एमएस धोनी के इस रिकॉर्ड के क्या कहने, पिता और बेटे दोनों को आउट किया

एमएस धोनी के इस रिकॉर्ड के क्या कहने, पिता और बेटे दोनों को आउट किया

रियान पराग ने बहुत ही कम उम्र में बेहतरीन क्षमता और टेम्प्रामेंट का प्रदर्शन किया है.

नई दिल्ली:

रिकॉर्डों के बादशाह धोनी ने अपने करियर में एक से बढ़कर एक रिकॉर्ड बनाए हैं, लेकिन जारी इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में अब धोनी का एक वेरी-वेरी स्पेशल रिकॉर्ड सामने आया है, जो उन्हें और उनके चाहने वालों को बहुत ही रोमांचित करने वाला है. दरअसल धोनी ऐसे विकेटकीपर बन गए हैं, जिन्होंने अपने करियर में स्टंप के पीछे पिता और पुत्र दोनों का ही शिकार किया. धोनी ने यह कारनामा राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ खेले गए मुकाबले में किया. इस मैच में धोनी ने राजस्थान रॉयल्स के युवा बल्लेबाज रियान पराग को स्टंप के पीछे कैच आउट किया था. चेन्नई इस मैच में चार विकेट से जीतने में कामयाब रहा था. 

पिछले काफी दिनों से सोशल मीडिया पर एक तस्वीर जमकर वायरल हो रही थी. इस तस्वीर में युवा रियान पराग धोनी से पहली बार तब मिले थे, जब वह सिर्फ तीन साल के थे. जैसे ही रियान पराग चर्चाओं में आए, तो यह तस्वीर एकदम से ही क्रिकेटप्रेमियों के बीच आकर्षण और चर्चा का विषय बन गई थी. बहरहाल, अब धोनी के पराग को आउट करने के बाद जो बात सामने आई है, वह बहुत ही रोमांचित करने वाली है. 

यह भी पढ़ें: RR vs DC: धमाकेदार पारी खेलने वाले ऋषभ पंत को सौरव गांगुली ने गोद में उठाया, किया यह ट्वीट..

इसके तहत यह कहा जा रहा है कि धोनी ने लगभग 19 साल पहले रियान के पिता पराग दास को भी एक घरेलू मैच में स्टंप आउट किया था. याद दिला दें कि धोनी ने 1999-2000 सीजन में बिहार की ओर से खेलते हुए रणजी ट्रॉफी से अपने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में पदार्पण किया था.

क्रिकेट कमेंटेटर हर्षा भोगले ने ट्विटर पर रोचक आंकड़े जारी करते हुए लिखा, "कई साल पहले रणजी ट्रॉफी का 1999-2000 सीजन में असम की दूसरी पारी का स्कोरबोर्ड देखिए. असम के ओपनर पराग दास को युवा विकेटकीपर एसएस धोनी ने स्टंप आउट किया. पराग दास, रियान पराग के पिता हैं'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO: वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के खिलाफ मैच पर रविशंकर प्रसाद की राय सुन लीजिए. 

धोनी ने ईस्ट जोन लीग में असम के खिलाफ मैच की दूसरी पारी में रियान के पिता पराग दास को स्टंप आउट किया था. दास ने उस मैच में 24 गेंदों पर 30 रन बनाए थे. बिहार ने इस मैच को 191 रन से जीता था.