भारतीय टीम की कप्तानी के लिए महेंद्र सिंह धोनी अब भी बेस्ट : माइकल हसी

भारतीय टीम की कप्तानी के लिए महेंद्र सिंह धोनी अब भी बेस्ट : माइकल हसी

आईपीएल के मैच के दौरान धोनी और हस्सी (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर भारत की लगातार हार ने ज़ाहिर तौर पर महेंन्द्र सिंह धोनी की कप्तानी पर भी सवाल खड़े कर दिए हैं। ख़ासकर कैनबरा मैच में धोनी के शून्य पर आउट होने और मैच के फ़ौरन बाद हार की ज़िम्मेदारी अपने सिर ले लेने के बाद ये बहस और तेज़ हो गई है। लेकिन, मिस्टर क्रिकेट माइकल हसी जमकर धोनी की तरफ़दारी कर रहे हैं।

माइकल हसी (79 टेस्ट में 19 शतक और 51.52 औसत; 185 वनडे में 48.15 औसत और 3 शतक) मानते हैं कि टीम इंडिया की कप्तानी के लिए अब भी धोनी से बेहतर कोई नहीं।

जीत के बेहद क़रीब पहुंचकर भी टीम इंडिया कैनबरा में जीत हासिल नहीं कर पाई। धोनी ने कहा कि उनका रोल मैच को फ़िनिश करना है। इसलिए वो अपने विकेट को मैच का टर्निंग प्वाइंट मानते हैं। माइकल हसी कहते हैं, "मैं धोनी की कप्तानी के पक्ष में हूं। वो इन हालात से निपटने के लिए बेहतरीन हैं। लोग भूल जाते हैं कि हर बार 30 गेंदों पर 60 रन बनाना आसान नहीं है।"

हसी ये भी कहते हैं कि गेंदबाज़ अच्छे हैं और पहले से स्मार्ट हो गए हैं। वो धोनी की ताक़त को समझते हैं। इसलिए चीज़ें पहले की तरह नहीं होंगी। वो ये भी कहते हैं कि वो चाहेंगे कि धोनी जब तक महसूस करते हैं कि उन्हें टीम की कप्तानी करनी चाहिए, कप्तान धोनी को ही होना चाहिए।

हसी कहते हैं कि टीम इंडिया ने सीरीज़ में अब तक अच्छी क्रिकेट खेली है। वो कहते हैं, "भारत ने अब तक अच्छे खेल का प्रदर्शन किया है। आप चार मैचों में उनका प्रदर्शन देखें। वो चारों ही बार 300 और उसके क़रीब रन बना रहे हैं। ऑस्ट्रेलिया में ऐसा प्रदर्शन करना आसान नहीं है।"

Newsbeep

वो ये भी मानते हैं कि टीम इंडिया के पास ऑस्ट्रेलिया को हराने के अच्छे मौक़े थे और अगर मेहमान टीम ऐसा ही प्रदर्शन करती रही तो मेज़बान ऑस्ट्रेलिया को हरा भी सकती है।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


हसी ने टीम इंडिया के गेंदबाज़ों की भी तारीफ़ की है। हसी कहते हैं, "मैं भारतीय गेंदबाज़ों को अच्छा रेट करता हूं। ख़ासकर ईशांत शर्मा और उमेश यादव अच्छे गेंदबाज़ हैं। वो कहते हैं कि आप पहले ऑस्ट्रलिया आ चुके हों फिर भी ऑस्ट्रेलियाई हालात में खुद को ढालने में वक्त लगता है।'' हसी कहते हैं, "भारत के साथ पिछले साल भी ऐसा ही हुआ और उसके बाद उन्होंने वर्ल्ड कप में अच्छा प्रदर्शन किया।"