NDTV Khabar

NIDAHAS TROPHY: इन 5 युवाओं पर रहेगी श्रीलंका में ट्राई सीरीज में नजर

वास्तव में आगामी ट्राई सीरीज टीम इंडिया के लिए हार-जीत से ज्यादा युवाओं के प्रदर्शन के लिहाज से ही महत्वपूर्ण है

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
NIDAHAS TROPHY: इन 5 युवाओं पर रहेगी श्रीलंका में ट्राई सीरीज में नजर

ऋषभ पंत की फाइल फोटो

नई दिल्ली:

श्रीलंका में होने वाले ट्राई-सीरीज में भारतीय टीम में कुछ युवाओं को भी जगह दी गई है. सीनियर खिलाड़ियों को आराम दिए जाने के बाद इन युवाओं के लिए खुद को साबित करने और सेलेक्टरों का भरोसा जीतने का बहुत ही अच्छा मौका है. चलिए हम आपको बताते हैं उन पांच युवा खिलाड़ियों के बारे में, जिन पर इस सीरीज में सभी क्रिकेटप्रेमियों के साथ राष्ट्रीय चयन समिति की भविष्य के लिहाज से नजरें होंगी.

दीपक हुड्डा
ऑलराउंडर दीपक हुड्डा को पिछले साल श्रीलंका के खिलाफ घरेलू T20 सीरीज में टीम इंडिया में चुना गया लेकिन उन्हें खेलने का मौका नहीं मिला था. लेकिन 22 साल के हुड्डा को भरोसा है कि इस बार उन्हें मौका जरूर मिलेगा। घरेलू क्रिकेट में हुड्डा ने गेंद और बल्ले दोनों से अच्छा प्रदर्शन किया है. हुड्डा ने विजय हजारे ट्रॉफी के 7 मैचों में 50.28 की औसत से 352 रन बनाए, तो वहीं सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में उन्होंने 150.66 की स्ट्राइक रेट से 8 मैचों में 226 बनाए.

वॉशिंगटन सुंदर
गेंद और बल्ले दोनों से घरेलू क्रिकेट में कमाल दिखा चुके वॉशिंगटन सुंदर को आईपीएल ऑक्शन में राजस्थान रॉयल्स ने 3.2 करोड़ में खरीदा. बांए हाथ के ओपनिंग बल्लेबाज सुंदर ने 12 फर्स्ट क्लास मैचों में 532 रन बनाए हैं और 30 विकेट भी लिए हैं. पिछले साल सुंदर ने श्रीलंका के खिलाफ वनडे और T20 डेब्यू किया. दोनों मैचों में उन्होंने एक-एक विकेट लिया. जाहिर है इस बार अगर उन्हें मौका मिलता है, तो वह अपने प्रदर्शन को बेहतर करने की कोशिश करेंगे. सुदंर ने 2018 में विजय हजारे ट्रॉफी के 5 मैचों में 3 विकेट लिए और सैयद मुश्ताक अली T20 के 9 मैचों में 12 विकेट लिए.


यह भी पढ़ें : मिल गया नया जूनियर चीफ सेलेक्टर! इसलिए वापसी हुई आसान

मोहम्मद सिराज
मोहम्मद सिराज की गेंदों में तेजी है लेकिन कई अहम मौकों पर वो लाइन-लेंथ बरकरार रखने में नाकाम दिखे हैं. विजय हजारे ट्रॉफी में छत्तीसगढ़ के खिलाफ 37 रन देकर 5 विकेट लेकर सिराज ने सभी को प्रभावित किया. विजय हजारे ट्रॉफी के 7 मैचों में 5.68 की इकॉनोमी रेट से सिराज ने सबसे ज़्यादा 23 विकेट लिए और सैयद मुश्ताक अली T20 के 5 मैचों में 10 विकेट अपने नाम किए. भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह की गैरमौजूदगी में 2 अंतरराष्ट्रीय T20 का अनुभव हासिल कर चुके सिराज के पास अपने आप को साबित करने का इससे बेहतर मौका नहीं मिलेगा.

विजय शंकर
विजय शंकर को अंतर्राष्ट्रीय डेब्यू का इंतज़ार है. शंकर एक तेज़ गेंदबाज ऑलराउंडर हैं और बड़े-बड़े शॉट्स लगाने में भी माहिर है. पिछले साल श्रीलंका के ख़िलाफ़ टेस्ट सीरीज में टीम इंडिया में चुने गए लेकिन खेलने का मौक़ा नहीं मिला. विजय हजारे ट्रॉफी के 4 मैचों में शंकर ने 50.00 की औसत से 200 रन बनाए, इसमें 1 शतक और 1 अर्द्धशतीकय पारी शामिल रही. हालांकि उनके खाते में सिर्फ 2 विकेट ही रहे. वहीं सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी के 7 मैचों में 152 रन बनाए और यहां उनके खाते में सिर्फ एक विकेट रहा. शंकर- 32 फर्स्ट क्लास मैचों में 1600 से ज्यादा रन और 27 विकेट अपने नाम कर चुके हैं.

टिप्पणियां


ऋषभ पंत
खराब फॉर्म की वजह से ऋषभ पंत को दिल्ली की कप्तानी छिन गई थी. लेकिन पंत ने इसके बाद सैयद मुश्ताक अली T20 टूर्नामेंट में बल्ले से धमाका कर सबको प्रभावित किया. पंत ने हिमाचल प्रदेश के खिलाफ 20-20 के इतिहास का दूसरा सबसे तेज शतक जमाया। सिर्फ़ 32 गेंद पर शतक जमाने वाले पंत ने इस टूर्नामेंट के 10 मैचों में 411 रन बनाए वो भी 195.71 की स्ट्राइक रेट से और दिल्ली को चैंपियन बनाने में ख़ास रोल निभाया. विकेटकीपर-बल्लेबाज़ पंत महेंद्र सिंह धोनी की गैरमौजूदगी में उन्हें मौका मिलना करीब-करीब तय है. पंत ने विजय हज़ारे ट्रॉफ़ी के 7 मैचों में 44.33 की औसत से 266 रन बनाए. 

VIDEO : सेंचुरियन में शतक बनाने के बाद विराट कोहली. 

कुल मिलाकर इन पांच क्रिकेटरों के लिए ट्राई सीरीज अगले साल टी-20 विश्व कप के लिए दावा ठोकने का बहुत ही शानदार मौका है. सेलेक्टरों को यह बताने का कि वे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी आग उगलने का माद्दा रखते हैं. कौन पास होगा, कौन फेल, यह आपको जल्द ही पता चलेगा. 
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement