Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

'इस बात' ने मुंबई की विजय हजारे खिताबी जीत में चार चांद लगा दिए

'इस बात' ने मुंबई की विजय हजारे खिताबी जीत में चार चांद लगा दिए

श्रेयस अय्यर ने विजय हजारे ट्रॉफी में सौ से भी ज्यादा औसत से रन बटोरे हैं

खास बातें

  • दिल्ली को छह विकेट से हराया मुंबई ने
  • मुंबई को मिला था सिर्फ 178 रन का टारगेट
  • आदित्य तारे के नाबाद 71 रन, बने मैन ऑफ द मैच
बेंगलुरू:

आदित्य तारे (71) और सिद्धेश लाड (48) के बेहतरीन पारियों की मदद से मुंबई (Mumbai wins Vijay Hazare Trophh) ने शनिवार को दिल्ली को छह विकेट से हराकर विजय हजारे ट्रॉफी (VIjay Hazare Trophy) क्रिकेट टूर्नामेंट का खिताब तीसरी बार अपने नाम कर लिया. मुंबई ने 2003-2004 और 2006-2007 में भी यह खिताब जीता था. वहीं, दिल्ली का दूसरी बार यह खिताब जीतने का सपना टूट गया. बहरहाल, मुंबई की टूर्नामेंट की खिताबी जीत में चार चांद लगा दिए एक खास पहलू ने.

मुंबई ने यहां एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया और दिल्ली को 45.4 ओवर में 177 रन पर रोक दिया, मुंबई ने इस लक्ष्य को 35 ओवर में छह विकेट खोकर हासिल कर लिया. दिल्ली से मिले 178 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी मुंबई की शुरुआत भी खराब रही और उसने 40 रन के अंदर ही अपने शीर्ष बल्लेबाजों के विकेट गंवा दिए. इसके बाद तारे और लाड ने पांचवें विकेट के लिए 105 रन की शतकीय साझेदारी कर मुंबई को जीत की मंजिल तक पहुंचा दिया. 

यह भी पढ़ें: 'दो खिलाड़ियों' की कीमत पर क्विंटन डि कॉक को खरीदा मुंबई इंडियंस ने​

तारे ने 89 गेंदों पर 13 चौके और एक छक्का लगाया जबकि लाड ने 68 गेंदों पर चार चौके और दो छक्के जड़े। तारे को उनके शानदार प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार मिला. शिवम दुबे ने 12 गेंदों पर नाबाद 19 रन और अजिंक्य रहाणे ने 10 रनों का योगदान दिया. दिल्ली के लिए नवदीप सैनी ने 53 रन देकर सर्वाधिक तीन विकेट हासिल किए। इसके अलावा कुलवंत खेजरोलिया, मनन शर्मा और ललित यादव को एक-एक विकेट मिले. 

VIDEO: भारत ने विंडीज को राजकोट में विंडीज को रिकॉर्ड अंतर से मात दी. 

इससे पहले, दिल्ली की टीम नियमित अंतराल पर विकेट गंवाने के कारण 45.4 ओवर में 177 रन तक ही पहुंच सकी. दिल्ली के लिए हिम्मत सिंह ने 41, ध्रुव शौरी ने 31, सुबोथ भाटी ने 25 और पवन नेगी ने 21 रन बनाए, मुंबई के लिए धवल कुलकर्णी और शिवम दुबे ने तीन-तीन तथा तुषार देशपांडे ने दो और शम्स मुलानी ने एक विकेट हासिल किए. मुंबई की खिताबी जीत में चार चांद लगा दिए उनका टूर्नामेंट में सफर ने. मुंबई ने खिताब जीतने तक एक भी मैच नहीं गंवाया.