Budget
Hindi news home page

लोढ़ा समिति की रिपोर्ट : बीसीसीआई को बदलना पड़ सकता है आईपीएल कार्यक्रम

ईमेल करें
टिप्पणियां
लोढ़ा समिति की रिपोर्ट : बीसीसीआई को बदलना पड़ सकता है आईपीएल कार्यक्रम

जस्टिस लोढ़ा

नई दिल्ली: यदि उच्चतम न्यायालय, न्यायमूर्ति आरएम लोढ़ा समिति की सिफारिशों को मानने के लिए बीसीसीआई को बाध्य कर देता है तो फिर देश की इस सर्वोच्च क्रिकेट संस्था को इस साल 9 अप्रैल से शुरू होने वाले इंडियन प्रीमियर लीग के नौवें टूर्नामेंट के कार्यक्रम में बदलाव करना पड़ सकता है।

समिति की एक सिफारिश के अनुसार आईपीएल सत्र और राष्ट्रीय कैलेंडर के बीच 15 दिन का अंतर होना चाहिए। भारतीय क्रिकेट टीम आईसीसी विश्व टी-20 चैंपियनशिप में हिस्सा लेगी जो 14 मार्च से 3 अप्रैल तक खेली जाएगी। यदि भारत 3 अप्रैल को होने वाले फाइनल के लिए क्वालीफाई करता है तो फिर देश के चोटी के क्रिकेटरों को इस चैंपियनशिप के समाप्त होने के एक सप्ताह के अंदर आईपीएल में खेलना होगा।

रिपोर्ट के वॉल्यूम एक के पेज 42 में ‘आईपीएल’ शीर्षक से लिखा गया है, ‘‘बीसीसीआई को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आईपीएल सत्र और राष्ट्रीय कैलेंडर के बीच कम से कम 15 दिन का अंतर हो। व्यस्त क्रिकेट कार्यक्रम का पेशेवर क्रिकेटरों पर प्रभाव पड़ रहा है और यह बीसीसीआई की जिम्मेदारी है कि वह इससे बचाव के लिए तुरंत उपाय करे।’’

समिति ने इसके साथ ही बीसीसीआई को यह भी याद दिलाया है कि भारतीय खिलाड़ी विदेशी क्रिकेटरों के नक्शेकदम पर चल सकते हैं जो अपना लंबा अंतरराष्ट्रीय करियर रखने के लिये आईपीएल का अनुबंध ठुकरा देते हैं।


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement

 
 

Advertisement