Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

मिताली राज के इस 'विराट रिकॉर्ड' के आगे महेंद्र सिंह धोनी भी पीछे छूटे

मिताली राज के इस 'विराट रिकॉर्ड' के आगे महेंद्र सिंह धोनी भी पीछे छूटे

मिताली राज की फाइल फोटो

खास बातें

  • दो सौ वनडे खेलने वाली दुनिया की पहली महिला खिलाड़ी बनीं
  • साल 1999 में ऑयरलैंड के खिलाफ किया करियर का आगाज
  • दो सौ वनडे में बना चुकी हैं 6622 रन
हैमिल्टन:

भारतीय महिला वनडे टीम की कप्तान मिताली राज (Mithali Raj) हैमिल्टन में  सेडन पार्क (Seddon Park) में न्यूजीलैंड (NZW vs INDW)के खिलाफ शुक्रवार को खेले गए तीसरे वनडे से पहले दो बड़े रिकॉर्ड बनाने की कगार पर थीं. एक बड़ा रिकॉर्ड अपने आप ही उनकी झोली में आ गिरना था, तो एक बड़े रिकॉर्ड से वह सिर्फ दो रन से ही चूक गईं. बहरहाल, पिछले करीब दो दशक से भारतीय महिला टीम की हिस्सा रहीं मिताली राज (Mithali Raj) ने एक बहुत ही खास मामले में टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ही नहीं, बल्कि महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) को भी पीछे छोड़ दिया है. यह एक ऐसा विराट रिकॉर्ड है, जो मिताली राज (Mithali Raj) की खासियत के बारे में बताने के लिए काफी है. 

तीसरा वनडे खेलने के साथ ही मिताली राज दो सौ अंतरराष्ट्रीय वनडे मुकाबले खेलने वाली दुनिया की पहली महिला खिलाड़ी बन गई हैं. मिताली ने भारत के लिए अपना पहला वनडे मैच आयरलैंड के खिलाफ साल 1999 में खेला था. वहीं, न्यूजीलैंड के खिलाफ अपने एक हजार रन पूरे करने के लिए मिताली को इस मुकाबले में 11 रन बनाने थे, लेकिन वह सिर्फ 9 रन ही बना सकीं. और सिर्फ 2 रन से इस रिकॉर्ड से चूक गईं. 

यह भी पढ़ें: जहीर खान ने विश्व कप के लिए चुनी अपनी भारतीय टीम, सेलेक्टर मानेंगे 'यह सलाह'

लेकिन हाल ही में जो खास बात उभरकर सामने आई है, वह है स्कोर के चेज करने के मामले में उनका विराट कोहली और महेंद्र सिंह धोनी से भी बेहतर प्रदर्शन करना. अब यह तो आप जानते ही हैं कि विराट कोहली और महेंद्र सिंह धोनी को चेज गुरू कहा जाता है, लेकिन मिताली राज के सफलतापूर्वक चेज के औसत ने उन्हें इन दोनों का भी 'गुरु' बना दिया है. यह आप नीचे के फोटो से साफ समझ सकते हैं. 

VIDEO:  भारत ने ऑस्ट्रेलिया में पहली बार वनडे द्विपक्षीय सीरीज जीती. 

वास्तव में करीब दो दशक का करियर मिताली राज की खेल और देश के लिए प्रतिबद्धता को बयां करने के लिए काफी है. अभी भी मिताली क्रिकेट को छोड़ती दिखाई नहीं पड़ रही हैं. और उम्मीद है कि आने वाले समय में और कई बड़े रिकॉर्ड मिताली अपने नाम करेंगी.