NDTV Khabar

लोकपाल डीके जैन ने Sourav Ganguly को लेकर BCCI को दिया यह बड़ा निर्देश

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
लोकपाल डीके जैन ने Sourav Ganguly को लेकर BCCI को दिया यह बड़ा निर्देश

Sourav Ganguly की फाइल फोटो

खास बातें

  1. सौरव का मुद्दा आसानी से हितों को प्रभावित करने वाला
  2. लोकपाल डीके जैन ने दिया सौरव को संदेह का लाभ
  3. लोकपाल की मार, अब सौरव पर गिरेगी गाज !
नई दिल्ली:

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के एथिक्स अधिकारी डी.के. जैन ने पूर्व कप्तान सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) को लेकर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई, #BCCI) को बड़ा निर्देश दिया है. यह निर्देश सौरव गांगुली को हितों के टकराव को लेकर दिया गया है. हालांकि, गांगुली को संदेह का लाभ भी दिया गया है, लेकिन इसके बावजूद डीके जैन ने बड़ी साफगोई के साथ बोर्ड को अपनी बात कह दी है. इसे लेकर जैन ने बीसीसीआई को एक पत्र लिखा है . लोकपाल डीके जैन (Ombudsman DK Jain) ने बोर्ड से साफ कह दिया है कि सौरव गांगुली का हितों का टकराव का मुद्दा 'टैक्टेबल' (आसानी से प्रभावित होने वाला) है और वह अपनी पदों को चयन करने पर ध्यान दें.

यह भी पढ़ें:   Virat और Rohit के बीच रेस बनी चर्चा का विषय, लेकिन Team India अलग वजह से चिंता में


 उन्होंने कहा, "हालिया मामले में, गांगुली को जो नोटिस दिया गया था जिसमें लिखा था कि अगर एथिक्स अधिकारी को लगा कि सीएसी में उनका रहना हितों के टकराव का मुद्दा है जो नियम 38 में है, ऐसे में इन शिकायतों को लेकर उनका जवाब तुरंत प्रभाव से उनके इस्तीफे के तौर पर मान लिया जाएगा. दूसरा यह कि उनका आईपीएल फ्रेंचाइजी से करार तुरंत प्रभाव से खत्म होगा. मैं यह साफ करता हूं कि इस मामले में हितों का टकराव ट्रैक्टेबल है और बीसीसीआई के यह सुनिश्चित करे कि गांगुली एक से ज्यादा पदों पर न रहें. 

यह भी पढ़ें:  दक्षिण अफ्रीका सीरीज के लिए भारतीय टेस्ट टीम का ऐलान, इस खिलाड़ी की अनदेखी पर प्रशंसक हैरान

उन्होंने कहा, "हालांकि यह साफ है कि कानून का ज्ञान न होना बहाना नहीं हो सकता. गांगुली को 38(2) के नियम के तहत जरूरी जानकारी देनी थी, लेकिन इस बात को ध्यान में रखते हुए कि नियम अगस्त 2018 से अस्तित्व में आया, मैं गांगुली को संदेह का लाभ दे रहा हूं कि शायद उन्होंने पद स्वीकार करते हुए यह पता न हो कि यहां हितों का टकराव है।"

VIDEO:  धोनी के संन्यास पर युवा क्रिकेटरों की राय सुन लीजिए. 

टिप्पणियां

उन्होंने लिखा, "साथ ही, मैं बीसीसीआई को निर्देश देता हूं कि वह इस बात को सुनिश्चित करे कि गांगुली ऐसी स्थिति से बचें जहां हितों का टकराव आड़े आए और उन्हें नियम 38 (4) के मुताबिक एक पद पर ही बने रहने दें"



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... बेटी की शादी कराने के बाद सास को हुआ दामाद से प्यार, एक साल बाद ही दिया बच्चे को जन्म

Advertisement