NDTV Khabar

दागी तेज गेंदबाज एस.श्रीसंत को बीसीसीआई की दो टूक, 'आजीवन प्रतिबंध नहीं हटेगा'

180 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
दागी तेज गेंदबाज एस.श्रीसंत को बीसीसीआई की दो टूक, 'आजीवन प्रतिबंध नहीं हटेगा'

एस. श्रीसंत पर स्‍पॉट फिक्सिंग के आरोप में आजीवन प्रतिबंध लगाया गया था (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. आजीवन प्रतिबंध की समीक्षा की श्रीसंत की अपील खारिज की
  2. कहा-जीरो टालरेंस की नीति से कोई समझौता नहीं होगा
  3. तेज गेंदबाज को पत्र लिखकर फैसले की सूचना दी गई
नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने आजीवन प्रतिबंध की समीक्षा की दागी तेज गेंदबाज एस श्रीसंत की अपील को खारिज कर दिया है. बीसीसीआई का दो टूक कहना है कि वह भ्रष्टाचार के प्रति शून्य सहिष्णुता की नीति से कोई समझौता नहीं करेगा. केरल के तेज गेंदबाज श्रीसंत को पत्र लिखकर अपने फैसले की सूचना दे दी गई है. गौरतलब है कि टीम इंडिया के पूर्व तेज गेंदबाज श्रीसंत ने 2013 स्पाट फिक्सिंग प्रकरण में अपने ऊपर लगा प्रतिबंध हटाने के लिए प्रशासकों की समिति (सीओए) से अपील की थी जिसके बाद बीसीसीआई के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) राहुल जोहरी ने यह पत्र भेजा है.

बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘बीसीसीआई ने उसे (श्रीसंत को) सूचित किया है कि उसका आजीवन प्रतिबंध बरकरार रहेगा और उसे प्रतिस्पर्धी क्रिकेट के किसी प्रारूप में खेलने की स्वीकृति नहीं होगी. उसने केरल में स्थानीय अदालत में भी अपील की है और हमारे वकील जवाब देंगे.’ सूत्र ने कहा, ‘बीसीसीआई ने भ्रष्ट गतिविधियों के खिलाफ हमेशा शून्य सहिष्णुता की नीति अपनाई है. किसी भी अदालत ने श्रीसंत को फिक्सिंग के आरोपों से मुक्त नहीं किया है. यह अंडरवर्ल्ड के साथ उसके संबंधों के आरोप थे जिन्हें निचली अदालत ने खारिज किया है.’ यह स्पष्ट कर दिया गया है कि ब्रिटेन में क्लब क्रिकेट खेलने की इच्छा रखने वाले श्रीसंत को स्वीकृति नहीं मिलेगी और बीसीसीआई ने उनके मामले को बंद कर दिया है. गौरतलब है कि श्रीसंत ने टीम इंडिया की ओर से 27 टेस्‍ट, 53 वनडे और 10 टी20 मैच खेले हैं. टेस्‍ट क्रिकेट में  87, वनडे में 75 और टी20 में सात विकेट उनके नाम पर दर्ज हैं. केरल के इस तेज गेंदबाज ने अपना आखिरी इंटरनेशनल मैच, टेस्‍ट के रूप में अगस्‍त 2011 में इंग्‍लैंड के खिलाफ ओवल में खेला था. श्रीसंत 2007 में टी20 वर्ल्‍डकप और 2011 में वर्ल्‍डकप जीती भारतीय टीम के सदस्‍य रह चुके हैं. (भाषा से इनपुट)

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement