NDTV Khabar

विराट कोहली नहीं, यह खिलाड़ी है टीम इंडिया में आज के दौर का बेहतरीन बल्लेबाज़

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ़ 'क्लीन स्वीप' तो नहीं हो सका लेकिन 4-1 से वनडे सीरीज़ जीतकर भारत ने नंबर 1 रैंकिंग हासिल कर ली. इसमें बड़ा योगदान रोहित शर्मा और अजिंक्य रहाणे की सलामी साझेदारी का रहा जिन्होंने लगातार 3 मैचों में शतकीय साझेदारियां कीं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
विराट कोहली नहीं, यह खिलाड़ी है टीम इंडिया में आज के दौर का बेहतरीन बल्लेबाज़

रोहित शर्मा ने नागपुर में अपने वनडे करियर के 6000 रन पूरे किए (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. रोहित-रहाणे ने लगातार तीसरे मैच में शतकीय साझेदारी की
  2. रोहित बोले, रहाणे के साथ मेरी ट्यूनिंग बहुत बढ़ि‍या है
  3. वनडे में ओपनर के रोल में आते ही रोहित ने रनों की झड़ी लगाई
नई दिल्‍ली: ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ़ 'क्लीन स्वीप' तो नहीं हो सका लेकिन 4-1 से वनडे सीरीज़ जीतकर भारत ने नंबर 1 रैंकिंग हासिल कर ली. इसमें बड़ा योगदान रोहित शर्मा और अजिंक्य रहाणे की सलामी साझेदारी का रहा जिन्होंने लगातार 3 मैचों में शतकीय साझेदारियां कीं. यह पहली बार है जब भारत के लिए लगातार 3 मैचों में सेंचुरी स्टैंड हुआ हो. यही नहीं, इसके साथ साल में सबसे ज्यादा 8 बार सेंचुरी पार्टनरशिप का वर्ल्‍डरिकॉर्ड भी भारत ने कायम किया. भारतीय टीम के उप कप्तान रोहित शर्मा ने कहा कि अजिंक्य रहाणे के साथ उनकी ट्यूनिंग अच्छी है क्योंकि वे पहले से ही मुंबई में एक साथ खेलते रहे हैं.चूंकि वे आपस में बात करते हैं तो साझेदारियां भी अच्छी हो रही हैं. उन्होंने कहा कि हम बात करते हैं कब रिस्क लेना है और कब नहीं .ये छोटी-छोटी बातें हैं जो लंबी साझेदारी बनाने में काम करती हैं.रहाणे ने सीरीज़ में काफ़ी अच्छा प्रदर्शन किया और नई गेंद को बेहतरीन तरीके से हैंडल किया. हमने लगातार तीन शतकीय साझेदारियां की जिसके लिए हमारा तालमेल ज़िम्मेदार हैं.

रोहित शर्मा के ओपनिंग पार्टनर बदलते रहे हैं. कभी लोकेश राहुल, कभी शिखर धवन और कभी अजिंक्य रहाणे लेकिन उनको लेकर कभी सवाल नहीं रहा. इसके पीछे वजह भी है ..2013 चैंपियंस ट्रॉफ़ी से उन्होंने जब ओपनिंग करना शुरू किया उसके बाद से कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. अंतर आंकड़े भी साफ़ बयां करते हैं.

यह भी पढ़ें:  इस कारण रोहित शर्मा के बजाय पंड्या को चुना गया 'मैन ऑफ द सीरीज'

2007 में डेब्यू के बाद से 2013 चैंपियंस ट्रॉफ़ी तक उन्होंने 88 मैचों में 2 शतक के साथ क़रीब 30 की औसत से रन बनाए. कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के उन्हें चैंपियंस ट्रॉफ़ी में बतौर ओपनर इस्तेमाल करने के बाद से 80 मैचों में 12 शतकों के साथ करीब 57 की औसत से रन बनाए हैं. तुलना सबसे कन्सिसटेंट विराट कोहली के साथ भी करें तो विराट की वनडे औसत करीब 55 की है और वे शुरुआत से ही नंबर3 या नंबर 4 पर आते रहे हैं.

ओपनर बनने से पहले तक रोहित शर्मा
 मैच- 88
रन- 2065
औसत- 30.82
सर्वश्रेष्ठ- 114
100/50- 2/13
स्ट्राइक रेट- 78.21

चैंपियन्स ट्रॉफ़ी 2013 से रोहित शर्मा
मैच- 80
रन- 3968
औसत- 56.68
सर्वश्रेष्ठ- 264
100/50- 12/21
स्ट्राइक रेट- 90.55

रोहित शर्मा ने अपनी बल्लेबाज़ी पर बात करते हुए कहा कि जबसे उन्होंने सलामी बल्लेबाज़ी करना शुरू किया है तबसे उन्हें पता है कि उन पर ज्यादा ज़िम्मेदारी है.टीम की सफलता और विफलता काफ़ी कुछ कुछउन पर निर्भर करती है. ऐसे में वे मैदान पर जाकर अपना प्राकृतिक खेल खेलते हैं उसके बारे में ज्यादा सोचते नहीं.यहां वो करते रहे हैं और आगे भी करते रहेंगे. रोहित ने नागपुर में शतक के दौरान वनडे में अपने 6000 रन भी पूरे किए ये 162 पारियों में  14 शतकों की मदद से आए.इस दौरान वो 6000 रनों के आंकड़े तक पहुंचने वाले तीसरे सबसे तेज़ भारतीय खिलाड़ी बने. रोहित से पहले विराट कोहली और सौरव गांगुली के नाम हैं

रोहित शर्मा का वनडे रिकॉर्ड
मैच- 168
रन- 6033
औसत- 44.03
सर्वश्रेष्ठ- 264
100/50- 14/34
स्ट्राइक रेट- 85.91

वनडे में सबसे तेज़ 6000 रन बनाने वाले भारतीय खिलाड़ी
विराट कोहली- 136 पारियां
सौरव गांगुली- 147 पारियां
रोहित शर्मा- 162 पारियां
एमएस धोनी- 167 पारियां
सचिन तेंदुलकर- 170 पारियां

यही नहीं, विश्व की टॉप टीम मानी जाने वाली ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ़ वनडे में शतकों के मामले में वे अब सचिन तेंदुलकर से पीछे और वेस्‍टइंडीज के पूर्व बल्लेबाज़ डेसमंड हैंस के साथ संयुक्त रूप से दूसरे स्थान पर खड़े हैं

टिप्पणियां
ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ वनडे में सबसे ज्यादा शतक
सचिन तेंदुलकर- 9
डेसमंड हेन्स/ रोहित शर्मा- 6
विराट कोहली- 5
ग्राहम गूच/वीवीएस लक्ष्मण- 4

वीडियो: टीम इंडिया की सीरीज जीत में रोहित शर्मा चमके
रोहित को ओपनिंग पर भेजने का फ़ैसला तब लिया गया था जब एमएस धोनी की कप्तानी में चैंपियंस ट्रॉफ़ी की टीम में वीरेंद्र सहवाग और गौतम गंभीर का चयन नहीं हुआ. तब काफ़ी सवाल उठे थे, जो लाज़मी भी थे. लेकिन आज किसी को कोई शिक़ायत नहीं क्योंकि शायद वनडे क्रिकेट में रोहित शर्मा इस दौर के सर्वश्रेष्ठ सलामी बल्लेबाज़ साबित हो रहे हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement