लगे 3 बड़े झटके
पहला झटका जॉश हेजलवुड ने दिया और मुरली विजय को 10 रन पर आउट कर दिया. बाएं हाथ के तूफानी गेंदबाज मिचेल स्टार्क ने अपना पहला शिकार चेतेश्वर पुजारा (6) को बनाया. उन्हें विकेटकीपर मैथ्यू वेड ने लपका. इसके बाद आए कप्तान विराट कोहली से बड़ी उम्मीदें थीं, लेकिन स्टार्क ने इसी ओवर की चौथी ही गेंद पर उनको बिना खाता खोले ही चलता कर दिया. 

विराट vs स्टार्क : कोहली 104 पारियों बाद डक पर आउट, पहली जंग स्टार्क ने जीती
पुणे टेस्ट के दूसरे दिन शुरुआत से ही विराट कोहली और मिचेल स्टार्क के बीच संघर्ष की चर्चा रही, सीरीज के पहले ही मुकाबले में स्टार्क ने बाजी मार ली और विराट को महज दो गेंदों के भीतर शून्य पर पैवेलियन की राह पकड़ा दी. विराट कोहली इंटरनेशनल क्रिकेट में 104 पारियों के बाद शून्य पर आउट हुए हैं. इससे पहले साल 2014 में कार्डिफ वनडे में वह शून्य पर लौटे थे, वहीं टेस्ट में साल 2014 में ही मैनचेस्टर में शून्य पर लौटे थे.

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली और मिचेल स्टार्क के प्रदर्शन पर नजर डालें, तो विराट पिछली चार सीरीज से दोहरे शतक ठोक रहे हैं. मिचेल स्टार्क ने एशियाई धरती पर पिछले 3 मैचों में श्रीलंका के साथ खेलते हुए 24 विकेट चटकाए थे और शानदार फॉर्म में चल रहे हैं. पिछली दो सीरीज की बात करें, तो उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 3 टेस्ट में 14 और पाकिस्तान के खिलाफ 3 टेस्ट में भी 14 विकेट झटके थे. मतलब कि वह भारतीय परिस्थितियों से वाकिफ हैं और उन्हें यहां गेंदबाजी करना आता है.

virat kohli india vs australia pune testविराट कोहली कुल 104 पारियों के बाद शून्य पर आउट हुए (फोटो : AFP)

वहीं विराट ने वेस्टइंडीज, फिर न्यूजीलैंड, इंग्लैंड और हाल ही में बांग्लादेश के खिलाफ दोहरा शतक लगाया था. वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट सीरीज में उन्होंने 4 टेस्ट मैचों में 62.75 के औसत से 251 रन बनाए थे, तो न्यूजीलैंड के साथ 3 टेस्ट में 51.50 के औसत से 309 रन ठोके. इंग्लैंड और बांग्लादेश के खिलाफ कोहली का औसत 100 के पार पहुंच गया. उन्होंने अंग्रेजों के साथ 5 टेस्ट में 109 से अधिक के औसत से 655 रन बनाए. बांग्लादशे के साथ उन्होंने एक टेस्ट की सीरीज में 121 से अधिक के औसत से 204 रन बरसाए.

ऑस्ट्रेलिया 260 पर ऑलआउट
इससे पहले दिन के पहले ओवर की पांचवीं गेंद पर ही ऑस्ट्रेलियाई टीम 260 रन पर ऑलआउट हो गई. जॉश हेजलवुड (1) नाबाद रहे, जबकि मिचेल स्टार्क को 61 रन पर आर अश्विन ने आउट किया. गौरतलब है कि पहले दिन के खेल के अंतिम घंटे में स्टार्क ने तूफानी बल्लेबाजी की. उन्होंने 47 गेंदों में फिफ्टी बना दी थी. टीम इंडिया की ओर से उमेश यादव ने सबसे अधिक 4 विकेट, तो आर अश्विन ने 3 विकेट, वहीं रवींद्र जडेजा ने 2 विकेट और जयंत यादव ने एक विकेट चटकाया.

