NDTV Khabar

INDvsPAK : छोटे लक्ष्य के बावजूद पाकिस्तान को पटखनी देने पर इंडिया की कैप्टन ने कहा, हमें तो पता था कि...

रविवार को खेले गए दो मैचों में जहां एक ओर विंडीज की धरती पर विराट कोहली की कप्तानी वाली पुरुष क्रिकेट टीम छोटा लक्ष्य ही हासिल नहीं कर पाई, वहीं महिला टीम ने अपने छोटे लक्ष्य का खूबसूरती से बचाव कर लिया.

207 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
INDvsPAK : छोटे लक्ष्य के बावजूद पाकिस्तान को पटखनी देने पर इंडिया की कैप्टन ने कहा, हमें तो पता था कि...

INDvsPAK : कप्तान मिताली राज के पास 150 से भी अधिक वनडे का अनुभव है (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. मिताली राज 100 से अधिक वनडे खेलेने वाली विश्व की तीसरी खिलाड़ी हैं
  2. भारतीय महिला टीम ने वर्ल्ड कप में उम्मीदें जगा दी हैं
  3. भारतीय महिला टीम कभी भी वर्ल्ड कप नहीं जीत पाई है
डर्बी: भारत की पुरुष क्रिकेट टीम को आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी में भले ही पाकिस्तान के हाथों शिकस्त झेलनी पड़ी हो, लेकिन महिला क्रिकेट टीम ने धमाकेदार प्रदर्शन करते हुए वर्ल्ड कप में पाकिस्तान को धूल चटा दी. रविवार को खेले गए दो मैचों में जहां एक ओर विंडीज की धरती पर विराट कोहली की कप्तानी वाली पुरुष क्रिकेट टीम छोटा लक्ष्य ही हासिल नहीं कर पाई, वहीं महिला टीम ने अपने छोटे लक्ष्य का खूबसूरती से बचाव कर लिया. भारत ने पाकिस्तान के सामने 170 रनों का मामूली लक्ष्य रखा था और फिर पाकिस्तान को 100 रन के भीतर ही ढेर कर दिया. टीम इंडिया की कप्तान मिताली राज का आत्मविश्वास तो देखिए, उन्होंने कहा है कि छोटे लक्ष्य के बावजूद उनको पता था कि पाक टीम नहीं टिक पाएगी... जानिए कैसे...

भारतीय महिला टीम की कैप्टन मिताली राज बेहद अनुभवी हैं और वह देश के लिए 150 से अधिक वनडे खेल चुकी हैं. जाहिर ऐसे में वह खेल के हर उतार-चढ़ाव से भलीभांति परिचित हैं और यही अनुभव उनके काम आया. भारतीय कप्तान मिताली राज ने कहा भी कि वह जानती थी कि पाकिस्तानी टीम के लिए 170 रन का लक्ष्य हासिल करना आसान नहीं होगा, क्योंकि दूसरी पारी में पिच बल्लेबाजी के अनुकूल नहीं रह गई थी.

मिताली ने मैच के बाद कहा,  'जब हम 170 रन के करीब पहुंचे तो मैं जानती थी कि शुरू में विकेट लेना जरूरी है क्योंकि लक्ष्य का पीछा करने वाली टीम कितनी भी अच्छी क्यों नहीं हो और भले ही उसके सामने 150 रन का लक्ष्य हो, उस पर अच्छी शुरुआत के लिए दबाव होता है. विकेट बाद में आसान नहीं रह गया था और स्पिनरों को काफी टर्न मिल रहा था.'

कप्तान मिताली ने यह भी कहा कि शुरुआती विकेट खोने के बाद उन्होंने नई रणनीति बनाई और उनका लक्ष्य 170 के स्कोर के आसपास पहुंचना था, क्योंकि गेंदबाजों की मदद कर रहा था. खासतौर से स्पिनरों को खेलना मुश्किल हो रहा था.

मिताली ने यह भी कहा, 'जब आप पहले 10 ओवरों में पहला विकेट गंवा देते हो, तो इससे आप बैकफुट पर चले जाते हैं. हालांकि हमने अच्छी साझेदारियां निभाई, लेकिन लगातार 2 विकेट गंवाने से हम फिर बैकफुट पर चले गए.'  

टिप्पणियां
उन्होंने कहा,  हमने अपनी बल्लेबाजों को 40वें ओवर तक टिके रहने की सलाह दी थी लेकिन हमने फिर से विकेट गंवा दिये. सुषमा और झूलन ने आखिर में महत्वपूर्ण योगदान दिया और हम 170 रन तक पहुंचने में सफल रहे. चोटी की चार बल्लेबाज गंवाने के बाद हम इतना ही स्कोर बनाने के बारे में सोच रहीं थीं.'

भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 9 विकेट पर 169 रन बनाए तथा मिताली ने निचले क्रम में अच्छे योगदान के लिए सुषमा वर्मा और झूलन गोस्वामी की तारीफ की.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement