NDTV Khabar

मिस्बाह उल हक के पाकिस्तान टीम के कोच बनने की राह में यह है बड़ी अड़चन...

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मिस्बाह उल हक के पाकिस्तान टीम के कोच बनने की राह में यह है बड़ी अड़चन...

स्बाह उल हक का कहना है, उनका वेतन पूर्व कोच मिकी ऑर्थर से कम नहीं होना चाहिए

खास बातें

  1. पूर्व कोच मिकी आर्थर के बराबर वेतन मांग रहे मिस्बाह
  2. पीसीबी इतना वेतन देने के लिए नहीं है तैयार
  3. मोहसिन और डीन जोंस भी है कोच पद के दावेदार

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान मिस्बाह उल हक (Misbah-ul-Haq) पाकिस्तानी क्रिकेट टीम (Pakistan Team)का कोच बनने की दौड़ में भले ही आगे बताए जा रहे हों लेकिन उनकी ओर से पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (PCB) से मांगा गया मेहनताना, कोच बनने की राह में एक बाधा बन सकता है. 'द एक्सप्रेस ट्रिब्यून' की रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि मिस्बाह का कहना है कि उनका वेतन पूर्व कोच मिकी ऑर्थर (Mickey Arthur)से कम नहीं होना चाहिए. पीसीबी इसके लिए राजी नहीं है, वह एक 'देसी' कोच को विदेशी कोच जितना  पैसा देने के लिए तैयार नहीं दिख रहा.

वर्ल्‍डकप में पाकिस्‍तान टीम के खराब प्रदर्शन की कोच मिकी ऑर्थर पर गिरी गाज..

पैसे के अलावा मिस्बाह (Misbah-ul-Haq) के कोच बनने की राह में पाकिस्तान सुपर लीग (PSL)की एक टीम की कोचिंग की भी बाधा है. मिस्बाह इस टीम को छोड़ना नहीं चाहते जबकि पीसीबी का कहना है कि देश की क्रिकेट टीम के कोच के लिए ऐसा करना ठीक नहीं होगा. पीसीबी चेयरमैन एहसान मनी साफ कर चुके हैं कि राष्ट्रीय टीम के साथ-साथ पीएसएल फ्रेंचाइजी के लिए भी कोच की भूमिका को निभाया जाना अब संभव नहीं होगा. पीसीबी (PCB) का नया संविधान इसकी इजाजत नहीं देता.


टिप्पणियां

सूत्रों ने कहा कि यही वे वजहें हैं कि मिस्बाह ने अंतिम समय तक कोच पद के लिए आवेदन नहीं किया था. ऑर्थर का समुचित विकल्प नहीं मिलने से परेशान पीसीबी के आग्रह पर ही मिस्बाह ने अंतिम समय में आवेदन किया था. मिस्बाह के अलावा पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर मोहसिन खान (Mohsin Khan)और पूर्व ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर डीन जोंस (Dean Jones)भी पाकिस्तान टीम के मुख्य कोच के मजबूत दावेदारों में हैं.

वीडियो: वीरेंद्र सहवाग से एनडीटीवी की खास बातचीत..



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... कश्मीरी पंडितों का दर्द हमने कितना समझा?

Advertisement