ऑस्ट्रेलिया का विकेट पतन - 1/82 (डेविड वॉर्नर- 38), 2/119 (शॉन मार्श- 16), 3/149 (पीटर हैंड्सकॉम्ब- 22), 4/149 (स्टीव स्मिथ- 27), 5/166 (मिचेल मार्श- 5), 6/190 (मैथ्यू वेड- 8), 7/198 (मैट रेनशॉ- 68), 8/205 ( स्टीफन ओकीफी- 0), 9/205 (नैथन लियोन- 0), 10/260 (मिचेल स्टार्क- 61)

पहले दिन के खेल का अपडेट
टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी ऑस्ट्रेलियाई टीम की ओर से मैट रेनशॉ ने सबसे अधिक 68 रन, तो मिचेल स्टार्क ने नाबाद 57 रन, डेविड वॉर्नर ने 38 रन  (77 गेंद, 6 चौके), कप्तान स्टीव स्मिथ ने 95 गेंदों में 27 रन, शॉन मार्श ने 55 गेंदों का सामना किया और 16 रन जोड़े. पीटर हैंड्सकॉम्ब ने 45 गेंदों में 22 रन बनाए. कंगारुओ की ओर से कोई भी बड़ी साझेदारी नहीं हो पाई. जैसे ही कोई जोड़ी आगे बढ़ती तो टीम इंडिया के गेंदबाज उसे तोड़ देते. खासतौर से चायकाल के बाद तो उसकी बल्लेबाजी ताश के पत्तों की तरह झड़ गई. दिन का खेल खत्म होने तक उनसे पहले मैट रेनशॉ 36 रन पर रिटायर्ड हर्ट होने के बाद फिर बैटिंग करने के लिए लौटे और अच्छी बल्लेबाजी की. उन्होंने करियर की दूसरी फिफ्टी बनाई, लेकिन 68 रन (156 गेंद, 10 चौके, 1 छक्का) पर आर अश्विन ने उन्हें आउट कर दिया.

5 बार वॉर्नर को लौटा चुके हैं उमेश यादव
डेविड वॉर्नर टेस्ट मैचों में 10 पारियों में टीम इंडिया के तेज गेंदबाज उमेश यादव का 5 बार शिकार बन चुके हैं. वॉर्नर के अलावा ऑस्ट्रेलिया के शॉन मार्श को भी वह 5 बार लौटा चुके हैं. किसी भी बल्लेबाज को सबसे अधिकर बार आउट करने के मामले में वॉर्नर और मार्श संयुक्त रूप से उनके पसंदीदा शिकार हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

स्मिथ का भारत के खिलाफ औसत 93 का है..
ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव स्मिथ को भारतीय गेंदबाजी रास आती है और भारत के खिलाफ उनका टेस्ट में औसत बेहद शानदार है. उन्होंने इस मैच से पहले तक टीम इंडिया के साथ खेलते हुए 12 पारियों में चार शतक और तीन फिफ्टी लगाई हैं. यह उनका किसी भी टीम के खिलाफ दूसरा बेस्ट है. हालांकि वह पुणे में पहले दिन कुछ खास नहीं कर पाए.

अंतिम सत्र में कंगारुओं ने खोए 5 विकेट
चायकाल के बाद ऑस्ट्रेलिया का पांचवां विकेट गिर गया. रवींद्र जडेजा ने कसी हुई गेंदबाजी करते हुए मिचेल मार्श पर दबाव बनाया और उन्हें इसका परिणाम जल्दी ही मिल गया. मार्श उनकी एक गेंद पर चूके और विकेटों के सामने पकड़े गए. अंपायर ने उन्हें पगबाधा करार दिया. इसके बाद मैट रैनशॉ ने 125 गेंदों में करियर की दूसरी फिफ्टी पूरी की. रेनशॉ ने मैथ्यू वेड के साथ 24 रनों की साझेदारी करके पारी को संभालने की कोशिश की, लेकिन वेड को उमेश यादव ने चलता कर दिया. वह पगबाधा आउट हुए. ऑस्ट्रेलिया को सबसे तगड़ा झटका अश्विन ने 196 के स्कोर पर दिया, जब उन्होंने जमकर खेल रहे मैट रेनशॉ को 68 रन पर स्लिप पर खड़े मुरली विजय के हाथों खूबसूरती से कैच करा दिया. रेनशॉ ने 156 गेंदों का सामना किया और 10 चौके व 1 छक्का लगाया. आठवां विकेट स्टीफन ओकीफी का गिरा, जिन्हें उमेश यादव की गेंद पर विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा ने ग्रेट कैच लेकर चलता किया. अगली ही गेंद पर नैथन लियोन भी उमेश का शिकार बन गए और टीम इंडिया ने नौवां विकेट झटक लिया. चायकाल से लगभग 15 मिनट पहले रवींद्र जडेजा और आर अश्विन ने ऑस्ट्रेलिया को लगातार दो झटके दिए. जडेजा ने हैंड्सकॉम्ब (22) और अश्विन ने कप्तान स्टीव स्मिथ (27) को लौटाया. दोनों के बीच 30 रनों की साझेदारी हुई.