Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

पाकिस्तान के टेस्‍ट कप्तान मिस्बाह उल हक़ का नया रिकॉर्ड, धोनी-गांगुली को पीछे छोड़ा

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पाकिस्तान के टेस्‍ट कप्तान मिस्बाह उल हक़ का नया रिकॉर्ड, धोनी-गांगुली को पीछे छोड़ा

मिस्बाह उल हक़ का फाइल फोटो...

खास बातें

  1. उपमहाद्वीप के कप्तानों में सबसे ज़्यादा टेस्ट सीरीज़ जीतने का रिकॉर्ड.
  2. एशियाई देशों में सबसे ज़्यादा 9 टेस्ट सीरीज़ गांगुली और धोनी ने जीती हैं.
  3. मिस्बाह अब पाकिस्तान के सबसे सफल टेस्ट कप्तानों में शामिल हो गए हैं.
नई दिल्‍ली:

पाकिस्तान ने अबु धाबी टेस्ट में वेस्ट इंडीज़ को 133 रन के बड़े अंतर से हराया. मैच के हीरो रहे यासिर शाह, जिन्होंने मैच में 10 विकेट लिए और मैन ऑफ़ द मैच भी बने. पाकिस्तान ने टेस्ट सीरीज़ में 2-0 की बढ़त बनाकर 3 मैच की सीरीज़ पर क़ब्ज़ा कर लिया. इस जीत के साथ ही पाकिस्तान ने लगातार 10 अंतरराष्‍ट्रीय मैच जीत अपने खाते में डाल लिया.

ये तो टीम के शानदार जीत की बात हुई, लेकिन इस जीत के साथ ही पाकिस्तान के कप्तान मिस्बाह उल हक़ ने एक रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया. मिस्बाह ने भारत के दो सफल कप्तान सौरव गांगुली और महेंद्र सिंह धोनी को पीछे छोड़ दिया.

उपमहाद्वीप के कप्तानों में सबसे ज़्यादा टेस्ट सीरीज़ जीतने का रिकॉर्ड 42 साल के मिस्बाह के नाम हो गया. एशियाई देशों में सबसे ज़्यादा 9 टेस्ट सीरीज़ गांगुली और धोनी ने जीते हैं. इसके बाद पाकिस्तान के जावेद मियांदाद और श्रीलंका के अर्जुन रानातुंगा ने 8-8 टेस्ट सीरीज़ जीते हैं. पाकिस्तान के लिए 10वीं टेस्ट सीरीज़ जीतने के साथ ही मिस्बाह क्रिकेट में इन दिगज्जों से आगे निकल गए.

मिस्बाह सबसे ज़्यादा टेस्ट मैच जीतने वाले कप्तानों की लिस्ट में भी दूसरे नंबर पर आ गए हैं. यहां धोनी सबसे ऊपर हैं. धोनी ने 60 मचों में कप्तानी करते हुए 27 मैच जीते हैं तो दूसरे नंबर पर मिस्बाह ने 48 मैचों में कप्तानी की है और 24 मैच जीते हैं. तीसरे नंबर पर गांगुली के नाम 49 मैचों में 21 जीत हैं.


पाकिस्तानी कप्तान के लिए वेस्ट इंडीज़ के ख़िलाफ़ जीत इस मायने में भी ख़ास है. मिस्बाह अब पाकिस्तान के सबसे सफल टेस्ट कप्तानों में शामिल हो गए हैं. कप्तानी के मामले में मिस्बाह ने मशहूर क्रिकेटर इमरान ख़ान की भी बराबरी कर ली है.

टिप्पणियां

इमरान ने कप्तान के तौर पर 48 मैच पाकिस्तान के लिए खेले हैं और इसमें 14 जीत और 8 हार के 26 ड्रॉ हैं, जबकि मिस्बाह के खाते में 48 टेस्ट में 24 जीते, 13 हारे और 11 ड्रॉ हैं.

मिस्बाह ने इमरान की बराबरी पर कहा, 'मैं रिकॉर्ड के लिए नहीं खेलता, लेकिन अगर कोई रिकॉर्ड बनता है तो उससे ख़ुशी होती है.'



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... मुस्लिम युवक दीवान शरीफ मुल्ला बने लिंगायत संत! मठ प्रमुख के तौर पर होगी ताजपोशी

Advertisement